“Attack On Patrika” matter echoes in Parliament

7 05 2010

New Delhi / Indore / Jaipur | Recent attacks on Indore`s popular Hindi daily “Patrika” became the hot topic of discussion in Lok Sabha today. state industry minister Kailash Vijayvargia and legislator Ramesh Mendolah , who have been involved in Land frauds and other manipulations that triggered the formation of millions of worth, attacked all Patrika hawkers across Indore displaying absolute felony & inefficiency of the local administration. This has been opposed by Congress, RJD, including opposition parties and the state BJP government was asked questions regarding the issue.

Patrika`s print copies were burn & snatched from hawkers on thursday. The incident was strongly condemmned by the MP`s and said that this is a shameful incident & heights of felony. The MPs said this is sheer hooliganism. When Mahesh Joshi, Congress MP from Jaipur , took up this matter in parliament , at one-time it appeared that whole house stood behind them . Congress, RJD and SP which appeared very aggressive on this issue, the BJP seemed defensive. Yashwant Sinha and Aditya Nath Yogi tried to say something, but the opposition`s voices were so loud that his voice could not be heard.

Mahesh Joshi first raised a matter

Jaipur Congressman Mahesh Joshi first raised the issue as soon as the house began. . He said that incidents of burning the newspaper copies & snatchign them from hawkers is sheer insult of democracy . This also added that such incidents show the heights of felony by ruling BJP government in the state.

And MPs stood up too ..

As soon as Mahesh Joshi raised the issue in the House, other MP`s from Rajasthan, Harish Chaudhary, Gopal Singh Shekhawat, Ejrai Singh, kilareelaal Bairwa, Rattan Singh, Badri Jakhar & Bharat Ram Meghwal also stood up in support with equal voice against the ruling BJP government in the state.

Lalu also jumped in ..

Meanwhile, RJD supremo Laloo Prasad Yadav and senior party MP Raghuvansh Prasad Singh, also stood up in support of Mahesh Joshi & condemned the BJP state governments for allowing the felony . Congress MP from Uttar Pradesh Jagdmbika Pal & Rajaram Pal also stood up against the BJP.

Jyotiraditya Scindia slams the State BJP government

Jyotiraditya Scindia who is M.P from Madhya Pradesh also slammed.the State BJP government on the issue.Speaking fluent against the attack on Patrika, he said that this attack is an attack on Fourth Pillar of Democracy. Yashwant Sinha & Yogi Aditya of BJP tried to defend in between all this their voices could not be heard between such loud noice in the house.





JAIPUR LITERATURE FESTIVAL 2010

27 01 2010

“The Greatest Literary Show On Earth ! ”
21st – 25th January 2010, Diggi Palace
Jaipur

Exclusive Web Coverage : www.patrika.com
http://www.patrika.com/jaipur-literature-festival-2010/jaipur-literature-festival.html
The Jaipur Literature Festival is considered to be Asia’s leading literature event & undoubltely, the biggest completely free festival of literature in the world. It is a celebration of National and International writers and encompasses a range of activities including film, music and theatre.

The festivities continue at the 5th edition of Jaipur Literature Festival as the crowd keep increasing day after day to meet their favourite authors and artists again at Diggi palace.

The festival, which is now in its fifth year, showcased a wonderful mix of talks, panel discussions, lectures and readings by renowned authors from across the globe along with amazing evenings of World music concerts throughout the festival.

The Jaipur Literature Festival, which is rightly acclaimed as”The Greatest Literary Show On Earth”( by Tina Brown, Editor of The Daily Beast), showcased the best of Indian-language and English writing from India, along with hosting a Nobel laureate, a winner of the Samuel Johnson Prize, two Booker winners and five winners of the Pulitzer prize for Literature, as well as leading writers from the world of history, biography, literary criticism, and travel, in addition to the stars of the world of  fiction and the novel.  This year’s participating Writers included Hanif Kureishi, Niall Ferguson, Louis De Bernieres, Roberto Calasso, Amit Chaudhuri, Geoff Dyer,  Vikram Chandra, Tina Brown, Claire Tomalin, Michael Frayn, Mahasweta Devi, Shobhaa De Indira Goswami, Krishna Sobti, Krishna Baldev Vaid, Steve Coll, Stephen Frears, Pavan Varma, Lawrence Wright,  Christophe Jaffrelot, Ashi Dorji Wangmo Wangchuk, and Alexander McCall Smith. Most of these sessions were exclusively covered via Webcasting by Patrika.com . Click here to View the session videos & pictures.

http://www.patrika.com/jaipur-literature-festival-2010/jaipur-literature-festival.html

One of the nicer Objective of this festival was not only to allow readers the opportunity to interact with established and new writers, but also with those who are unknown and whose works are personally admired by the established authors & writers.Other highlights of the festival included readings from Girish Karnad’s Tughlaq by acclaimed actor Om Puri, performances by Titi Robin, Cheb I Sabbah, Susheela Raman, Djaima, Rajasthan Roots and Paban Das Baul, and readings and performances from William Dalrymple’s Nine Lives. There were many more events & sessions worth mentioning apart from the mentioned above but as they say one should see it to beleive it ! Click the link below to check all the sessions videos & pictures .

http://www.patrika.com/jaipur-literature-festival-2010/gallery-2010/pages/15.html
http://www.patrika.com/jaipur-literature-festival-2010/video.html





Entries open for the Third International KC Kulish International Award for Excellence in Print Journalism- 2009

13 01 2010

Rajasthan Patrika announces the Third KC Kulish International Award for Excellence in Print Journalism-2009. This annual award, intuited in 2007, in the sanctified memory of the founder of the newspaper group Karpoor Chandra Kulish, is aimed at recognizing efforts of the teams of journalists working in daily newspapers with a commitment to upholding professional values as well as protecting and promoting rights and freedom of the people for better quality of life.

The theme of this year award is ‘Inclusive Development’, seeking to honor journalists who have contributed most compelling stories in print impacting the lives and meeting the aspirations of marginalized groups of the community.

The award is open for entries till 15th February 2010. Winning team is awarded cash prize US $ 11,000 and a medal and certificate to each team members. The trophy and prize money is awarded to the institution or team leader (in case of independent team) on behalf of the team. Ten entries also receive special award of merit and given certificate & medal. There is no entry fee for the award. The entries should be based on published stories in daily newspaper  between 1st January 2009 to 31st December 2009.

Former President of India APJ Abdul  Kalam graced the first award ceremony in 2008 and Loksabha Speaker Meira Kumar bestowed the prizes to the winners of the second KC Kulish International award last year. Harinder Baweja and her team received the second KC Kulish award and Dawn and HT received joint award in 2007. The ceremony for the Third award will be held in the month of March this year. The application procedure and related details can be accessed on http://www.patrika.com/kckaward





इम्यूनिटी बढ़ाए आंवला और जिंक

5 10 2009

amlaसर्दी जुकाम दुनिया का सबसे आम रोग है और इससे छुटकारा पाने के तरीके भी सामान्य ही हैं। लेकिन जितनी अवधि तक यह रोग रहता है, हमें परेशान किए रहता है। अभी तक मानव समाज इसका कोई सटीक हल नहीं पा सका है। 12वीं सदी के चिकन सूप से लेकर आधुनिक जमाने के एंटीहिस्टामीन्स तक हमने सब आजमा लिए हैं। लेकिन जिसे खाते ही जुकाम छूमंतर हो जाए वह नुस्खा अभी तक हमें हासिल नहीं हो सका है।आधुनिक दवाओं में दर्द एवं ज्वर निवारक हैं, बंद नाक को खोलने वाली औषधियां हैं। खांसी को बंद करने वाले सिरप हैं, एंटीहिस्टामींस हैं। ये सभी तरीके कुछ हद तक कामयाब हुए हैं, लेकिन पूरी सफलता पाने में कोई काम नहीं आया। सामान्य सर्दी जुकाम होने के बाद उससे निजात पाने के लिए तो तरीके ढूंढ़े गए हैं, लेकिन इसकी रोकथाम के तरीकों को विकसित करने पर ध्यान कम ही दिया गया है। हालांकि आयुर्वेद जैसी प्राचीन परंपरा में रोकथाम पर ध्यान दिया गया है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता
आयुर्वेद हमें बताता है कि रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बना कर खांसी, सर्दी, खराब गले की समस्या से ठीक तरीके से निपटा जा सकता है। दूसरी ओर खांसी-जुकाम की आधुनिक दवाएं इस रोग से मुक्ति तो नहीं दे पातीं, किंतु इसके लक्षणों का इलाज करने में कारगर सिद्ध हुई हैं। इसलिए सर्दी जुकाम से निपटने के लिए हमें बहुविध दृष्टिकोण अपनाना होगा यानी इलाज की नई दवाओं के साथ-साथ रोकथाम के पुराने तरीकों को भी मिलाना होगा। इन दोनों को एक करने के लिए हमें बहुत ध्यान से काम करना होगा।

रोकथाम के पुराने तौर तरीके
– आंवला बहुत महžवपूर्ण है। आंवले को खांसी, सर्दी और श्वसनप्रणाली के अन्य संक्रमणों के उपचार हेतु प्रयोग किया जाता है। यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। आंवले में संतरे के मुकाबले 20 गुणा विटामिन सी होता है। सेब के मुकाबले आंवले में 3 गुणा अधिक प्रोटीन और 160 गुणा अधिक एस्कॉर्बिक एसिड होता है। आंवले में बहुत से खनिजोंऔर अमीनोएसिड की उच्च मात्रा होती है।
– अदरक की चाय बुखार को तोड़ती है और नाक, गले और फेफड़ों में जमा बलगम को हटाती है। यदि आप बेहद अधिक सर्दी जुकाम की स्थिति से गुजर रहे हैं ,तो दो चम्मच ताजा अदरक लेकर 2 कप पानी में डालें, इसको 30 मिनट तक धीमी आंच पर उबालें, हर दो घंटे बाद इस गुणकारी चाय का आनंद लें।
– सर्दी जुकाम में चिकन और सब्जियों का सूप बड़ा लाभकारी होता है। यदि आप अपने सूप में काली मिर्च मिला लें तो न केवल आपको कई प्रकार की पीड़ाओं से राहत मिलेगी बल्कि यदि बुखार है तो वह भी कम होगा।
– हर्बल चाय ऎसे में लाभकारी होती है। चंद्रगंधा की चाय या नीबू अथवा अदरक की चाय राहत प्रदान करती है। लहसुन भी जुकाम के इलाज में सहायक है।
– गर्म और चटपटी जड़ी बूटियां जैसे काली मिर्च, सूखी अदरक या चित्रक खांसी और सर्दी में फायदेमंद होती हैं।

आधुनिक उपचार
– जिंक ऎसिटेट एवं जिंक ग्लूकोनेट का प्रयोग नेजल स्प्रे और नेजल जैल में किया जाता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा करने की इसकी क्षमता के चलते इसका इस्तेमाल जुकाम ठीक करने वाली गोलियों में किया जाता है। हाल में हुए एक अध्ययन के परिणामों से मालूम चला कि जिंक की खुराक सर्दी जुकाम की अवधि को कम करती है। इस अध्ययन में जुकाम ग्रस्त लोगों को मीठी चूसने वाली गोलियों में जिंक को संयोजित करके दिया गया। नतीजे में पाया गया कि इन लोगों को जुकाम कम समय तक रहा, उन लोगों की तुलना में जिन्होंने जिंक का सेवन नहीं किया। वर्कज से हमें जिंक की पर्याप्त मात्रा मिल जाती है।
– खांसी के सिरप, गले के स्प्रे या ओटीसी पेन/कोल्ड दवाएं प्रयोग करें। साथ में गुनगुने नमकीन पानी का गरारा करें, खूब पानी पिएं और पूरा आराम करें।
– बंद नाक खोलने के लिए नेजल ड्रॉप्स प्रयोग करें या बाम मिलाकर गर्म पानी की भाप लें।
– अमरीकन लंग्स एसोसिएशन सलाह देती है कि कॉफी,
चाय, कोला पेयों से परहेज करें। शराब से भी दूर रहें। इन सभी चीजों से शरीर में पानी की कमी हो जाती है।
– पारंपरिक उपचारों और आधुनिक दवाओं दोनों का संयोजन करता है खांसी जुकाम में काम।
– सर्दी खांसी जुकाम से निपटने के लिए हमारे पास कोई एक सटीक रामबाण औषधि नहीं है। इसलिए हमें इन रोगों के निपटने के लिए बहुविध योजना अपनानी होगी। जिंक और आंवले का संयोजन बहुत कारगर है।

आंवला बरसों से विटामिन सी का सर्वोत्तम स्रोत रहा है । वैज्ञानिक आधार पर सिद्ध हो चुका है कि जिंक रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। इन दोनों के सेवन से शरीर का सुरक्षा तंत्र इतना मजबूत हो जाता है कि रोगाणु अधिक समय तक हमें प्रभावित नहीं
कर पाते। इस प्रकार बदलते मौसम के इन सामान्य संक्रमणों को पछाड़ने में और हमें फिट रखने में पुराने और नए तरीकों का सम्मिश्रण सबसे सटीक साबित होता है। इन दिनों आंवले और जिंक की खुराक लेने के लिए आप प्रतिदिन एक वर्कज का सेवन कर सकते हैं।





अंगुलियां बताए भविष्य

1 10 2009

handभविष्य पुराण के अनुसार जिनकी अंगुलियों के बीच छिद्र होता है, उन्हें आमतौर पर धन की तंगी रहती है। जिन लोगों की अंगुलियां आपस में सटी हुई होती हैं वे व्यक्ति धनी होते हैं। वरूण पुराण के अनुसार सीधी अंगुलियां शुभ एवं दीर्घायुकारक होती है।

– पतली अंगुलियां तीव्र स्मरण शक्ति का संकेत करती हंै।
– मोटी अंगुलियां धन के अभाव का संकेत करती है।
– चपटी अंगुलियां किसी के अधीन होकर कार्य करने की द्योतक मानी जाती हैं।

– जिन अंगुलियों के अग्रभाग नुकीले होते हैं ऎसे व्यक्ति दया, प्रेम, करूणावान होते हैं और कलाकार, संगीतकार होते हैं।

– चपटी अंगुलियों वाले व्यक्ति आत्मविश्वासी, परिश्रमी, लगनशील होते हैं। कार्यकुशल ऎसे व्यक्ति व्यवस्थित जीवन जीने वाले होते हैं।

– नुकीली अंगुलियों वाले व्यक्ति भावुक होते हैं। इनमें आत्मविश्वास की कमी पाई जाती है। इनकी जिंदगी में उतार-चढ़ाव बहुत आते हैं। इनके विचार तथा कल्पनाएं सुंदर होती हैं।

– वर्गाकार अंगुलियों वाले व्यक्ति दूरदर्शी, व्यवस्थित जीवन व्यतीत करने वाले, अनुशासन प्रिय होते हैं। आत्मविश्वास से भरे हुए ऎसे व्यक्ति परिश्रमी होते हैं।





रोने से बढ़ती है आयु

14 09 2009

6a00e398e05cc4000500fae8e2a358000b-500piआंखों से आंसू बहाने वाला अर्थात रोने वाला व्यक्ति दीर्घायु होता है तथा उसके चेहरे एवं त्वचा में निखार भी आता है, जिससे वह लंबे समय तक युवा दिखता है, लेकिन यह तभी संभव होता है जब किसी दुख या अन्य कारणों से वास्तविक आंसू निकलते हैं। विभिन्न अवस्थाओं में निकलने वाले आंसुओं में भिन्नता रहती है। फ्लोरिडा विश्वविद्यालय के सुप्रसिद्ध अनुसंधानकर्ता एवं नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. जेम्स ने अपने लंबे अनुसंधान के दौरान पाया कि रोने से अंदर की घुटन और तड़प आंसुओं के रू प में बाहर आ जाती है और व्यक्ति खुद को हल्का महसूस करता है। यही वजह है कि महिलाएं पुरूषों की अपेक्षा अधिक सुंदर, युवा एवं दीर्घायु दिखाई देती है क्योंकि पुरूषों की अपेक्षा प्राय: वे अधिक रोती हैं।





Patrika – All set to conquer the land of RATLAM

9 09 2009

Over a year ago when Patrika strongly entered in Bhopal & Indore and made a huge leap over all the other players in Madhya Pradesh, Patrika strategically went to Ujjain with amazing response. Now its all set to conquer the land of ‘Ratlam’, yet another important city in M.P.
Within a year Patrika connected with readers through several social initiatives like “Amritam Jalam”, “Vote 4 Vote” and an “Evening with Patrika” program. Beside this ,Patrika organized a lot of Public fairs & Exhibitions which received a huge response from general public as well as from advertisers.
Patrika is a fast emerging media group marching ahead as a leading media conglomerate in India. Patrika’s legacy is built upon its fearless, unique and independent journalistic pursuits, which has been carried as a motto right from its inception. It is the No. 1 choice of the Hindi readers of Rajasthan, Gujarat, Karnataka and Tamilnadu. At present it is published out of six states in India. The total readership of Patrika is 1 crore 40 lakh and 51 thousand readers (IRS 09).
The Print Industry has witnessed a sea change in its Newspaper readership trend giving a strong sense of fast occuring change in the reader’s habit & want for Quality Content due to Patrika’s strong presence. After demolishing the a 50 year old monopoly in MP’s 2 strongest forts, Bhopal & Indore, Patrika is all set to conquer the hearts of people in Ujjain & Ratlam. In just six months of launching patrika move to Expand to Ujjain & now to Ratlam shorty after 3 weeks of Ujjain launch, will certainly adds another feather in its cap.
Currently, Patrika enjoys a big lead over the rest of the players in Bhopal and Indore; in fact its readership is more than the numbers of both the 3rd and 4th major player in the state put together. Spreading its wings to important cities of Ujjain & Ratlam will further add strength to its wings .
With Patrika entering Ratlam, it is seen as a milestone step in its journey to provide Quality News & truth to the people of M.P.

National Head Marketing, Dr. Arvind Kalia states, “It is truly a great moment for Patrika team. After an amazing success story in Bhopal, Indore & Ujjain, we are now entering another popular city Ratlam, which is yet another important location in M.P and has great strategic importance.
Deputy Editor of Patrika Group, Mr. Bhuwanesh Jain states “Our entry in Ratlam, just few weeks after entering Ujjain is yet another milestone in our endeavor to fulfill the commitment to our readers. We will do our best to enlighten the journalistic values as we have been doing over the past 50 years. We are committed to the welfare of the society.

Readers can visit patrika.com to get live news updates from Madhya Pradesh and the rest of India.





आठ अजूबे इस दुनिया में

8 09 2009

हमने वही जानी पहचानी लोकतांत्रिक पद्धति का सहारा लिया। हमने समाज के कुछ लोग चुने और उनसे जाकर पूछा-आपकी नजर में ये आठ अजूबे हैं क्या। उनके जवाब कुछ ऎसे रहे…
1. टेलीविजन
अपने महादेश का पहला अजूबा है “टेलीविजन”। सारा देश इससे चिपका रहता है। बच्चे टीवी के चक्कर में खाना भूल जाते हैं और बड़े सोना। ऎसे-ऎसे दृश्य दिखाए जाते हैं कि बेटा बाप से ज्यादा ज्ञानी हो जाता है। एक कहावत है “करेला और नीम चढ़ा।” अजूबे में अजूबा है अपने न्यूज चैनल। क्या हाहाकारी प्रोग्राम आ रहे हैं- नाचती नागिन और नाग, भूत बंगले का रहस्य, पीपल के पेड़ का भूत, पिछले जनम की दास्तान। सामाजिक सीरियल देख बच्चे अपनी मम्मी से सवाल करते हैं-मम्मी-मम्मी आप भी प्रेरणा आंटी की तरह नई-नई शादी क्यों नहीं करतीं।

2. मोबाइल
हमारे ज्ञानी जजों ने दूसरा अजूबा करार दिया है “मोबाइल” को। जिसे देखो हाथ मे दबाए घूम रहा है। एक घर में पांच मैंबर और मोबाइल। खा रहे हैं तो बज रहा है। सो रहे हैं तो बज रहा है। ससुरा प्रेम करते वक्त भी चुप नहीं रहता। पल भर में सारा नशा काफूर। मोबाइल ने झूठ बोलना सीखा दिया। पति महाशय अपनी पुरानी माशूका से मिलने उसके घर जा रहे हैं और पत्नी को कह रहे हैं मंदिर जा रहा हूं, थोड़ी देर हो जाएगी। युवक व युवतियां एक-दूसरे को एसएमएस किए जा रहे हैं। महान गायक कौन करो एसएमएस। सबसे लोकप्रिय अभिनेत्री कौन करो एसएमएस। धोनी को लंबे बाल रखने चाहिए या काटने चाहिए करो एसएमएस।

3. हिंदी फिल्में
समकालीन जीवन का तीसरा अजूबा है हमारी “हिंंदी फिल्में”। जिंदगी से दूर। यथार्थ से परे। सपनों की दुनिया। पता ही नहीं चलता कौन किससे प्रेम कर रहा है। मेले में बिछड़े दो भाई अब ऑस्ट्रेलिया में जाकर दोस्त बन गए। नायिकाएं वैंप बन रही हैं। एक सीरियल किसर पैदा हो गया। फलां फिल्म में फलां हिरोइन ने कितने चुंबन दिए। फलां ससुर ने फलां बहू के किसिंग दृश्य फिल्म से हटवाए। गायक नायक बन रहे हैं नायक गायक। नायिकाएं एक गाने में आकर मटक जाती हैं और डेढ़ करोड़ झटक कर ले जाती हैं। पुरानी बोतलों में नई शराब भरी जा रही है।

4. क्रिकेट
चौथा अजूबा है “क्रिकेट”। बड़े बूढ़े कहते थे अंगे्रज मर गए औलाद छोड़ गए। हम कहते हैं फिरंगी चले गए क्रिकेट पटक गए। सारा देश क्रिकेट का दीवाना है। बिल्ली के भाग्य से सन् तिरासी में छींका क्या फूटा कि हम अपने को फन्ने खां समझने लग गए। जिसे देखो वहीं गेंद-बल्ला चला रहा है। कभी-कभी पदाधिकारी जूते भी चला देते हैं। अरबों की आमदनी सचिन की कमर में दर्द हो जाता है, तो सारा देश बैड रेस्ट करने लगता है। गांगुली के लिए आंदोलन होता है। धोनी पर लड़कियां टूट पड़ती हैं। खूब माल बंटता है। जिन्हें माल नहीं मिलता, वे जूतियों में दाल बांटने लगते हैं।

5. एनजीओ
हमारे दश का पांचवा अजूबा है “एनजीओ”। “कर सेवा और खा मेवा” यह वाक्य ऋषियों ने बनाया था। आज के एनजीओ का सूत्र वाक्य है “सेवा दिखा-मेवा कमा।” सेवा करने में क्या रखा है, बस सेवा करते दिखाना जरूरी है। सरकारी अनुदान खाओ मजे उड़ाओ। बाबू के पांच सैंकड़ा, छोटे अफसर के सात सैंकड़ा, अफसर के पंद्रह सैंकड़ा। दस सैंकड़ा में कौवे, कुत्ते और गौ माता। अगर सौ में से सैंतीस फिसदी दान करने का कलेजा है, तो बेटा तेरे एनजीओ को ऊपर वाला भी अनुदान देने से इनकार नहीं कर सकता। हालांकि वह तो भाव का भूखा है। प्रसादी में ही राजी हो जाता है।

6. राजनीति
छठा अजूबा है “पॉलिटिक्स”। आज हमारे देश में चपरासी बनने के लिए भी मिडिल पास होना चाहिए। पर मंत्री बनने के लिए न पढ़ाई की जरूरत है न लिखाई की। जिसके हाथ में लाठी वही राजनीति की भैंस हांकने लग जाता है। मंत्री का बेटा मंत्री बनना तय है। जनता का बेटा जूतियां चटखाता घूमता है। नेता का पुत्र पैदा होते ही सरकारी कार पा जाता है। कहने वाले कहते हैं कि मेरे देश का नेता सौ में से नब्बे बेईमान, फिर भी मेरा देश अपने को कहता है महान।

7. हंसी
आज के युग का सातवां अजूबा है “हंसी”। यह खबर पढ़कर गश आ गया कि सौ चुटकुलों ने एक हजार करोड़ का कारोबार कर डाला। यह सुनते ही हमारा मन हुआ कि सारे पुस्तकालय फूंक डालें। किताबें जला दें। डिग्रियां फाड़ दें। बस चुटकुले याद करें। हंसे और हंसाए। हंसी का यह आलम हो गया कि महाशय जुगाली चंद्रजी ने अपनी वसीयत में लिखा कि मेरे बारहवें पर सिद्धू, शेखर और पेरिजाद कोला के संग बारह हंसोड़ों के बुलाना और उन्हें श्राद्ध खिलाना।

8. अपनी जोड़ी
तो जनाब ये तो हुए सात अजूबे। पर आठवां अजूबा है “अपनी जोड़ी”। अपनी जोड़ी मे कोई भी दो हो सकते हैं जैसे मियां-बीवी, सास-बहू, बाप-बेटा, दोस्त-दोस्त, प्रेमी-प्रमिका, लड़का-लड़की, नेता-कुर्सी, काला धंधा-पूंजी अर्थात जो भी दो चीजें मिल कर मुनाफा कमा लें, वहीं आठवां अजूबा है। ज्ञानीजनों हमें माफ करना। ये अजूबे हमारे दिमाग की उपज नहीं हैं। हमने तो जैसा सुना वैसा लिखा। अगर आपको “आरती” उतारनी हो, तो उन लोगों की उतारना जिनके बारे में हमने अजूबा-कथा के प्रारंभ में बताया था।





योग : आंखों के लिए आसन

29 08 2009

दिनभर के काम से आंखों का थक जाना आम बात है, इससे हमें परेशानियां झेलनी पड़ती हैं। इससे निजात पाने के लिए आइए कुछ अभ्यास सीख लें।

पॉमिंग : किसी भी आरामदायक स्थिति में बैठ जाएं और कुछ पल के लिए आंखें बंद कर लें। दोनों हथेलियों को आपस में तेजी से रगड़ें, ताकि वे गरम हो जाएं। उसके बाद दोनों हथेलियों को आंखों की पलकों पर रखें और हाथ की ऊर्जा को बंद आंखों से धारण करें। कुछ ही पल में आप आराम महसूस करेंगे। जब तक हथेलियों की गर्मी को महसूस करें, तब तक इसी अवस्था में रूकें। उसके बाद हथेलियों को हटा लीजिए। आंखें बंद ही रखें और इस क्रिया को तीन बार दोहराएं।

विशेष : अंगुलियों से आंखों पर दबाव न डालें। सिर्फ हथेलियों के बीच के भाग से ही आंखों को ढकें।

लाभ : जब भी आप पढ़ाई करते समय, टेलीविजन देखने, कंप्यूटर पर काम करने या किसी भी कारण से आंखों में तनाव महसूस करें, तब इस क्रिया का अभ्यास जरूर करें।





लंबाई नहीं बढ़े तो!

29 08 2009

heightक्या आपक ा बच्चा अपने हम उम्र बच्चों से लंबाई में छोटा है यदि हां, तो अभी से चेत जाइए। हो सकता आपके बच्चे की लंबाई “सीलिएक डिजीज” की वजह से नहीं बढ़ रही हो। ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज [एम्स] नई दिल्ली में हुए एक अनुसंधान के निष्कर्षों से पता चला है कि बच्चों की लंबाई नहीं बढ़ने का एक प्रमुख कारण सीलिएक डिजीज है।

क्या है सीलिएक
सीलिएक यानी गेहूं से एलर्जी की बीमारी। दरअसल सीलिएक रोग में गेहूं से एलर्जी के कारण उसमें पाए जाने वाले “ग्लूटेन” प्रोटीन का शरीर में पाचन नहीं हो पाता और मरीज की छोटी आंत की विलाई नष्ट होने लगती है। गेहूं अपने आप में बुरा नहीं है, लेकिन गेहूं में पाए जाने वाले कुछ तžवों [प्रोटीन] से कई लोगों को एलर्जी हो जाती है, तो उनको सीलिएक रोग हो जाता है। यह ठीक वैसा ही है, जैसे किसी व्यक्ति को किसी दूसरे तžवों [चीजों] से एलर्जी हो जाती है और वह अस्थमा ग्रस्त हो जाता है। प्रभावित व्यक्ति में दस्त, पेट फूलना, सर्दी जुकाम, रक्त की कमी, अस्थमा, शारीरिक वृद्धि रूक जाना जैसी शिकायतें रहने लगती हैं।

कौन प्रभावित होता है
वैसे तो सीलिएक डिजीज किसी भी उम्र के मरीजों में पाई जा सकती है, पर सबसे ज्यादा यह बीमारी बच्चों में डायग्नोस की जाती है।

एम्स में शोध
ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, नई दिल्ली
में एंडोक्राइनोलॉजी एंड मेटाबॉलिज्म डिपार्टमेंट के वैज्ञानिकों ने एक रिसर्च में पाया कि लंबाई नहीं बढ़ने की शिकायत लेकर आए 100 बच्चों में 18 बच्चों को सीलिएक डिजीज है। पेट के लक्षणों के अलावा इस बीमारी का एक प्रमुख लक्षण है बच्चों की लंबाई नहीं बढ़ना। ऎसा भी संभव है सीलिएक डिजीज से ग्रस्त बच्चों में लंबाई नहीं बढ़ने के अलावा दूसरे कोई लक्षण ही नहीं हों।

अत: ऎसे बच्चे जिनकी लंबाई नहीं बढ़ रही हो एक साधारण ब्लड टेस्ट [टीटीजी] कराकर सीलिएक डिजीज की पहचान की जा सकती है। समय पर सही डायग्नोसिस और उपचार से बच्चों को राहत मिल सकती है।

क्या है उपचार
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में असिस्टेंट प्रोफेसर एवं एंडोक्राइनोलॉजिस्ट डॉ. राजेश खड़गावत कहते हैं, “एक बार सीलिएक डिजीज डायग्नोसिस हो जाए, तो गेहूं से बनी हुई चीजें जीवन भर के लिए बंद करनी पड़ती हैं।”

क्या खाएं
चावल, चिवड़ा, मुरमुरा, अरारोट, साबूदाना, मक्का, ज्वार, बाजरा, सिंघाड़े का आटा, कुट्टू का आटा, आलू का आटा, दूध और दूध से घर में बने पदार्थ, मक्खन, घी, मछली, चिकन, अंडा, सभी दालें, सभी फल, सब्जियां, चाय, कॉफी, शहद, रसगुल्ला, घर के बेसन की बनी चीजें, इडली, डोसा, सांभर बड़ा, पॉपकॉर्न, चना [भूंगड़े], चावल के नूडल्स, पेठा इत्यादि।
क्या नहीं खाएं

गेहूं, गेहूं का आटा, मैदा, पूरी, सूजी, सेवइयां, जौ, जई, समोसा, मठरी, पैटीज, ब्ा्रेड, दलिया, बाजार की आइसक्रीम, चॉकलेट, दूध, शैक, बर्फी, जलेबी, सॉस, टॉफी, कस्टर्ड पाउडर, बॉर्नविटा, बूस्ट, गुलाब जामुन, बिस्कुट, प्रोटीन पाउडर, रेडिमेड कॉर्नेफ्लेक्स।





लिखिए स्वस्थ रहिए

24 08 2009

लिखते समय आप खुद का ही सामना करते हैं। यह खुद को समझने का स्वर्णिम अवसर होता है।
गम भूलाने के लिए कविता को सबसे अघिक प्रभावी थैरेपी माना गया है। अमरीका की मनोचिकित्सक जैक लिडी वह पहली महिला थी, जिसने रोगियों की चिकित्सा के लिए 1950 में कविता या कविता के अंश का उपयोग किया। अपनी पुस्तक “पोएटिक थैरेपी” में उन्होंने इसकी विस्तृत चर्चा की है। उन्होंने एसोसिएशन ऑफ पोएटिक थैरेपी का गठन भी किया था। एक गीतकार ने लिखा भी है, “है सबसे मघुर वो गीत जिन्हें हम दर्द के सुर में गाते हैं।”

“अपना गम लेकर कहीं और न जाया जाए, कागज-कलम लेकर कुछ लिखा ही जाए।” जी हां, जब भी आपका मन उदास हो, भीतर तूफान उठा हो, क्लेश से जीवन अशांत हो, कलम उठाओ और लिखना शुरू कर दो। कुछ भी लिखें, कविता, कहानी, आत्मकथा, डायरी… सचमुच आप राहत महसूस करेंगे। यकीन न हो, तो स्वयं करके देख लीजिए। विशेषज्ञ भी यही कह रहे हैं राइटिंग एक थैरेपी है सम्पूर्ण पद्धति, जो आपकी मन:स्थिति को बदल देती है। दरअसल तन-मन को तरोताजा कर देने वाली राइटिंग थैरेपी वर्तमान में सर्वाघिक हॉटेस्ट चिकित्सा पद्धति है, क्योंकि यह नई है और कारगर भी।

अंतर्मुखी स्वभाव के लोग अक्सर अपनी परेशानियों को लेकर अंदर ही अंदर घुटते रहते हैं, वे अपनी पीड़ा किसी को नहीं बताते। यदि उन्हें लिखने के लिए कह दिया जाए, तो गमों से उनका घ्यान बंटेगा। वे अपनी पीड़ा को व्यक्त कर पाएंगे। उनके दर्द कम होंगे और इस तरह लेखनी उनकी हमदर्द बन जाएगी। महान साहित्यकार प्रेमचंद ने तो कहा ही यही है कि लिखते तो वे लोग हैं, जिनके अंदर कुछ दर्द है, अनुराग है, लगन है, विचार है।

लेखन की शक्ति को मनोचिकित्सक भी मानते हैं। दिल्ली के मनोचिकित्सक डॉ. अवघेश शर्मा अपने रोगियों को लिखने की सलाह देते हैं। “डिस्ट्रेस टू डिस्ट्रेस” पुस्तक में वे लिखते हैं कि लेखन हमारे विचारों की दशा और तनावजनक स्थितियों से उपजी समस्याओं को समझने में सहायता करता है। समस्या के समझ में आते ही समाघान भी तुरंत मिल जाते हैं। अपोलो अस्पताल के सलाहकार चिकित्सक डॉ. अचल भगत भी अपने रोगियों से लिखने का आग्रह करते हैं। उनके अनुसार चिकित्सा की इस कॉग्रिटिव प्रणाली में रोगियों की मानसिकता को बदलने एवं उनकी समस्या के समाघान की क्षमता होती है।

दस साल की बिन मां-बाप की बच्ची संजू अपनी छोटी-छोटी बातें डायरी में लिखकर अकेलापन दूर करने की कोशिश करती है। सविता ने अपने तेरह साल के बच्चे के निघन के बाद लिखना शुरू किया, इस लेखन ने उसके इतने बड़े गम को भूलाने में मदद की। उसे शब्दों की शक्ति का अनुमान हुआ। मुम्बई निवासी निम्मी कुमार का लिखना तो उदाहरण ही बन गया है। बच्ची की बीमारी से दुखी निम्मी ने 1986 में शिरड़ी सांईबाबा का नाम सवा लाख बार लिखने का संकल्प लिया। 50 हजार से ऊपर नाम लिखने के बाद उसने नाम को सीघा-सीघा न लिखकर कुछ इस तरह कलात्मक ढंग से लिखा कि गणेश की आकृति बन गई। इसी से प्रेरित होकर उसने यही नाम बड़े कैनवास पर लिखना शुरू कर दिया। गणेश के बाद उसने शिव, दुर्गा आदि के चित्र बनाए। आलम यह है कि आज उसकी पेंटिंग्स की संख्या 300 से ऊपर हंै। उसकी एकल प्रदर्शनी दिल्ली, मुंबई सहित विदेशों में भी आयोजित हो चुकी है।
इस मुकाम पर पहुंचने के बाद निम्मी कहती हैं कि इस लेखन ने मेरे लिए थैरेपी का ही काम किया है। इसने मुझे कठिन परिस्थितियों मे जीने का संबल दिया, कार्यो में एकाग्रता प्रदान की और असीम शक्ति दी।

पंजाबी की विख्यात लेखिका अमृता प्रीतम भी लेखन को थैरेपी मानती थीं। उनका कहना था कि लिखते समय आप खुद का ही सामना करते हैं। यह खुद को समझने का स्वर्णिम अवसर होता है। पर इससे भी महžवपूर्ण है कि “क्या आप कभी साक्ष्य बने हैं-योग अथवा आघ्यात्मिकता के उच्चतम आदर्श का-आप अनुभव या लेखन करते हैं और साक्ष्य भी बनते हैं। अन्य लेखक भी लेखन को थैरेपी मानते हैं या नहीं यह उनके जागरूकता के उच्चतम स्तर पर पहुंचने की उत्कंठा पर निर्भर करता है। यदि वे मात्र ख्याति प्राप्त करने के लिए लिख रहे हैं तो वह व्यर्थ है।”

पुलिस पदाअघिकारी किरण बेदी का भी यही मानना है कि लेखन थैरेपी है। आपने जो लिखा है, आप उसे देख सकते हैं, पढ़ सकते हैं और उसकी समीक्षा भी कर सकते हैं। वास्तव में आप दो व्यक्तियों मे बंट जाते हैं, लेखक और पाठक। किरण बेदी ने तिहाड़ जेल के कैदियों को भी अपनी भावनाओं को लिखने की सलाह दी थी, जिसका संकलन बाद में हिंदी, अंगे्रजी और उर्दू में प्रकाशित करवाया गया। लेखन घ्यान की तरह है। यह मस्तिष्क को स्थिरता प्रदान करता है, तनाव कम करता है, जीवन खुशियों से भर देता है। यही नहीं सोच और मनोवृत्ति को भी बदल देता है ।आप अंतर्मुखी से बहिर्मुखी होने लगते हैं, नकारात्मक सोच की बजाय सकारात्मक सोच विकसित करता है। लिख कर आप स्वस्थ और तरोताजा महसूस करते हैं।

इस तरह लेखन चिकित्सा का एक रूप हो सकता है। अगर आपका मन यह स्वीकार नहीं करता, तो भी क्या बुराई है लेखन में। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है, न ही आपको कोई शुल्क चुकाना है। तो फिर न झिझकें, उठाएं कागज-कलम और लिखें अपने विचारों और भावनाओं को। क्या लिखना है, नहीं लिखना है, कैसे लिखना है, लिखना है या नहीं यह अब आपके हाथ में है।





Patrika – Coming Soon to Ujjain

12 08 2009

Few months after Patrika challeged the leading Newspaper in Bhopal & Indore and leads over all the other players in the region, it is now stepping a foot forward in another strategically important city  Ujjain.

Madhya Pradesh, the only state where monopoly existed in the Hindi belt of newspaper market has witnessed a sea change. The leader’s 50 years old monopoly has been finally demolished. The recently launched newspaper; Patrika, which comes from the Patrika Group has 5 lakh 75 thousand readers in Bhopal and Indore, this puts it neck to neck with the said leading daily, in just six months of launching. The Expansion to Ujjain will certainly add strength to Patrika’s efforts in becoming the overall leading daily in M.P.

Currently,Patrika enjoys a big lead over the rest of the players in Bhopal and Indore; in fact its readership is more than the numbers of both the 3rd and 4th major player in the state put together.

Elated National Head Marketing, Dr. Arvind Kalia states, “ It is truly a great moment for Patrika team. After an amazing launch in Indore & Bhopal , We are entering Ujjain which is yet another important location in M.P with great strategic importance. When we entered MP an year ago, we came with a commitment that we shall always maintain a high level of quality. I thank the readers and advertisers of MP who have shown their faith in the newspaper & given us the confidence to Expand our wings to Ujjain as well.”

It is interesting to compare what Bhaskar has achieved in 50 years, Patrika has achieved in just 6 months putting the leader in a defending position in Bhopal and Indore. Dainik Bhaskar is already witnessing a continuous decline in its readership of Bhopal and Indore editions, since IRS R2 07. From 20.85 lacs readers in R2 07, the readership has declined by 21% to 16.45 lacs, whilst the ad rates were always sky-high, because of which the CPT for the advertisers rocketed from Re.0.60 in R2 07 to Rs. 1.07 in R1 09 an increase of 78%! Now with Patrika entering Ujjain, it is seen as a milestone step in its journey to Provide Quality News & truth to the people of M.P.

Dr. Kalia says, “Bhopal and Indore together contribute to 74% of the total ad spends on the state of MP,Adding Ujjain to our armour will afurther strenghten our Marketing efforts & strategies in M.P. Patrika is already on the way to capture the major share from advertisers in many sectors. To name a few, for the month of May 09 – Patrika has a 100% ad share of educational clients such as Resonance, FIT JEE, Asia Pacific, IT Bench, Gupta tutorials and many others in Indore. In Bhopal also, Patrika has ad share of more than 50% in segments like real estate, lifestyle, automobile and education..

A very confident & elated Deputy Editor of Patrika Group, Mr. Bhuwanesh Jain states “We at Rajasthan Patrika are strongly committed to our reader’s desire in providing quality news & truth under all circumstances. Our entry in Ujjain is yet another milestone in our endeavor to fulfill the above said commitment to our readers. We are now entering Ujjain and we will do our best to enlighten the journalistic values as we have been doing over the past 50 years. We are committed to provide true news from the roots of the land”.

http://www.patrika.com





Crime Prevention begins at home : बच्चों को चाहिए इमोशनल टच

10 08 2009

how-to-stop-crime-743137
सोलह वर्षीय ब्रेन्डा स्पेन्सर को उसके जन्मदिन पर गिफ्ट के रूप में रायफल मिली। उसने अपने सैन डिएगो स्थित घर के नजदीक एक प्रायमरी स्कूल में बच्चों पर गोलियां चला दीं। दो बच्चों की जान चली गई। नौ घायल हो गए। इस बाबत उससे पूछा गया तो उसका जवाब था मुझे सोमवार पसंद नहीं है। मैंने जो कुछ किया, उससे वह सोमवार जीवन्त हो उठा।

टैक्सास के एलिस काउंटी में गांव की एक सड़क पर दो लाशें पड़ी मिलीं। उनमें से एक चौदह वर्षीय लड़के की थी, जिसे गोली मार दी गई थी। लेकिन, दूसरी लाश एक तेरह वर्षीय लड़की की थी, जिसके साथ बलात्कार करके उसे मार कर लाश को क्षत-विक्षत किया गया था। उस लड़की की लाश से उसका सिर और हाथ गायब थे। हत्यारा बाद में पकड़ा गया, जिसका नाम जेसन मेसी था। मेसी ने तय किया था कि वह ऎसा कुख्यात सीरियल किलर बने जैसा टैक्सास के इतिहास में दूसरा कोई नहीं हुआ। वह जब नौ वर्ष का था तो उसने सबसे पहले एक बिल्ली की हत्या की। बाद में कई कुत्तों और गायों की हत्या की। उसकी डायरी में युवतियों के साथ बलात्कार, हत्याओं और नरभक्षी की कई काल्पनिक कहानियां लिखी मिलीं। वह मानता था कि वह उस मालिक की सेवा कर रहा है, जिसने उसे ज्ञान और शक्तिदी है। उस पर लड़कियों की हत्याएं करने और लाशों को कब्जे में रखने का पागलपन सवार था।

फ्लोरिडा के नौ वर्षीय जेफ्रे बैले ने एक तीन वर्षीय बच्चे को मोटल के तरणताल में गहरे पानी में ले जाकर डुबोया और तरणताल के किनारे कुर्सी लगाकर बैठ गया। वह उसे तब तक देखता रहा, जब तक उसकी जान नहीं चली गई। वह किसी को डूब कर मरते हुए देखना चाहता था। जब उससे पूछा गया तो वह शान से पूरा वृतांत बताता रहा उसने जो कुछ किया उसका उसे लेश-मात्र भी दुख नहीं था।

ये कुछ बच्चों के उदाहरण हैं, जो विकृत मस्तिष्क के थे। ऎसी घटनाओं से यह बात स्पष्ट हो जाती है कि पागलपन केवल वयस्कों में ही नहीं होता। बाल विशेष्ाज्ञों का विश्वास है कि बच्चों में पागलपन निरंतर बढ़ता जा रहा है। एक शोध में इन बच्चों को पागल बच्चे (साइकोपैथ) करार दिया गया है। कहा गया है कि ये बच्चे वयस्क पागलों से भी अधिक खतरनाक हैं। हो सकता है कि ये हत्या जैसा जघन्य अपराध न कर पाएं या उनमें ऎसा अपराध करने का दुस्साहस न हो। लेकिन, वे अपने लाभ के लिए दूसरों का अहित करने, उन्हें धोखा देने और उनका शोषण करना सीख जाते हंै। समझा जाता है कि ऎसे बच्चों में सहानुभूति का वह भाव पनप नहीं पाता, जिसके कारण लोग दूसरे के दुख को महसूस कर पाते है। उनमें इसकी बजाए क्रोध, बेईमानी, घमंड, बेशर्मी और निर्दयता की भावनाएं पैदा होने लगती हैं।

न्यूयॉर्क टाइम्स ने अमरीका में हत्या के आरोपियों के पिछले पचास वर्षो के इतिहास में से करीब सौ मामले लिए और उनमें से किशोर वय के 19 हत्या के आरोपियों को अध्ययन के लिए छांटा। इससे पता लगा कि जहां वयस्क अपराधी अपराध की वारदात अकेले ही करना पसंद करते हैं, वहीं बच्चे अपने साथियों के सहयोग से जघन्य अपराध को अंजाम देते हैं। पिछले बीस वर्षो में हुई स्कूली हिंसा के बीस मामलों में नेशनल डेंजर एसेसमेंट एसोसिएशन की सीक्रेट सर्विस ने यह पाया कि अपराध करने से पहले बच्चे किसी न किसी को यह बताते रहे हैं कि वे क्या करने जा रहे हैं, ऎसे बच्चों में से आधे का मानसिक संतुलन बिगड़ा हुआ था।

कनाडा के विशेषज्ञ डॉ. डेविड लाइकेन के अनुसार असामाजिक व्यवहार करने वाले अधिकांश बच्चों का विकास मां-बाप के साए में अच्छी तरह नहीं होता। या तो उनके पिता नहीं होते या पिता उनकी सही देखभाल नहीं करते और उनकी माएं भी उन्हें समाज में रहने के तौर-तरीके सिखाने पर ध्यान नहीं देती। लाइकेन ऎसे बच्चों को सोशियोपैथ कहते हैं और उनका मानना है कि उनके सामाजिक जीवन में सुधार कर उनकी संख्या घटाई जा सकती है। उनका कहना है कि अपराध प्रवृत्ति का कारण आनुवांशिक भी होता है। लेकिन, इस तरह मिली आनुवांशिक प्रवृत्तियों को मां-बाप अच्छे लालन-पालन से बदल सकते हैं। उन बच्चों में आनुवांशिकता में मिली अपराध की भावना को निडरता, पहल करने की प्रवृत्ति तथा संवेदनशीलता के गुणों में भी बदला जा सकता है।

यह मां-बाप पर निर्भर करता है और जहां मां-बाप अपने इस दायित्व को निभाने में असफल रहते हंै, वहीं बच्चे हिंसक हो उठते हैं। वे कहते हंै कि अच्छे लालन-पालन से उन्हें बदला जा सकता है। कुछ अध्ययनों में बताया गया है कि पागल बच्चों के मस्तिष्क में असामान्य हलचलें होती हैं। कुछ परिस्थितियों में उनमें अन्य बच्चों की तुलना में देर से प्रतिक्रिया होती है। जैसे सजा मिलने का भय उनमें सामान्य बच्चों की अपेक्षाकृत कम होता है। उन्हें वे काम करने में ज्यादा मजा आता है, जिनसे उनके नर्वस सिस्टम में उत्तेजना पैदा होती है। बाल विकास के क्षेत्र में कई अनुसंधानकत्ताüओं का विश्वास है कि बच्चे का यदि अपने मां-बाप से भावनात्मक जुड़ाव गहरा हो तो उसके हिंसक होने की आशंकाएं घट जाती हैं। व्हाय वर सन्स टर्न वाइलेंट एंड हाऊ वी केन सेव देम पुस्तक के लेखक डॉ. जेम्स गर्बारिनो का कहना है कि बाल विकास मूलत: सामाजिकता से जुड़ा है।

बच्चों और बाहरी दुनिया के बीच संबंधों में उससे स्नेह करने वाले माता-पिता महत्वपूर्ण कड़ी हंै। बच्चे संबंधों के जरिए ही बाहरी दुनिया से जुड़ पाते हैं। जो बच्चे हत्या जैसे जघन्य अपराध में लिप्त हो जाते हैं, वे दरअसल बाहरी दुनिया से सही ढंग से जुड़ नहीं पाते। बच्चे में अगर क्रोध, प्रतिरोध, अविश्वास, घृणा, संशय के दोष उत्पन्न होते हैं तो इसका कारण यह है कि जन्म के नौ माह में उसका लालन-पालन ढंग से नहीं हुआ। अध्ययन के अनुसार जिन बच्चों का जन्म के बाद पहले नौ माह में लालन-पालन अच्छे ढंग से होता है, वे बाद के जीवन में अधिक प्रतिस्पर्द्घी तथा सामंजस्य का जीवन जीते हैं। अपने जीवन के पहले नौ माह में से भी पहले तीन माह नवजात शिशु अपना संबंध अपने माता-पिता से जोड़ने का प्रयास करता है। कुछ नवजात शिशु सरल होते हैं, जबकि कुछ जटिल प्रकृत्ति के।

माता-पिता को इस संबंध को प्रगाढ़ बनाने के लिए अपनी तरफ से प्रयत्न करने पड़ते हैं। इन आरंभिक माह में बच्चे से संबंध जोड़ना वैसे भी बहुत मुश्किल होता है। एक-दो माह के बच्चे को अगर उसके लालन-पालन के दौरान कई हाथों से गुजरना पड़े तो वह किसी से भी गहरा संबंध नहीं जोड़ पाता। ऎसे बच्चे को जब कोई उठाएगा तो वह उससे आंखें नहीं मिलाता बल्कि उनकी हरकत का प्रतिरोध करेगा। ऎसे बच्चों की माताओं को प्रयत्न करना चाहिए कि जब वे अपने बच्चों को स्तन-पान कराएं तो कोशिश करें कि बच्चा उनसे आंख मिलाते हुए दूध पीए। बच्चे का अपनी मां से जुड़ाव गहरा होता है।

दूध, मांस, फल तथा सब्जियां जिस तरह शरीर के लिए जरूरी है, उसी तरह बच्चे को संतुलित अवस्था में भावनात्मक पोषण की भी आवश्यकता है। माता-पिता का यह दायित्व है कि वे बच्चे को समाज से जोडे और उनमें वे गुण पैदा करें कि वे समाज में बुराइयों की पहचान कर सकें और उनसे दूर रह सकें। अनुसंधानों से यह भी पता लगा है कि बच्चे में गर्भावस्था के दौरान ही हिंसक भाव विकसित होने लगते हैं। नवजात शिशु को संतुलित आहार के साथ संतुलित भावनात्मक पोषण भी मिलना चाहिए। उसके अच्छे चरित्र का निर्माण हो सकेगा।





पाएं खुशियां ही खुशियां

8 08 2009

चिंता अच्छे से अच्छे आदमी को बीमार बना सकती है। चिंता को जीतने का सर्वश्रेष्ठ तरीका समस्या का विश्लेषण कर उसके अनुसार हल निकालना है। चिंता के बारे में सोचें, मगर उसे स्वयं पर हावी न होने दें। प्रसिद्ध दार्शनिक और चिंतक डेल कारनेगी ने अपनी पुस्तक “चिंता छोड़ो, सुख से जियो” में चिंता दूर करने के कई कामयाब नुस्खे बताए हैं। इनमें से आपके लिए पेश हैं चुनिंदा फार्मूले।
पहला फार्मूला
इससे पहले की चिंता आपको खत्म करे आप चिंता को खत्म कर दें।
वह रात मुझे याद रहेगी जब मैरियन जे. डगलस ने हमें क्लास में अपनी आप बीती सुनाई। उसने हमें बताया कि कैसे उसके घर में दो हादसे हुए। पहली बार उसकी प्यारी सी पांच साल की बच्ची मर गई और दस माह बाद पैदा हुई एक और लड़की पांच दिन में ही चल बसी।
यह दोहरा हादसा असहनीय था। मैरियन ने कहा, “मैं इसे नहीं झेल पाया। मैं न तो सो पाता, न खा पाता, न ही आराम कर पाता। मेरी हिम्मत टूट चुकी थी और मेरा आत्मविश्वास जवाब दे चुका था। ऎसा लगता था जैसे मेरा शरीर किसी शिकंजे में जकड़ा हो और शिकंजा लगातार कसता जा रहा हो। परन्तु ईश्वर की कृपा से मेरा एक बच्चा जीवित था। मेरा चार साल का पुत्र। उसने मेरी समस्या सुलझा दी। एक दोपहर जब मैं दुख में डूबा बैठा था तो, उसने आकर कहा, “डैडी मेरे लिए बोट बना दो।” उस समय कुछ भी करने का मूड नहीं था। परन्तु मेरा बेटा जिद्दी था। आखिरकार मुझे हार माननी पड़ी। उसकी टॉय बोट बनाने में मुझे तीन घंटे लगे। जब मैंने बोट पूरी बना ली तब जाकर मुझे अहसास हुआ कि दरअसल महीनों की चिंता के बाद इन तीन घंटों में मुझे इतनी शांति और मानसिक राहत मिली थी। इस खोज ने मुझे नींद से जगाया। सोचने पर मजबूर कर दिया। कई महीनों में पहली बार मैं कुछ सोच रहा था। मैंने महसूस किया कि जब हम किसी काम की योजना बनाने और सोचने में व्यस्त हो जाते हैं, तो चिंता करना मुश्किल होता है। मेरे मामले में बोट बनाने के काम ने मेरी चिंता को चारों खाने चित्त कर दिया। इसलिए मैंने फैसला किया कि मैं खुद को व्यस्त रखूंगा।”
“अगली रात को मैं पूरे घर में घूमा और उन कामों की सूची बनाई, जो किए जाने चाहिए थे। दो सप्ताह में मैंने 242 कामों की सूची बना ली। अगले दो साल में मैंने इनमें से ज्यादातर काम पूरे कर दिए। इसके अलावा मैंने अपने जीवन को प्रेरक और दूसरी गतिविधियों में व्यस्त कर दिया। मैं अब इतना व्यस्त हूं कि मुझे चिंता करने के लिए वक्त ही नहीं मिलता।”
व्यस्त रहने जैसे सामान्य कार्य से हमारी चिंता क्यों दूर हो जाती हैक् ऎसा एक नियम के कारण होता है। यह नियम मनोविज्ञान के सबसे मूलभूत नियमों में से एक है। यह नियम है-“कोई भी मानवीय मस्तिष्क, चाहे वह कितना ही प्रतिभाशाली क्यों न हो, एक समय में एक से ज्यादा चीजों के बारे में नहीं सोच सकता।
जॉर्ज बर्नाड शॉ सही थे। उन्होंने अपने एक वाक्य में सब कुछ कह दिया। उनका कहना था,”दुखी होने का रहस्य यह है कि आपके पास यह चिंता करने की फुरसत हो कि आप सुखी हैं या नहीं।” तो इस बारे में सोचने की झंझट ही नहीं पालें। अपने हाथ मलें। कमर कसें और व्यस्त हो जाएं।
दूसरा फार्मूला
याद रखें, आपके जैसा इस दुनिया में कोई नहीं है।
एक बड़ी तेल कंपनी के रोजगार निदेशक पॉल बॉइन्टन से मैंने पूछा कि लोग रोजगार के लिए आवेदन देते समय सबसे बड़ी गलती कौन सी करते हैं। बॉइन्टन हजारों लोगों के इंटरव्यू ले चुके थे और उन्होंने इस विषय पर एक पुस्तक भी लिखी थी। उनका कहना था, “नौकरी के लिए आवेदन देने में लोग सबसे बड़ी गलती यह करते हैं कि वे अपने वास्तविक स्वरूप में नहीं रहते। अपने असली व्यक्तित्व में रहने और पूरी तरह खुलकर बताने के बजाए वे अक्सर ऎसे जवाब देने की कोशिश करते हैं, जो उनके हिसाब से आप सुनना चाहते हैं। परन्तु यह तरीका सफल नहीं होता, क्योंकि कोई भी नकली चीज नहीं चाहता। कोई भी जाली सिक्का नहीं चाहता।”
आप में और मुझमें इस तरह की योग्यताएं हैं, इसलिए इस बात की चिंता करने में एक पल भी बर्बाद न करें कि हम दूसरे लोगों की तरह नहीं हैं। आप इस दुनिया में एकदम अनूठे हैं। जेनेटिक्स विज्ञान हमें बताता है कि आप जो हैं, वह पूरी तरह से आपके पिता के चौबीस और आपकी माता के चौबीस क्रोमोसोम की देन है। हर क्रोमोसोम में दर्जनों से लेकर सैंकड़ों जीन्स हो सकते हैं और कई बार तो एक जीन ही इंसान के पूरे जीवन को बदलने की क्षमता रखता है।
आपके माता-पिता के मिलने और समागम के बाद आपकी तरह का निश्चित इंसान पैदा होने की संभावना तीन लाख बिलियन में से एक थी। दूसरे शब्दों में, अगर आपके तीन लाख बिलियन भाई-बहन होते तो, वे सबके सब आपसे अलग हो सकते थे। क्या यह बात अनुमान पर आधारित है। जी नहीं। यह एक वैज्ञानिक तथ्य है। जब चार्ली चैप्लिन फिल्मों में आए, तो फिल्म निर्देशकों ने इस बात पर जोर दिया कि चैप्लिन उस युग के एक लोकप्रिय जर्मन कॉमेडियन की नकल करें। परन्तु चार्ली चैप्लिन को तब तक कामयाबी नहीं मिली जब तक उन्होंने अपने असली स्वरूप में अभिनय नहीं किया।
इमर्सन ने “सेल्फ-रिलायेंस” निबंध में लिखा है, “हरेक इंसान में जो शक्ति निवास करती है, वह प्रकृति में नयी है। दूसरा कोई नहीं, सिर्फ वही जानता है कि वह क्या कर सकता है। वह तब तक नहीं जान सकता, जब तक वह कोशिश न कर ले।” इसलिए यह जान लें कि आप अनूठे हैं। इस बात पर खुश हों और प्रकृति ने आपको जो दिया है, उसका अधिकतम लाभ उठाएं।
तीसरा फार्मूला
अगर आपको नीबू मिले, तो आप नीबू का शर्बत बना लें।
मैं एक दिन शिकागो यूनिवर्सिटी गया और वहां के कुलपति रॉबर्ट मैनार्ड हचिन्स से पूछा, “वे किस तरह चिंताओं को दूर रखते हैं।” उन्होंने जवाब दिया, “जब आपको नीबू मिले तो आप नीबू का शर्बत बना लें।”
“अच्छी चीजों का लाभ उठाना जिंदगी में सबसे महžवपूर्ण बात नहीं है। कोई मूर्ख व्यक्ति भी ऎसा कर सकता है। असली महžव की बात तो यह है कि आप अपने विपरीत हालातों से लाभ उठा सकें। इस काम में बुद्धि की जरूरत होती है और इसी से मूर्ख और समझदार के बीच का फर्क समझ आता है।”
न्यूयार्क में कक्षाएं चलाने के दौरान मैंने यह पाया कि बहुत से लोग मात्र इस बात का अफसोस मनाते हैं कि कॉलेज शिक्षा के बगैर जीवन में सफलता की संभावना कम होती है। मैं जानता हूं कि यह पूरी तरह सच नहीं है। इसलिए मैं अपने विद्यार्थियों को ऎसे इंसान की कहानी सुनाता हूं, जिसने कभी प्रारंभिक शिक्षा भी पूरी नहीं की। वह बेहद गरीबी में पला-बढ़ा। जब उसके पिता मरे, उसके पिता के दोस्तों को चंदा इकटा करके उनके कफन का इंतजाम करना पड़ा। उसके पिता के मरने के बाद उसकी मां छाता बनाने वाली फैक्ट्री में दस घंटे नौकरी करती। इन परिस्थितियों में पला यह लड़का राजनीति में आया और तीस साल का होने से पहले न्यूयार्क राज्य विधानसभा के लिए चुन लिया गया। परन्तु वह इस जिम्मेदारी के लिए कतई तैयार नहीं था। उसने मुझे बताया कि दरअसल उसे यह समझ नहीं आ रहा था कि माजरा क्या है। उसने उन लंबे, जटिल विधेयकों का अध्ययन करने की कोशिश की, जिस पर उसे वोट देना था। परन्तु जहां तक उसका सवाल था, उसके पल्ले कुछ नहीं पड़ता था। वह इतना ज्यादा हताश हो गया कि उसने मुझे बताया, “अगर उसे अपनी मां के सामने हार मानने में शर्म नहीं आई होती तो उसने विधानसभा से इस्तीफा दे दिया होता।” उसने फैसला लिया कि वह हर दिन सोलह घंटे पढ़ेगा और अपने अज्ञान के नीबू से ज्ञान के नीबू का शर्बत बनाएगा। ऎसा करके उसने स्वयं को स्थानीय राजनेता से राष्ट्रीय स्तर का नेता बना लिया। वह इतना लोकप्रिय हुआ कि “द न्यूयार्क टाइम्स” ने उसे “न्यूयार्क के सर्वप्रिय नागरिक ” का खिताब दिया।
मैं अलस्मिथ के बारे में बात कर रहा हूं। वे चार बार न्यूयार्क के गवर्नर चुने गए। उस समय यह एक रिकॉर्ड था, जो उनसे पहले कभी किसी व्यक्ति ने नहीं बनाया था। छह शीर्ष विश्वविद्यालयों ने, जिनमें कोलंबिया और हार्वर्ड भी शçामल थे, इस इंसान को मानद उपाधियों से विभूषित किया, जो कभी अपनी प्रारंभिक शिक्षा भी पूरी नहीं कर पाया था।
अलस्मिथ ने मुझे बताया कि इनमें से कोई चीज क भी नहीं हुई होती अगर उन्होंने हर दिन सोलह घंटे की कड़ी मेहनत नहीं की होती। इसी से वे अपनी नकारात्मक स्थितियों को सकारात्मक अनुभव में बदल सके। “यही जीवन हैक्” नहीं यह जीवन नहीं है। यह जीवन से अधिक है। यह विजयी जीवन है। सुख-शांति का मानसिक रवैया विकसित करने के लिए हमें इस नियम को आत्मसात कर लेना चाहिए।
चौथा फार्मूला
खुद से पूछें, “बुरे से बुरा क्या हो सकता है।”
विलिस एच. कैरियर एक प्रतिभाशाली इंजीनियर थे, जिन्होंने एयर-कंडीशनिंग उद्योग शुरू किया और जो न्यूयार्क में विश्वप्रसिद्ध कैरियर कॉरपोरेशन के प्रमुख थे। चिंता को सुलझाने के लिए इतनी बढि़या तकनीक मैंने बहुत कम सुनी है। कैरियर ने मुझे जो बताया, वह इस प्रकार है-
“मैं न्यूयार्क से बफैलो फोर्ज कंपनी मे काम करता था। मुझे मिसूरी में लाखों डॉलर के कारखाने में गैस साफ करने की मशीन लगाने का काम सौंपा गया। गैस साफ करने का यह तरीका नया था इसलिए मेरे काम में अप्रत्याशित कठिनाईयां आई। मशीन काम करने लगी थी, पर उस तरह नहीं जिस तरह की हमने गारंटी दी थी। साथ में हमें 20 हजार डॉलर का घाटा भी हो रहा था। मैं अपनी इस असफलता से स्तब्ध था। कुछ समय तक तो मैं इतना चिंतित रहा कि मेरी नींद उड़ गई। आखिरकार मुझे एक सीधी सी बात समझ में आ गई कि चिंता करने से मुझे कोई फायदा नहीं होने वाला। मैंने बिना चिंता किए समस्या का हल ढूंढने का रास्ता निकाला। मैंने तीन कदम उठाए।”
पहला कदम- मैंने बिना डरे, ईमानदारी से स्थिति का विश्लेषण किया और अनुमान लगाया कि इस असफलता के परिणामस्वरूप मेरे साथ बुरे से बुरा क्या हो सकता है।
दूसरा कदम- बुरे से बुरे परिणामों का अनुमान लगाने के बाद आवश्यकता पड़ने पर इसे स्वीकार करने के लिए मैंने खुद को तैयार किया।
“बुरी से बुरी स्थिति का अनुमान लगाने और जरूरत पड़ने पर इसे स्वीकार करने के बाद एक महžवपूर्ण बात हुई। मैं तत्काल शांत हो गया और काफी दिनों बाद मैंने पहली बार राहत की सांस ली।”
तीसरा कदम- इसके बाद मैंने अपना पूरा समय और ऊर्जा शांति के साथ इस काम में लगाई कि उन बुरे से बुरे परिणामों को कैसे सुधारा जाए जिन्हें मानसिक रूप से मैंने पहले ही स्वीकार कर लिया था।
मैंने अब ऎसे तरीके खोजने शुरू किए, जिनसे मैं अपनी असफलता को सफलता में बदल सकता था और 20 हजार डॉलर के घाटे को कम कर सकता था। इसके लिए मैंने कई परीक्षण किए और अंत में इस नतीजे पर पहुंचा कि अगर हम एक अतिरिक्त यंत्र खरीदने में पांच हजार डॉलर और खर्च करें, तो हमारी समस्या सुलझ सकती है। हमने ऎसा ही किया। नतीजा, हमारी कंपनी को 20 हजार डॉलर का घाटा होने के बजाए 15 हजार डॉलर का फायदा हो गया।
कैरियर ने आगे कहा, “अगर मैं चिंता करता रहता तो शायद यह कभी नहीं कर पाता, क्योंकि चिंता के साथ बहुत बुरी बात यह है कि यह हमारी एकाग्रता की शक्ति को खत्म कर देती है। हम निर्णय ले पाने की शक्ति खो देते हैं। परन्तु जब हम बुरे से बुरे परिणाम का सामना करने के लिए खुद को विवश करते हैं और उसे मानसिक रूप से स्वीकार कर लेते हैं, तो हम इस स्थिति में आ जाते हैं कि अपनी समस्या पर पूरी एकाग्रता से विचार कर उसे हल कर सकें।”
चिंताजनक स्थितियों को सुलझाने के जादुई टिप्स
– व्यस्त रहें। चिंतित आदमी को पूरी तरह से काम में डूब जाना चाहिए, वरना वह निराशा में मुरझा जाएगा।
– दुखी होने का कारण यह है कि आपके पास यह चिंता करने की फुरसत हो कि आप सुखी हैं या नहीं।
– अपने आपको ऎसी छेाटी-छोटी बातों से विचलित होने की अनुमति नहीं दें, जिन्हें हमें नजरअंदाज कर देना चाहिए।
– खुशी के विचार सोचें, खुशी का अभिनय करें और धीरे-धीरे आप खुशी का अनुभव करने लगेंगे।
– अपनी नियामतें गिनें, कष्ट नहीं।
– अपने दुश्मन के लिए नफरत की भट्टी को इतनी तेज नहीं करें कि आप खुद भी उसमें जल जाएं।
– हर दिन एक अच्छा काम करें, जिससे किसी के चेहरे पर मुस्कुराहट आ जाए।





नेल पॉलिश-राशि अनुसार

4 08 2009

tesco_makeup_nail_polish 
ज्योतिष में रंगों का विशेष महžव बताया गया है। राशि अनुसार अनुकूल रंगों के प्रयोग से संबंधित ग्रह की अनुकूलता में वृद्धि होती है। चीनी ज्योतिष के अनुसार भी अलग-अलग रंगों की प्रवृत्ति अलग-अलग होने के कारण मानव की प्रवृत्ति पर असर करते हैं। शरीर के लिए भी अनुकूल रंगों के प्रयोग करने से सकारात्मक ऊर्जा “ची” को संतुलित कर समन्वय किया जा सकता है। इससे सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है। इसी क्रम में महिलाओं द्वारा प्रयोग की जाने वाली नाखून पॉलिश का रंग यदि उनकी राशि के अनुरूप हो तो संबंधित राशि स्वामी के कारक में वृद्धि तथा शुभ फलों की प्राप्ति होती है।

मेष राशि- मेष राशि की महिलाएं लालिमायुक्त, सफेद, क्रीमी तथा मेहरून रंग की नेल पॉलिश प्रयोग में लाएं।
वृष राशि- लाल, सफेद, गेहूंआ या गुलाबी रंग या इनसे मिश्रित रंगों की नेल पॉलिश लगाएं।
मिथुन- आपके लिए हरी, फिरोजी, सुनहरा सफेद या सफेद रंग की नेल पॉलिश उपयुक्त रहेगी।
कर्क- श्वेत व लाल या इनसे मिश्रित रंग अथवा लालिमायुक्त सफेद रंग की नेल पॉलिश का प्रयोग उपयोगी रहेगा।
सिंह- गुलाबी, सफेद, गेरूआ, फिरोजी तथा लालिमायुक्त सफेद रंग उपयुक्त है।
कन्या- आप हरे, फिरोजी व सफेद रंग की नेल पॉलिश लगाएं।
तुला- जामुनी, सफेद, गुलाबी, नीली, ऑफ व्हाइट एवं आसमानी रंग की नेल पॉलिश अनुकूल रहेगी।
वृश्चिक- सुनहरी सफेद, मेहरून, गेरूआ, लाल, चमकीली गुलाबी या इन रंगों से मिश्रित रंग की नेल पॉलिश लगाएं।
धनु- पीला, सुनहरा, चमकदार सफेद, गुलाबी या लालिमायुक्त पीले रंग की पॉलिश लगाएं।
मकर- सफेद, चमकीला सफेद, हल्का सुनहरी, मोरपंखी, बैंगनी तथा आसमानी रंग की नेल पॉलिश उपयुक्त है।
कुंभ- जामुनी, नीला, बैंगनी, आसमानी तथा चमकीला सफेद रंग उत्तम रहेगा।
मीन- पीला, सुनहरा, सफेद, बसंती रंगों का प्रयोग करें। सदा अनुकूल प्रभाव देंगे।
ऊपर बताए गए रंग राशि स्वामी तथा उनके मित्र ग्रहों के रंगों के अनुकूल हैं।





Mightier Media is need of the hour: Meira Kumar

1 08 2009

KCK International Award Ceremony 2008 held at Taj ; Harinder Baweja and team wins 2nd KCKI award of US$ 11,000 ; Ashok Gehlot praises restrained media; 10 merit award also conferred

Delhi, 31st July:

Media came in for high praise on Friday for its restrained role in times of crisis at the KCK International award ceremony today. The second KCK award for excellence in print journalism was conferred to Harinder Baweja and her team members by Meira Kumar, Speaker, Lok Sabha and Ashok Gehlot, Chief Minister, Rajasthan at hotel Taj Palace. Addressing the august gathering attended by the senior politicians, officials, literati and media persons, chief guest of the function Meira Kumar said that incisive reporting of the issues is need of the hour in conflict ridden world and there is need for a silent revolution. Appreciating the efforts of the winning team Kumar said that striving for truth and objectively, journalists ought to rise above the jingoism that may do more harm than good to the nations. Meira Kumar traced her connection with Rajasthan by referring to her student life spent at Vanasthali Vidyapeeth. She said that the stay in Rajasthan was a memorable period of her life.

Speaking from his long experience Gehlot lauded the media for restoring faith in humanity by their objective reportage of critical events. Referring to social initiatives by Patrika group he said that media campaigns contribute to bringing the marginalized people into mainstream.  Expressing concern over nadir of social values he highlighted need for national debate.

Talking about the global trends in journalism Gulab Kothari, Chief Editor, Patrika group cautioned the journalists against the ephemeral temptations for fame. He urged the new journalist to pursue free and fearless journalism contributing to positive change in society.

The winning team was given a cash prize of $ 11,ooo with medal and certificate. The award instituted last year in the memory of the founder of Patrika group Karpoor Chandra ‘Kulish’, is given to the team of a daily newspaper to recognize contributions of print journalists upholding the social values with deep sense of respect for the profession. The winning story series ‘Welcome to the Headquarters of Lashkar – e – Tayyeba’ published in the Hindustan Times in December, 08 was selected as the best from among 173 entries received from across the world. Other members of the winning team copy editor Atulendra Nath Chaturvedi and art director Ujma Moshin also received certificate and medal at the function.

A total of 155 Indian and 18 foreign stories from 48 Indian and 11 foreign newspapers, including those of USA, France, Serbia, Mauritius, Egypt, Sri Lanka, Afghanistan and Pakistan were received as entries for this year award theme ‘Terrorism and Society’. N Ram, Editor in Chief, The Hindu, N Ravichandran, Director, IIM, Indore, Aruna Roy, Social Activist and Gulab Kothari, Chief Editor, Patrika group constituted the jury panel. The HT had been the joint winner of the first KCK International award 2007 last year with Dawn, Pakistan.

Dignitaries at the function

The function was attended by the dignitaries including Murli Manohar Joshi, Lalu Prasad Yadav, Ramvilas Paswan, Madan Lal Khurana, Sachin Pilot, Mahadev Singh Khandela, Ustad Amjad Ali Khan, Sheeshram Ola, Madan Lal Khurana, Namonarayan Meena, Bhawani Singh Rajawat, Jyoti Mirdha, Sam Balsara, SK Roongta and others.  

10 teams win Merit Award and appreciation 

  1. 1.      India’s Porous Borders ; Hindustan Times , Chandigarh/ New Delhi ;  Kanwar Sandhu, Manish Tiwari, Sunita Aron, Arun Joshi, Rahul Karmakar)
  1. Is atankwadi ki khata kya thi ; Hindustan, Lucknow; Dayashankar Shukla, Neelmani, Nasiruddin
  2. Ab shuru hua operation Ajamgarh ; Amar Ujala, Varanasi ; Tirvijay Singh and Praveer Sharma
  3. Atank ka Arthshastra;  Dainik Jagran, New Delhi; Anshuman Tiwari, Prashant Mishra, Vishnu Tripathi, Dinesh Chandra, Rajkishore
  4. Violence in India is fueled by religious and economic divide;  The New York Times, USA;  team: Hari Kumar & Heather Timmons
  5. Mumbai’s terror makes Mohali bleed;  Indian Express, Chandigarh; Nitin Jain, Jasbir Malhi, Kamleshwar Singh
  6. Azamgarh : District in discomfort; The Tribune, Chandigarh; Shahira Naim, Dr. Eashwar Anand, Kuldeep Dhiman
  7. He loved Hollywood’s cop vs baddies movies Hindustan Times, New Delhi/Kolkata;  Rahul Karmakar, Digambar Patowary
  8. Lunch Hours, Evening are chosen for terror strikes ; The  Tribune, Chandigarh; Prabhjot Singh and team
  9. What branches grow in this stony rubbish?;  The Daily Mirror, Sri Lanka; Jamila Najimuddin and team

 





शांतिपूर्ण क्रांति की जरूरत

1 08 2009

नई दिल्ली। राजस्थान पत्रिका समूह के संस्थापक कर्पूर चन्द्र कुलिश की स्मृति में देश के सबसे बड़े अंतरराष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार केसी कुलिश इंटरनेशनल अवार्ड फॉर एक्सिलेंस इन प्रिंट जर्नलिज्म का भव्य और गरिमापूर्ण समारोह शुक्रवार को नई दिल्ली के ताज पैलेस होटल में आयोजित किया गया। समारोह की मुख्य अतिथि लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने इस अवसर पर अपने संवेदनशील सम्बोधन में कहा कि आज देश में शांतिपूर्ण क्रांति की आवश्यकता है। आप जहां हैं, वहीं से लोगों के मानस में बदलाव कर समाज को बेहतर बना सकते हैं। समारोह की अध्यक्षता करते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आज समाज के हर क्षेत्र में आ रही गिरावट चिंता का विषय है और इस पर राष्ट्रीय बहस की आवश्यकता है।

दस को मेरिट अवार्ड

समारोह में दस मेरिट अवार्ड भी दिए गए। इनमें हिन्दुस्तान टाइम्स, चण्डीगढ़ के कंवर संधु की टीम को “इण्डियाज पोरस बोर्डर्स”, हिन्दुस्तान, लखनऊ के दयाशंकर शुक्ला की टीम को “इस आतंकवादी की खता क्या थी”, अमर उजाला, वाराणासी के तिरविजय सिंह की टीम को ” अब शुरू हुआ ऑपरेशन आजमगढ़”, दैनिक जागरण, नई दिल्ली के अंशुमन सिंह की टीम को “आतंक का अर्थशास्त्र”, न्यूयॉर्क टाइम्स, अमरीका के हरिकुमार एवं हीदर टिमोन्स को “वायलेंस इन इण्डिया”, इण्डियन एक्सप्रेस, चण्डीगढ़ के नितिन जैन की टीम को “मुम्बईज टेरर मेक्स मोहाली ब्लीड”, द ट्रिब्यून, चण्डीगढ़ की शाहिरा नईम की टीम को ” आजमगढ़: डिस्ट्रिक्ट इन डिस्कम्फर्ट”, हिन्दुस्तान टाइम्स, गुवाहाटी के राहुल करमाकर की टीम को “ही लव्ड हॉलीवुड़ कॉप वर्सेज बडीज मूवीज”, द ट्रिब्यून, चण्डीगढ़ के प्रभजोत सिंह को “लंच ऑवर्स, इवनिंग आर चूजन फॉर टेरर स्ट्राइक्स” और डेली मिरर, श्रीलंका कीजमीला नजीमुद्दीन को “वाट ब्रांचेज ग्रो इन दिस स्टोनी रबिश” खबरों के लिए पुरस्कृत किया गया।

173 प्रविष्टियां मिलीं

पुरस्कार का चयन 2008 में एक जनवरी से 31 दिसम्बर तक प्रकाशित समाचारों में से किया गया। चयन मण्डल को अमरीका, फ्रांस, सर्बिया, मॉरिशस, मिश्र, पाकिस्तान, अफगानिस्तान और श्रीलंका सहित दुनिया भर के मीडिया संस्थानों से 173 प्रविष्टियां प्राप्त हुई। पुरस्कार चयन मण्डल में देश के प्रतिष्ठित समाचार पत्र द हिन्दू के एडीटर इन चीफ एन. राम, आईआईएम, इंदौर के निदेशक एन. रविचन्द्रन, मेग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित अरूणा रॉय और पत्रिका समूह के प्रधान सम्पादक गुलाब कोठारी शामिल रहे। पत्रकारिता के साथ ही विज्ञापनों के सामाजिक महत्व को भी पत्रिका समूह ने समझा है। इसी दृष्टिकोण से पिछले एक दशक से सामाजिक क्षेत्र से जुड़े श्रेष्ठ विज्ञापनों को पत्रिका समूह की ओर से कन्सन्र्ड कम्यूनिकेटर अवार्ड दिया जा रहा है। गत वर्ष से इस पुरस्कार की राशि भी कर्पूर चन्द्र कुलिश की स्मृति में 11 हजार अमरीकी डॉलर की जा चुकी है।

मूल्यों में गिरावट चिंता का विषय: गहलोत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि केसी कुलिश अवार्ड के लिए (आतंकवाद और समाज) जो विषय चुना है। उससे इस अवार्ड का महत्व और बढ़ गया है। देश के सामने आज आतंकवाद और नक्सलवाद सहित कई चुनौतियां हैं। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद इस साठ साल के दौर में मूल्यों में गिरावट आना चिन्ता का विषय है। अब सोच समझकर आगे बढ़ना होगा।

उन्होंने कहा कि राजस्थान पत्रिका समूह के संस्थापक कर्पूर चन्द्र कुलिश संघर्षशील व्यक्तित्व के धनी थे। आजादी के बाद वे पत्रकारिता में आगे आए। आज राजस्थान पत्रिका प्रदेश के हर घर में अपनी पहचान रखती है। पत्रकारिता ही नहीं सामाजिक सरोकारों में भी राजस्थान पत्रिका का कोई सानी नहीं।
गुजरात व महाराष्ट्र का भूकम्प, करगिल युद्ध व अन्य कई मौकों पर पत्रिका ने आगे आकर समाज हित के लिए कार्य किया है। यही कारण है कि लोग आज पत्रिका समूह को सहयोग दे रहे हैं। पत्रिका समूह ने केसी कुलिश अवार्ड शुरू कर अच्छा कदम उठाया है। प्रतिभा की खोज करना बड़ी बात है। इस अवार्ड से युवा पीढ़ी में उत्साह बढ़ेगा।

पत्रकारिता चमत्कार नहीं, श्रम-कर्म और कौशल है: कोठारी

पत्रकारिता चमत्कार नहीं। श्रम है, कर्म है, कौशल है और पत्रकार इनकी आत्मा है। शेष सभी साधन है। पत्रकारिता सिखाई जा सकती है। पत्रकार पैदा होते हैं या समय की धार पर तैयार होते हैं। यह कहना है पत्रिका समूह के प्रधान सम्पादक गुलाब कोठारी का। उन्होंने कहा कि मीडिया की भूमिका पर आज जितने प्रश्न उठने लगे हैं, पहले कभी नहीं उठे। गुजरात के दंगे रहे हों या मुम्बई का आतंककारी हमला, लोग कहने लगे हैं कि धीरे-धीरे पत्रकारिता का मूल उद्देश्य छूटता जा रहा है। व्यापार और मनोरंजन हावी हो रहा है।
आज पूरा विश्व आतंकवाद से आतंकित है। ऎसे में इस नई पत्रकारिता के दम पर कैसे लोगों में प्राण फूंकेंगे? पत्रकारिता को अन्य सभी हितों से ऊपर उठकर देशहित के लिए संकल्पित हो जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि राजस्थान पत्रिका किसी उद्योगपति अथवा धनाढ्य परिवार का समाचार पत्र नहीं है। श्रद्धेय बाबूसा ने मात्र 500 रूपए की उधार की रकम से इसे शुरू किया था। आज उस उधार को समाज को लौटाने का विनम्र प्रयास कर रहे हैं। जैसा बीज होता है वैसा ही पेड़ होता है और वैसे ही फल लगते हैं। इस अखबार का सत्य यही है कि पिछले पांच दशकों में इसे संकल्प से ही सींचा गया है। आज पत्रिका समूह के अखबार प्रतिदिन लगभग दो करोड़ पाठकों द्वारा पढ़े जा रहे हैं। देश के बड़े पांच हिन्दी अखबारों में इसका स्थान है।

उन्होंने कहा कि जिनके नाम (कर्पूर चन्द्र कुलिश) से यह अवार्ड दिया जा रहा है, और राजस्थान पत्रिका सदा एक-दूसरे के पर्याय ही बने रहे। एक ही लक्ष्य, एक ही स्वप्न और सम्पूर्ण जीवन यात्रा की एक ही कहानी। इसीलिए पत्रिका आज आत्मा का, आत्मीयता का अखबार बन पाया है। लोग अपने धर्म ग्रन्थों की तरह इस पर विश्वास करते हैं।

इसमें लिखे हुए को जीवन में उतारने का प्रयास भी करते हैं। ऎसे अनेक अवसर आ चुके हैं, जब पूरे प्रदेश ने पत्रिका के साथ खड़े होकर दिखाया। मध्यप्रदेश के भोपाल में तो एक आह्वान पर डेढ़ लाख लोग तालाब में श्रमदान करने पहुंच गए। केसी कुलिश अवार्ड भी आज की पत्रकारिता को नए सिरे से पल्लवित और पुष्पित करने का प्रयास है।

पुरस्कार हरिन्दर बवेजा को

देश के कई वरिष्ठ राजनेताओं, केन्द्रीय मंत्रियों, सांसदों, विधायकों, संगीत, फैशन, विज्ञापन व कॉरपोरेट जगत की हस्तियों की मौजूदगी में हुए इस समारोह में इस वर्ष का केसीके अवार्ड वरिष्ठ पत्रकार हरिन्दर बवेजा और उनकी टीम को हिन्दुस्तान टाइम्स में प्रकाशित उनकी स्टोरी वेलकम टू द हैडक्वार्टर्स ऑफ लश्कर-ए-तैयबा के लिए केसीके पुरस्कार प्रदान किया गया। पुरस्कार के रूप में उन्हें प्रशस्ति पत्र, मैडल और 11 हजार अमरीकी डॉलर का चैक दिया गया।

इस वर्ष पुरस्कार की थीम आतंकवाद और समाज रखी गई थी। इस विषय पर आधारित देश-विदेश के प्रमुख समाचार पत्रों में प्रकाशित दस समाचारों को मेरिट अवार्ड भी दिए गए। अंत में राजस्थान पत्रिका के डिप्टी एडीटर भुवनेश जैन ने धन्यवाद दिया। संचालन सहायक महाप्रबंधक प्रवीण नाहटा ने किया।

बहुत पुराना सम्बन्ध है राजस्थान से

इस मौके पर लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने अपनी चिर-परिचित गम्भीर और संवेदनशील शैली में अपना उद्बोधन दिया और कहा कि राजस्थान से उनका बहुत पुराना सम्बन्ध है। उन्होंने कहा कि मैं वनस्थली विद्यापीठ में थी और बहुत समय जयपुर में रही। यह वह समय था, जब मैं अपने जीवन के लिए तैयार हो रही थी, इसलिए आज मुझ में जो भी अच्छी बात है उसकी वजह राजस्थान है। उन्होंने कहा कि पत्रिका समूह के प्रधान सम्पादक गुलाब कोठारी से उनका परिचय जयपुर में तब हुआ था, जब वे सामाजिक न्याय व अघिकारिता मंत्री के नाते विकलांगों के एक कार्यक्रम मे गई थीं और वहां गुलाब कोठारी भी आए थे। तभी मुझे लगा था कि वे संवेदनशील व्यक्ति हैं।

उन्होंने कहा मैं इस कार्यक्रम में आई ही इसलिए हूं कि गुलाब कोठारी उस कार्यक्रम में आए थे। यह संवेदनशीलता का सम्बन्ध है।

हिन्दी की बेचारगी खत्म कीजिए

मीरा कुमार ने कहा कि हिन्दी वास्तव में बहुत बेचारी भाषा हो गई है, लेकिन इसकी बेचारगी खत्म होनी चाहिए। हर भाषा की अपनी गरिमा और सौष्ठव होता है। इससे खिलवाड़ नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं राजस्थान पत्रिका का सोमवार और गुरूवार का अंक जरूर पढ़ती हूं, क्योंकि इसमें अक्षर यात्रा आता है, जो हर अक्षर के महत्व को बताता है। हिन्दी के लिए राजस्थान पत्रिका के इस प्रयास को मैं साधुवाद देना चाहती हूं।

हमारा भी कर्ज है

मीरा कुमार ने कहा कि कुलिश ने यह समाचार पत्र 500 रूपए के कर्ज से शुरू किया था और पत्रिका आज अपने तरीके से यह कर्ज चुका रहा है। हम सभी का भी समाज के प्रति कुछ कर्ज है जिसे हमें चुकाना चहिए।

तमसो मा ज्यातिर्गमय

मीरा कुमार ने कहा कि इस समारोह की शुरूआत दीप प्रज्जवलन से हुई है, इसलिए मेरी कामना है कि पत्रकारिता अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाए, सत्य से असत्य को दूर करे और हम जो मरणासन्न हैं उन्हें जीवन प्रदान करे। उन्होंने कहा कि पत्रिका ने यह पुरस्कार शुरू कर विश्व को जोड़ा है।

…तो गिरफ्तार हो जाती

पुरस्कार प्राप्त करने वाली वरिष्ठ पत्रकार हरिन्दर बवेजा ने पुरस्कृत स्टोरी की जानकारी देते हुए कहा कि इस स्टोरी को करने से पहले मैंने अपने सम्पादक तरूण तेजपाल से कहा था कि लश्कर-ए-तैयबा के मुख्यालय जाऊंगी तो गिरफ्तार कर ली जाऊंगी, इस पर मेरे सम्पादक ने कहा कि गिरफ्तार हो जाओगी, तो और अच्छी स्टोरी बन जाएगी। उन्होंने कहा कि इस स्टोरी के लिए उनकी सहायता पाकिस्तान के एक वरिष्ठ राजनेता ने की जो साबित करता है कि वहां के राजनेता ऎसे संगठनो को प्रश्रय देते हैं।

कई दिग्गज हस्तियां पहुंची

अवार्ड समारोह में पूर्व केन्द्रीय मंत्री व सांसद लालूप्रसाद यादव, रामविलास पासवान, शरद यादव, मुरली मनोहर जोशी, शीशराम ओला, अखिलेशप्रसाद यादव, राजस्थान के पूर्व राज्यपाल मदनलाल खुराना, भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अरूण चतुर्वेदी, केन्द्रीय मंत्री भरत सिंह सोलंकी, टॉम बदक्कन, नमोनारायण मीणा, महादेव खण्डेला, सचिन पायलट, राज्यसभा सांसद ज्ञानप्रकाश पिलानिया, सांसद ताराचंद भगोरा, ज्योति मिर्घा, बद्रीराम जाखड़, रघुवीर मीणा, प्रभा ठाकुर, खिलाड़ीराम बैरवा, लालचंद कटारिया, हरीश चौधरी, इज्येराज सिंह, अतुलकुमार अंजान, रतन सिंह, भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद, सुमित्रा महाजन, कांग्रेस महासचिव जनार्दन द्विवेदी, प्रवक्ता मोहन प्रकाश, अभिषेक मनु सिंघवी, कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव भंवर जितेन्द्र सिंह, वेदप्रकाश, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष मोतीलाल वोरा, फैशन डिजाइनर राघवेन्द्र राठौड़, सरोद वादक उस्ताद अमजद अली खान, मध्यप्रदेश के जनसम्पर्क मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा, विधायक ओम बिड़ला, भवानी सिंह राजावत, रामकेश मीणा, कर्नल सोनाराम व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।

कॉरपोरेट जगत से भी

समारोह में कॉरपोरेट की प्रमुख हस्तियां भी शामिल रहीं। इनमें स्टारकॉम के दक्षिण एशिया प्रमुख रवि किरन, एमिटी यूनिवर्सिटी के असीम चौहान, मेडिसिन एडवर्टाइजिंग के सेम बलसारा, आर.के. स्वामी एडवर्टाइजिंग के शेखर स्वामी, स्टील अथॉरिटी ऑफ इण्डिया के चेयरमैन एस.के. रूंगटा, सूर्या फू ड्स के शेखर अग्रवाल, होण्डा स्कूटर्स के वाइस प्रेसीडेण्ट ज्ञानेश्वर सेन, फैशन डिजाइनर राहुल जैन, मारूति इण्डस्ट्रीज के मार्केटिंग निदेशक मयंक पारीक, आकाश इंटरनेशनल के निदेशक जे.सी. चौधरी आदि शामिल हैं।





How to get six pack abbs

31 07 2009

सिक्स पैक एब्सSixPack-main_Full

बॉलीवुड ने “सिक्स पैक एब्स” के रूप में युवाओं को ऎसा शगल दिया है जिसे हर कोई पाना चाहता है। यदि आप भी ऎसा चाहते हैं लेकिन अपनी “एब्स” देख पाने में सक्षम नहीं हो पा रहे हैं तो चिंता मत कीजिए। 6 आसान आदतों को अपनाकर आपको “फिट लुकिंग फिजिक” पाने में बेहद मददगार हो सकती हैं बशर्ते आप इन्हें समन्वित एवं नियमित रूप से अपने जीवन में उतारें।

सुबह उठने के बाद पानी पिएं
कल्पना करें यदि काम करते समय हम पूरे दिन में ना तो चाय/ कॉफी पिएं, ना ही पानी, ऎसा करने पर 8 घंटे की शिफ्ट के बाद हमारी हालत खराब होना स्वाभाविक है। इसी तरह पूरी रात सोने के बाद सुबह उठें और बॉडी को रिहाइड्रेट ना करें तो स्थिति विकट हो जाती है। यही वजह है कि सुबह उठते ही तीन-चार ग्लास ठंडा पानी पीना बेहतर स्वास्थ्य के लिए अत्यावश्यक है।

नाश्ता नियमित रूप से करें
मेसाच्यूसेट्स विश्वविद्यालय का एक अध्ययन बताता है कि सुबह नाश्ता नहीं करने वाले व्यक्तियों में पेट के उभार की समस्या उन व्यक्तियों से साढ़े चार गुना ज्याद होती है जो नियमित रूप से नाश्ता करते हैं। इसलिए प्रात: उठने के बाद एक घंटे के भीतर कुछ खाना अथवा प्रोटीन शेक लेना जिससे कम से कम 250 कैलोरीज मिल सके, अपेक्षित होता है। ब्रिटिश शोधकर्ताओं ने पाया है कि “ब्रेकफास्ट साइज”, “वेस्ट साइज” के विलोमानुपाती होता है। इसका मतलब है भरपूर नाशता करना आपकी कमर के माप को कम करता है। लेकिन घ्यान रखें, नाश्ते की भरपूरता के निर्धारण में तार्किकता का ध्यान अवश्य ही रखा जाए। इस संदर्भ में डायटीशियन की मदद भी ली जा सकती है।

टार्गेट सामने रखें
आयोवा विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने एक शोध में पाया है कि जो व्यक्ति अपने खान-पान और व्यायाम पर नजर रखते हुए अपने लक्ष्य को सामने रखते हैं, वे लक्ष्य को प्राप्त भी जल्दी करते हैं। इस तरह उद्देश्य सामने ना रखना आपके सारे प्रयासों को निष्फल कर सकता है।

निर्धारित मात्रा में ही लंच करें
आप स्वयं लंच की मात्रा तय ना कर पाएं तो डायटीशियन आपकी मदद कर सकते हैं। लंच की निर्धारित मात्रा से आपको फायदा यह होगा कि आपके शरीर को पर्याप्त कैलोरीज भी मिलेगी और आप ज्यादा खाने से भी बच जाएंगे।

देर तक न जागें
“सिक्स पैक” के लिए पर्याप्त सोना भी आवश्यक है। देर तक जागने से फैट बर्न करने की आपकी क्षमता को प्रभावित करने वाले हॉर्मोüस पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। शिकागो विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने हाल ही एक अध्ययन में पाया है कि केवल 3 रात भी पर्याप्त ना सोया जाए तो मांसपेशियों की कोशिकाएं इंसुलिन हॉर्मोन के लिए प्रतिरोधी हो जाती हैं। परिणामत: आपके पेट के चारों ओर वसा का जमना शुरू हो जाता है।
सही तरीके से अभ्यास करें
वांछित लक्ष्य पाने के लिए वेट लिफ्टिंग, रनिंग, एरोबिक एक्सरसाइज जैसी कई विधियां हैं जिनमें से आप टे्रनर की सहायता से अपने लिए अनुकूल विधि को चयनित कर सकते हैं। समुचित रूप से किए गए अभ्यास आपके लक्ष्य को आपके काफी करीब ला सकते हैं।





आप व्यवसाय करेंगे या नौकरी

30 07 2009

कोई व्यक्ति व्यापार करेगा या नौकरी, इसका पता दशमांश वर्ग से किया जाता है। नौकरी या व्यवसाय में सफलता या असफलता का पता भी इससे लगता है। हो सकता है कि आम व्यक्ति यह नहीं समझ सके की दशमांश वर्ग क्या है, इसलिए आइए इसे समझें। राशि के अंशों के दस समान भाग करने पर जो वर्ग बनता है, उसे दशमांश कहते हैं। जन्म कुंडली के दसवें भाव से व्यक्ति का कर्म क्षेत्र जाना जाता है कि वह व्यापार करेगा या नौकरी। उसकी नौकरी या व्यवसाय बिना किसी रूकावट के चलता रहेगा या कोई परेशानी आएगी।

यदि दशमेश और दशम भाव में स्थित ग्रह दशमांश वर्ग में प्रबल हो, व्यक्ति को व्यवसाय में सफलता विशेष रूप से मिलती है। व्यक्ति व्यवसाय करेगा या नौकरी इसके लिए भी कुंडली में दशम भाव में स्थित ग्रह दशमांश कुंडली में स्थिर राशि और शुभ ग्रहों से युक्त होंगे, तभी सफलता मिलेगी। दशमांश के लग्न का स्वामी और लग्नेश दोनों एक ही तžव राशि के और शुभ हों।

इसके विपरित यदि दशम भाव स्थित ग्रह दशमांश कुंडली में चर राशि में स्थित हो और अशुभ ग्रहों से युक्त हों, तो व्यक्ति नौकरी करता है। दशमांश वर्ग, लग्न स्वामी और लग्नेश में परस्पर शत्रुता व्यवसाय में अस्थिरता लाती है। दशमांश में ग्रह विशेष शुभ हैं और कुंडली में भी ग्रह शुभ योगों में हैं, तो नौकरी हो या व्यापार दोनों में ही व्यक्ति उच्च कोटि का काम करता है। एक पदाधिकारी की कुंडली में नौकरी से संबंधित ग्रह उच्च कोटि में होंगे, तभी वह अधिकारी पद पर पहुंचता है। एक व्यापारी की कुंडली में व्यापार से संबंधित ग्रह दशमांश और कुंडली दोनों में शुभ स्थित में होते हैं।
-राजेश वर्मा





दूसरा केसीके अवार्ड फिर हिन्दुस्तान टाइम्स को

27 07 2009

“पत्रिका” के संस्थापक कर्पूरचंद्र कुलिश की स्मृति में पिछले वर्ष शुरू किए गए इस अवार्ड का द्वितीय पुरस्कार समारोह 31 जुलाई को नई दिल्ली के होटल ताज पैलेस में होगा। पुरस्कार के तहत 11 हजार अमरीकी डॉलर और ट्रॉफी प्रदान की जाएगी। समारोह में लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार मुख्य अतिथि होंगी, अध्यक्षता राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत करेंगे।

पिछली बार हिन्दुस्तान टाइम्स पाकिस्तान के समाचार पत्र डॉन के साथ इस पुरस्कार का संयुक्त विजेता था। पत्रिका समूह पिछले एक दशक से सामाजिक क्षेत्र से जुड़े श्रेष्ठ विज्ञापनों के लिए देश का बहुप्रतिष्ठित कन्सर्न्ड कम्युनिकेटर पुरस्कार भी प्रदान कर रहा है। यह अवार्ड राशि भी अब 11000 अमरीकी डॉलर है।

इस बार केसीके पुरस्कार की थीम “आतंक एवं समाज” रखी गई। इसके लिए 1 जनवरी से 31 दिसम्बर 2008 तक प्रकाशित खबरों को पुरस्कार चयन में शामिल किया गया। केसीके पुरस्कार के लिए “वेलकम टू द हेडक्वार्टर्स ऑफ लश्कर-ए-तोएबा” शीर्षक वाली न्यूज सीरीज को चुना गया है। ये खबरें तहलका मेग्जीन की वरिष्ठ पत्रकार हरिन्दर बवेजा एवं उनके सहयोगियों ने लिखी थीं। इनका प्रकाशन हिन्दुस्तान टाइम्स में दिसम्बर 2008 में हुआ।

इस एक्सक्लूजिव सीरिज के जरिए पाकिस्तान में लश्कर-ए-तोएबा मुख्यालय की गतिविघियों एवं इसकी विचारधारा से वहां के लोगों के जुड़ाव तथा मुम्बई आतंकी हमले के एकमात्र जीवित आरोपी कसाब के इस संगठन से सम्बंधो का खुलासा किया गया। किसी भारतीय पत्रकार को पहली बार लश्कर-ए-तोएबा मुख्यालय के भीतर जाने की अनुमति मिली थी।

इस बार अमरीका, फ्रांस, सर्बिया, मॉरिशस, मिश्र, श्रीलंका, अफगानिस्तान और पाकिस्तान समेत दुनिया भर के मीडिया संस्थानों से 173 प्रविष्ठियां प्राप्त हुई। इनमें देश के 48 समाचार पत्रों से 145 एवं अन्तरराष्ट्रीय मीडिया के 11 समाचार पत्रों से 28 प्रविष्ठियां आई। विजेता का चयन चार सदस्यीय चयन मण्डल की राय के आधार पर किया गया। चयन मण्डल में द हिन्दु के एडीटर इन चीफ एन. राम, आईआईएम इंदौर के निदेशक एन. रविचन्द्रन, प्रमुख समाजसेवी मेग्सेसे पुरस्कार विजेता अरूणा रॉय और पत्रिका समूह के प्रधान सम्पादकगुलाब कोठारी शामिल हैं।

विजेता के अलावा दस श्रेष्ठ प्रविष्टियों को मेरिट पुरस्कार के लिए चुना गया है। इनमें हिन्दुस्तान टाइम्स, नई दिल्ली कीरिपोर्ट “इण्डियाज पोरस बोर्डर्स”, हिन्दुस्तान, लखनऊ की “इस आतंकवादी की खता क्या थी”, अमर उजाला, वाराणासी की “अब शुरू हुआ ऑपरेशन आजमगढ़”, दैनिक जागरण, नई दिल्ली की “आतंकका अर्थशास्त्र”, न्यूयॉर्कटाइम्स, अमरीका की वायलेंस इन इण्डिया, इण्डियन एक्सप्रेस, चण्डीगढ़ की “मुम्बईज टेरर मेक्स मोहाली ब्लीड”, द ट्रिब्यून, चण्डीगढ़ की “आजमगढ़: डिस्ट्रिक्ट इन डिस्कम्फर्ट”, हिन्दुस्तान टाइम्स, नई दिल्ली/कोलकाता की “ही लव्ड हॉलीवुड्ज कॉप वर्सेज बडीज मूवीज”, द ट्रिब्यून की “लंच ऑवर्स, इवनिंग आर चूजन फॉर टेरर स्ट्राइक्स” और डेली मिरर, श्रीलंका की “वाट ब्रांचेज ग्रो इन दिस स्टोनी रबिश” खबरों को चुना गया है।





ललाट पर तिलक की परंपरा

27 07 2009

img_1607aहमारी संस्कृति में किसी भी पूजा, पाठ, यज्ञ, अनुष्ठान आदि का शुभारंभ श्रीगणेश पूजा से आरंभ होता है। उसी प्रकार बिना तिलक धारण किए कोई भी पूजा-प्रार्थना आरंभ नहीं होती। धर्म मान्यतानुसार सूने मस्तक को अशुभ और असुरक्षित माना जाता है। तिलक चंदन, रोली, कुंकुम, सिंदूर तथा भस्म का लगाया जाता है। तंत्रशास्त्र में तिलक की अनेक क्रिया-विधियां विभिन्न कार्यों की सफलता के लिए बताई गई हैं।
ज्योतिषशास्त्र के अनुसार कालपुरूष की गणना प्रथम राशि मेष से की गई है। महर्षि पराशर के सिद्धांत के अनुसार कालपुरूष के मस्तक वाले स्थान में मेष राशि स्थित है। जिसका स्वामी मंगल ग्रह सिंदूरी लाल रंग का अधिष्ठाता है। सिंदूरी लाल रंग राशि पथ की मेष राशि का ही रंग है। इसीलिए इस रंग (लाल रोली या सिंदूर) का तिलक मेष राशि वाले स्थान (मस्तक) पर लगाया जाता है। तिलक लगाने में सहायक हाथ की अंगुलियों का भी भिन्न-भिन्न महžव बताया है।

तिलक धारण करने में अनामिका अंगुली शांति प्रदान करती है। मध्यमा अंगुली मनुष्य की आयु वृद्धि करती है। अंगूठा प्रभाव और ख्याति तथा आरोग्य प्रदान कराता है। इसीलिए राजतिलक अथवा विजय तिलक अंगूठे से ही करने की परंपरा रही है। तर्जनी मोक्ष देने वाली अंगुली है। सामुद्रिकशास्त्र के अनुसार भी अनामिका तथा अंगूठा तिलक करने में सदा शुभ माने गए हैं। अनामिका सूर्य पर्वत की अधिष्ठाता अंगुली है। यह अंगुली सूर्य का प्रतिनिधित्व करती है, जिसका तात्पर्य यही है कि सूर्य के समान, दृढ़ता, तेजस्व, प्रभाव, सम्मान, सूर्य जैसी निष्ठा-प्रतिष्ठा बनी रहे। दूसरा अंगूठा है जो हाथ में शुक्र क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता है। शुक्र ग्रह जीवन शक्ति का प्रतीक है। संजीवनी विद्या का प्रणेता तथा जीवन में सौम्यता, सुख-साधन तथा काम-शक्ति देने वाला शुक्र ही संसार का रचयिता है।





Great Pandavani Singer – Teejan Bai

23 07 2009

Teejan-Bai_16639
मैं तो गांव की औरत हूँ तीजन बाई को सब जानते हैं। लोग कहते-लिखते हैं तीजन बाई बहुत बड़ी इंटरनेशनल फेम लोक कलाकार है। पंडवानी पर अपनी विशेष अदायगी के लिए वे पदमश्री से भी नवाजी जा चुकी हैं, पर तीजन बाई को अपनी उपलब्धियों का जरा सा भी गुरूर नहीं है। अपने बारे में, अपनी कला के बारे में और अपने देस के बारे में वे क्या सोचती हैं, जानिए उन्हीं की जुबानी…

ईमानदारी से कहूं मैं आज भी गांव की औरत हूं। सब काम करती हूं। सब्जी बनाती हूं। चटनी बनाती हूं। धान मिंजाई व ओसाई भी कर लेती हूं। आप अपने मन ही बतावो मैं कहां से बड़ी हूं। मेरे दिल में कुछ नहीं है …ऊंच-नीच, गरीब-अमीर कुछ नहीं, मैं सभी से एक जैसे ही मिलती हूं। बात करती हूं। बच्चों बूढ़ों के बीच बैठ जाती हूं। इससे दुनियादारी की कुछ बातें सीखने तो मिलती है और अनुभव भी बाढ़थे। ऎसे में कोई कुछ-कह बोल भी दे तब भी बुरा नहीं लगता। खराब छपने का भी बुरा नहीं मानती। भोपाल के एक पत्रकार ने छापा था कि तीजनबाई डिस्को डांस के समान पंडवानी करती है, ओव्हर मेकअप करती है, ओव्हर पहनती है, वैसा लोक कलाकार को नहीं करना चाहिए। ऎसा बुरा छपने का भी बुरा नहीं लगा… पर सोचना चाहिए, आदिवासी औरतें आज भी कुछ नहीं पहनती, लुगरा पहनती हैं बिना बेलाउज के रहती है। बीड़ी फूंकती हैं, सुट्टा लगाती हैं… मैं भी पहले गांव में ऎसे ही रहती थी। लेकिन आज युग बदल गया है आज मैं जो पहन रही हूँ वह कैसे ओव्हर हो गया सलवार सूट भी तो मैंने नहीं पहनी, न पहलूंगी, साड़ी-पोलखा पहनती हूं। मेकअप का ये सामान देखो, इसमें क्या, पाउडर- क्रीम और बोरोलीन ही तो है क्या ये फुल मेकअप है! मैं पूछती हूं क्या काजर लगाना, टिकली-माहूर सजाना, मांग में सिंदूर भरना, बारों महीना हाथ पर चूडी़ पहरना कैसे ओव्हर है भाइ! मैं आज भी एक टेम बोरे बासी (रात में पका चावल पानी में डालकर) और टमामर की चटनी खाती हूं।

मेरे घर में एक टेम सभी बासी खाते हैं। लोग पूछते-बोलते हैं, तीजनबाई कुछ नाश्ता किया करो तो मैं बोलती हूँ आप अपने मन का नाश्ता करते हो तो मैं बासी क्यों नहीं खा सकती क् भई, बोरे-बासी छत्तीसगढ़ का अमृत है… जौउन ला खाके हम अन जितना काम कर सकते हैं उतना दूसरा भोजन या नाश्ता करके नहीं किया जा सकता। बासी के सामने शराब का नशा भी कुछ नहीं है।

बिदेस खूब घूम डाली हूं, पर अपना देस अलग है वहाँ एक टाइप की कला है यहां विविध कलाएं हैं। मैं धार्मिक सिनेमा को छोड़कर दूसरा कोई सिनेमा भी नहीं देखती, किसी हीरो-हीरोइन को भी नहीं जानती। बचपन में जब दो रोटी भी घर में नहीं थी फिल्म कहां से देखती। पदमश्री मिलने का दिन आज भी मोर सुरता में है, वेंकटरमनजी ने दिया था। उसी दिन इंदिरा गांधी से भी मिली थी बहुत अच्छी लगी, उन्होंने मेरी पंडवानी सुनी थी। मुझे बुलाकर बोली- छत्तीसगढ़ की हो ना। मैने हाँ कहा तो इंदिरा बोली महाभारत करती हो तो मैं बोली पंडवानी सुनाती हूं महाभारत नहीं कराती, सुनकर इंदिराजी खुश हुई और मेरी पीठ थपथपाई थीं।

युग बदल गया तो मैं भी बदल गई लेकिन इतनी नहीं बदली कि लोग अंगुली उठाएं। मैं जो पहनती हूं वही पूरा छत्तीसगढ़ है, अऊ मोर छत्तीसगढ़ के ये श्रृंगार है। यह बुरा कैसे हो सकता है। रही बात डिस्को की, मैं कभी डिस्को नहीं देखती। किसी स्कूल के प्रोग्राम में चीफ गेस्ट बना देते हैं तो देखती हूं छोटे-छोटे लइका लइकी को डिस्को करते, बच्चों का डिस्को करना अच्छा लगता है पर हमारी लोककला में जो बात है वह बिदेशी नाच-गाना में नही। बिदेशी नाच में कमर जरूर हिलबे , अऊ हमार लोककला में दिल हिलबेे। लोककला के बारे में कछू कहना-लिखना आसान है। लेकिन, एला बचाने में बहुत मेहनत करनी पड़ेगी। अब मेरी अपनी ही बात बताऊं पंडवानी में करांति आ गई है फिर भी मेरे अपने घर में मेरी लोककला का कोई का बस में नहीं है। अच्छी-खासी फौज है बहू-बेटा, नाती पोतों की, पर कोई भी पंडवानी से जुड़ा नहीं है। इसका मुझे कोई दुख भी नहीं है। बाहर कोई कलाकार तो होगा उसे तैयार करूंगी और अपनी कला देकर जाऊंगी, जिसमें प्रतिभा होगी। मेरे बच्चे आज वो सब कर रहे हैं जो मैं नहीं कर पाई यानी मैं एक किलास (क्लास) भी नहीं पढ़ पाई। पढ़ाई न करने का कोई दुख भी नहीं है। हो सकता है पढ़-लिख लेती तो शायद लोककला से नहीं जुड़ पाती।





आहार एवं सुगंध

20 07 2009

angier_smellकिसी भी ग्रह की प्रतिकूलता व्यक्ति को अशांत बना देती है। ग्रह संबंधी आहार या सुगंध का प्रयोग
करके आप प्रतिकूल ग्रह को अनुकूल बना सकते हैं। शास्त्रों में ग्रहों की प्रकृति के अनुसार उनके आहार और सुगंधों का उल्लेख मिलता है। इनमें नौ ग्रहों के अलग-अलग आहार और सुगंध हैं। जिनका प्रयोग करके हम ग्रहजनित दोषों के प्रभाव में कमी ला सकते हैं।
ग्रह संबंधी आहार और सुगंध
-सूर्य की अनुकूलता के लिए आप अपने आहार में केसर, गेहूं, आम, चिकने पदार्थ तथा शहद का उपयोग कर लें। केसर तथा गुलाब के इत्र के उपयोग से भी सूर्य की अनुकूलता प्राप्त होती है।
-चंद्रमा की अनुकूलता के लिए गन्ना, सफेद गुड़, शक्कर, दूध या दूध से बने पदार्थ या सफेद रंग की मिठाई का सेवन करें। चमेली तथा रातरानी का परफ्यूम या इत्र चंद्र संबंधी पीड़ा को शांत करता है।
-मंगल की पीड़ा को कम करने के लिए आप अपने आहार में मूंग, मसूर की दाल, प्याज, गुड़, अचार, जौ या सरसों का उपयोग करें। लाल चंदन के इत्र या तेल के प्रयोग से भी मंगल प्रसन्न होते हैं।
-बुध को इलायची सर्वाधिक प्रिय है। मटर, ज्वार, मोठ, कुलथी, हरी दालें, मूंग, हरी सब्जियां बुध के दोष को कम करती हैं। चंपा के इत्र या तेल के प्रयोग से बुध प्रसन्न होते हैं।
-बृहस्पति की कृपा के लिए चने की दाल, बेसन, मक्का, केला, हल्दी, सेंधा नमक, पीली दालों का प्रयोग कर लें। पीले फूल, केसर या केवड़े का दूध प्रयोग करने से बृहस्पति की कृपा प्राप्त होगी।
-शुक्र की कृपा प्राप्ति के लिए त्रिफला, दालचीनी, कमल गट्टे, मिश्री, मूली या सफेद शलजम का उपयोग आहार में करते रहें। सफेद फूल, चंदन या कपूर की सुगंध शुभ फलदायी है। चंदन के तेल में कपूर डालकर उपयोग करना भी श्रेष्ठ रहता है।
-शनि की कृपा प्राप्त करने के लिए तिल, उड़द की दाल, काली मिर्ची, अलसी एवं मूंगफली का तेल, अचार, लौंग, तेजपत्ता तथा काले नमक का उपयोग आहार में करें। कस्तूरी, लोबान तथा सौंफ की सुगंध शनि को अति पसंद है।
-राहु एवं केतु की पीड़ा से बचने के लिए उड़द, तिल तथा सरसों का प्रयोग लाभदायक होता है। काली गाय का घी, कस्तूरी की सुगंध इन्हें प्रिय है।
-रविवार को उड़द, सोमवार को खीर या दूध, मंगलवार को चूरमा या हलुवा, बुध को हरी सब्जी, गुरूवार को पीले चने की दाल या बेसन का प्रयोग, शुक्रवार को मीठा दही, शनि को चने का सेवन करने से सभी ग्रहों की शांति होती है।





Some Desi Tricks to save your Mobile

20 07 2009

b3dispatch11हर मुश्किल आसान
मोबाइल काम नहीं कर रहा और आप हैं परेशान तो ऎसी कई देसी ट्रिक्स हैं, जो वक्त पर काम कर जाती हैं। ये ट्रिक्स साधारण हैं पर वाकई हैं कमाल की।
सेलफोन की चार्जिग कम होने लगे स्विच ऑफ करके फ्रिज में रख दें। पॉकेट में रखे-रखे ही सेलफोन की बैटरी जल्दी कमजोर होने लगे तो इसकी एक वजह है गर्मी। “बैटरी यूनिवर्सिटी वेबसाइट” के एडीटर इसीडोर बुकानन कहते हैं कि ठंडे स्थान पर रखने से सेलफोन की बैटरी अपेक्षाकृत ज्यादा देर तक चलती है। शरीर का 98.6 डिग्री तापमान पॉकेट में पड़े सेलफोन की बैटरी में रासायनिक प्रक्रिया को तेज कर देता है। इससे यह जल्दी ही डाउन होने लगती है। इस स्थिति से बचने के लिए सेलफोन को बेल्ट पर टांगें या पर्स में रखें। अगर चार्जर साथ में नहीं है, तो सेलफोन को स्विच ऑफ करके रेफ्रिजरेटर में रख दें।

सेलफोन गीला हो जाए चावलों के मर्तबान में रख दें। पानी की बाल्टी में गिरने पर सेलफोन की बैटरी को तुरंत निकाल लें, वरना इलेक्ट्रिकल शॉर्ट सर्किट हो सकता है। अब फोन को किसी मुलायम सूती कपड़े से अच्छी तरह पोंछ लें, फिर इसे चावलों के मर्तबान में रख दें। दरअसल चावल मे वाटर मॉलिक्यूल्स के लिए एक तरह का मैग्नेटिक आकर्षण होता है, जिससे सेलफोन में बची-खुची नमी ये चावल सोख लेते हैं और सेलफोन सुरक्षित रह सकता है। आपने इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की पैकिंग में एक छोटा पैकेट देखा होगा, जिस पर लिखा रहता है “डू नॉट ईट” यह पैकेट उपकरण को नमी से बचाने के लिए डाला जाता है।

जब डिस्क गंदी हो जाए माउथवॉश या एल्कोहल से साफ करें। किचर-किचर की आवाज आने लगती है, तो आप डीवीडी या सीडी को साफ करने का फैसला लेते हैं, पर अगर घर में क्लीनर फ्लुइड नहीं है, तो क्या करेंगे। आप एक मुलायम कपड़ा माउथवॉश से भिगो लें। एल्कोहल भी फिंगर प्रिंट्स या अन्य तरह की गंदगी को साफ करने के लिए एक पॉवरफुल सोल्वेंट का काम करता है। मुलायम कपड़े से अच्छी तरह डिस्क को पोंछ डालें, महंगे फ्लुइड की जरूरत ही नहीं पड़ेगी। कुछ लोग डिटॉल जैसे एंटीसेप्टिक सोल्यूशंस का भी इस्तेमाल करते हैं।

जब प्रिंटर का इंक कार्ट्रिज सूख जाए हेयर ड्रायर चला दें। आप कोई जरूरी प्रिंटिंग कर रहे हैं, थोड़ा सा काम बचा हुआ रह गया और अचानक कार्ट्रिज की इंक सूख जाए, तो इस पर दो-तीन मिनट के लिए हेयर ड्रायर चला दें। कार्ट्रिज को दोबारा प्रिंटर में लगाकर इसे गर्म रहते-रहते ही इस्तेमाल करें, आपका काम हो जाएगा।





Is Music is Good For You ?

14 07 2009

girlipodसुरों से दोस्ती
मधुर संगीत आत्मा को छू लेता है, पर आज का यूथ तो अलसुबह से देर रात तक ईयरफोन कान में लगाए अलमस्त रहता है। म्यूजिक के दीवाने तो आप भी होंगे। पर क्या कभी अपने कानों से पूछा है कि उन पर क्या गुजरती है। म्यूजिक हमें तरोताजा रखता है। तन-मन में स्फूर्ति लाता है। पर आजकल ये एक फैशन सिंबल बनता जा रहा है।

दूसरों पर इंप्रेशन जमाना हो, तो मोबाइल या आईपॉड लेकर संगीत की स्वर लहरियों को सुनते-सुनते अपना काम करते रहो। पर क्या यह सब ठीक हो रहा है? आप दुनिया से बेखबर होकर खुद तक सिमट कर रह गए हैं। परिवार और समाज संगीत की बयार में पीछे छूट गए हैं। दिमाग पर जोर डालने की आदत जाती जा रही है। तनिक सा सोच-विचार करने में आलस आने लगता है। संवेदनाएं शून्य हो रही हैं।
बहरे हो जाते हैं

हर समय कानों में संगीत बजने से हमारी सुनने और बोलने की क्षमता प्रभावित होती है। लगातार ऎसा करने पर सुनने की ताकत हमेशा के लिए खो भी सकती है। बहरेपन के साथ ही निरंतर संगीत में खोए रहने से ऊंचा बोलने की भी आदत हो जाती है। कई घंटों तक ईयरफोन लगाकर गाने सुनने पर अगर आपको कानों में घंटियां बजने का भ्रम होने लगे, तो बहरेपन का शुरूआती लक्षण है।

कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज, मणिपाल में किए एक अध्ययन में यह सामने आया है कि ज्यादा समय तक ईयरफोन लगाकर रहने वालों के कानों में बड़ी संख्या में बैक्टीरिया जमा होने का खतरा पैदा हो जाता है। इस अध्ययन में यह भी सामने आया है कि इन उपकरणों के एक सीमा से ज्यादा इस्तेमाल करने से कान में तेज दर्द और सूजन जैसी समस्या भी हो सकती है।

सुनेंगे नहीं तो समझेंगे कैसे
यूरोपियन युनियन साइंटिफिक कमेटी के एक अध्ययन में सामने आया है कि यदि कोई व्यक्ति हर रोज लगातार तेज आवाज में एम-पी थ्री प्लेयर सुनता रहे, तो अगले पांच साल में उसकी सुनने की क्षमता बेहद कम हो जाएगी। नतीजतन आपके सोचने-समझने की क्षमता पर भी गहरा असर पड़ता है। दिमाग किसी भी विषय पर प्रतिक्रिया नहीं कर पाता।

अमरीका के ऑक्यूपेशनल एंड हैल्थ एडमिनिस्ट्रेशन के अनुसार 80 डेसीबल या इससे ज्यादा की आवाजें हमारी श्रवण शक्ति को नुकसान पहुंचाती हैं। विसकॉसिन यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन में यह भी सामने आया है कि आईपॉड सुनने वालों को प्रतिदिन दो घंटे या इससे भी कम समय के लिए ही इसे इस्तेमाल करना चाहिए।

याददाश्त पर असर
घंटों ईयरफोन लगाकर ऊंची आवाज में संगीत सुनने का मतलब है अपनी याददाश्त को कम करना। लगातार म्यूजिक सुनने से आपको सिर्फ संगीत के सिवा कुछ सुनाई नहीं देता। नाक-कान-गला रोग विशेषज्ञ डॉ. राजकुमार गर्ग बताते हैं कि इससे चिड़चिड़ापन और तनाव होने लगता है आपका कोई काम करने में मन नहीं लगता।

कुदरत का संगीत
संगीत सुनना ही है तो सुबह की सैर पर जाइए और चिडियों की चहचाहट या पत्तों की सरसराहट सुनिए। ये कुदरत का संगीत है। इससे आपका मन पूरे दिन खुश रहेगा और आप एक्टिव रहेंगे। इसी तरह अपनों के साथ बैठकर कुछ पल बतियाना, हंसी ठिठोली करना या फिर किसी अपने के गम को बांटना भी हमें वो तसल्ली दे सकता है, जो हर वक्त कानों में बजते संगीत से लाख गुना बेहतर है।





Meditation

13 07 2009

meditationध्यानासन

आपको भूख नहीं लगती, आपका वात, पित्त, कफ असंतुलित है और गठिया की तकलीफ है, तो आपके लिए ध्यानासन फायदेमंद हो सकता है। इससे एकाग्रता बढ़ती है, याददाश्त में भी इजाफा होता है और स्टे्रस कम होता है।

कैसे करें
बड़े आराम से किसी भी ध्यान के एक आसन में बैठ जाएं। अपनी आंखें बंद कर लें, गर्दन सीधी रखें तथा आपका सिर कुछ ऊपर की ओर रहे, कमर (मेरूदण्ड) सीधी रहे। कंधे ढीले, शरीर ढीला तथा अपने मन को एकदम रिलेक्स छोड़ दें। आपकी हथेलियां खुली, आकाश या छत की ओर, दाई हथेली दाएं घुटने पर और बाई हथेली बाएं घुटने पर या चिन मुद्रा या ज्ञान मुद्रा का भी प्रयोग कर सकते हैं। तीन बार लंबी गहरी सांस नाक के रस्ते लें और नाक से ही धीरे-धीरे छोड़ दें। फिर से तीन बार लंबी गहरी सांस अन्दर लें तथा इन्हें धीरे-धीरे मुख के रास्ते छोड़ दें। लंबी गहरी सांसें लेते हुए तीन बार ॐ शब्द का उच्चारण करें।

कितनी देर करें
शुरू में आप अपने अभ्यास को तीस मिनटों से आरम्भ करें, प्रतिदिन आधा मिनट ध्यान के आसन की अवधि बढ़ाते जाएं, इस प्रकार लगभग एक वर्ष के नियमित अभ्यास से आप लगातार तीन घंटों तक बैठ सकने की क्षमता अर्जित कर सकेंगे। कड़े शरीर वाले व्यक्ति भी अन्त में पद्मासन में बैठ सकते हैं। आसन में बैठने की सामथ्र्य, क्षमता ,योग्यता आपके शरीर के लचीलेपन तथा आपकी मानसिक अवस्था के ऊपर निर्भर करती है। इस प्रकार आपका आसन सिद्ध हो जाएगा।

दर्द हो तो क्या करें
ध्यान के आसन में यदि कुछ समय बाद आपके पैरों में तेज दर्द होता है, तो आप अपने पैरों की धीरे-धीरे पांच मिनट तक हाथों से मालिश कर लें और फिर से आसन में बैठ जाएं। आसन-सिद्ध के पश्चात् आप प्राणायाम तथा ध्यान का अभ्यास कर सकते हैं और इनकी उच्चतम अवस्थाओं को प्राप्त कर सकते हैं। आपका आसन जितना अधिक स्थिर होगा ठीक उसी प्रकार आपका मन भी अधिक एकाग्र होगा और इस प्रकार आसन की स्थिरता होने से आप ध्यान योग में आगे बढ़ सकते हैं।

मन की एकाग्रता
आप जीवित मूर्ति की तरह बन जाएं, आपके शरीर में किसी भी प्रकार का कोई भी हलन चलन नहीं हो, आप बाहरी जगत से अपना नाता तोड़ लें। अपना ध्यान आज्ञा चक्र (दोनों भोहों के मध्य भाग) पर केन्द्रित करें, ऎसा करने से आप बड़ी सरलता से अपने मन पर विजय प्राप्त कर सकते हैं; नासिकाग्र पर अपने मन को एकाग्र करने से भी यही फायदा होगा, लेकिन इस प्रकार मन को स्थिर करने में अधिक समय लगेगा, जो व्यक्ति पद्मासन, सिद्धासन या स्वस्तिकासन में नित्य 14 से 21 मिनटों तक अनाहत चक्र में ध्यान करता है, उसको अध्यात्मिक तथा भौतिक लाभ प्राप्त होते हैं।

क्या फायदे
आसनों से पाचन शक्ति बढ़ जाती है, भूख लगती है। गठिया रोग दूर होता है तथा वात, पित, कफ आदि त्रिदोष संतुलित रहते हैं। इनसे टांगों और जंघाओं की नाडियां शुद्ध और शक्तिशाली होती है। यह आसन ब्रह्मचर्य पालन के लिए अति-उपयुक्त है।

ध्यान के आसन
पद्मासन, सिद्धासन (पुरूषों के लिए), तथा स्वस्तिकासन; नए अभ्यासियों के लिए सरल आसन- सुखासन, अर्ध पद्मासन; ध्यान के लिए अन्य सहायक उपयोगी आसन- वज्रासन, आनन्दमदिरासन, पादादिरासन। ध्यान के अभ्यासों के लिए अन्य आसनों का भी प्रयोग किया जा सकता है लेकिन ये उच्च अवस्था में नहीं है।





Get into Size “Right” not in Size Zero

9 07 2009

slim girl

slim girl

फिगर फीवर

आज कॉलेज जाने वाली युवती से लेकर घर रहने वाली महिला तक फिगर फीवर से पीडित हैं। इसके क्या नुकसान हैं और पतले होने के लिए क्या उचित तरीका है आइए जानें-
रेणु भरे बदन की स्वस्थ युवती है। वह किसी भी कोण से मोटी नहीं दिखाई देती। हां, केवल उसके शरीर से उसकी हड्डियॉं दिखाई नहीं देती थीं। वह समझने लगी कि वाकई मोटी हो गई है। इसी चिंता मे उसने खाना-पीना छोड़ दिया।
अब वह जमाना गया जब गदराई छरहरे बदन की युवतियों को सुंदरता की श्रेणी में रखा जाता था। अब पतली-दुबली और अपनी पसलियों की नुमाइश करने वाली लड़कियों को सुंदर और आकर्षक माना जाता है। इस आधुनिक युगीन फिगर को लॉलीपॉप फिगर कहा जाता है। ऎसा फिगर जिसमें शरीर के प्रत्येक हिस्से से हड्डियॉ उभरती हुई दिखाई दें। पेट पीठ की ओर चिपका रहे। यह लॉलीपॉप फिगर शुरू तो फिल्मी दुनिया से हुआ किन्तु अब इसकी पहुंच घर तक हो चुकी है। आज कॉलेज जाने वाली लड़की हो या घर की महिला तक में फिगर के प्रति अति संवेदना व्याप्त है। इसी का परिणाम है हर छोटे-बड़े शहरों में गली-गली में खुलने वाले हैल्थ सेंटर जहां होता है आपके फिगर के फीवर का इलाज।
फिगर का फीवर युवतियों में इस कदर बढ़ गया है कि अगर किसी महिला को राह चलते किसी ने मोटी कह दिया तो उसे तुरंत फिगर का फीवर चढ़ जाता है। इस चिंता में वह निश्चित रूप से दो-तीन दिन खाना छोड़ देगी।

नुकसान भी बहुत हैं

उनकी इसी दिवानगी को देखते हुए हैल्थ सेंटर, जिम आदि का धंधा जोरों पर चल निकला है। इनमें से कुछ तो दवाइयां भी उपलब्ध कराते हैं जिनमें दो से चार सप्ताह में वजन चार-पांच किलो तक कम हो जाने का दावा किया जाता है। इन आकर्षक लुभावने विज्ञापनों की चपेट में अज्ञानतावश दुबली होने के चक्कर में युवतियां आ जाती हैं। इन दवाइयों के हानिकारक प्रभाव होते हैं। इनके सेवन से शरीर का पानी पसीने एवं मूत्र के रूप में बाहर निकलता है जिससे वजन कम हो जाता है। इस प्रकार वजन कम करना शरीर के लिए घातक हो सकता है। ऎसा करके आप कई रोगों को निमंत्रण देती हैं। दूसरी ओर ऎसी युवतियां हैं, जो खाना-पीना ही छोड़ देती हैं ताकि मोटापा आए ही नहीं। इस परिस्थिति में ही महिलाओं के गंभीर रूप से रोग ग्रसित होने के रास्ते खुल जाते हैं। रूचिता ने अपनी जांघें पतली करने के लिए ही खाना-पीना छोड़ दिया। नतीजा उसे अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। कारण जानने पर पता चला कि अपनी सखी द्वारा उसे मोटा कहा गया था।

उचित तरीका

वजन कम करने का सबसे सही एवं आसान तरीका है जितनी कैलोरीज आपने ली हैं, उसे खर्च भी करें। भोजन करके यदि उसे पचाया नहीं गया तो वह शरीर में केवल मोटापा बढ़ाएगा। इसके लिए व्यायाम व योग ही उचित, सरल एवं लाभदायक है, जो आपके फिगर को फिट रखने के साथ आपको स्वस्थ एवं समर्थ भी बनाएंगे। आजकल ऑपरेशन के द्वारा भी वजन कम किए जाने का प्रचलन बढ़ा है। इसी दिशा में प्रेशर गारमेंट का उपयोग भी बढ़ रहा है।
वजन कम करने के लिए खाना-पीना छोड़ देना क्रेश डाइटिंग कहलाता है। यह उचित नहीं है। बजाए इसके नियमित रूप से आवश्यक भोजन लिया जाना चाहिए। अघिक तली हुई मसालेदार वस्तुओं से बचकर भी बढ़ते वजन को रोका जा सकता है। एक ओर स्लिम बनने की चाहत एवं दूसरी ओर प्रिय खाद्य पदार्थोँ का मोह कई महिलाओं को मानसिक रोगी बना देता है। जिसमें वे चटपटा मनपसंद भोजन करने के बाद गले में उंगली डालकर “कै” करके मोटापे से बचती हैं। तो फिर देर किस बात की आज ही उतार फेंकिए अपने फिगर फीवर को। आप स्वस्थ होंगी तो सुंदर दिखाई देंगी। आपके चेहरे पर ग्लो भी आएगा।





Some good saving habbits

3 07 2009

250px-Saving_moneyबूंद-बूंद से घट भरे

यह कहावत हमेशा जेहन में रखं कि बूंद-बूंद से घड़ा भरता है, नदियों से सागर बनता है। आप भी बहुत कुछ अपनी समझदारी से बचा सकती हैं।

महीने का आखिर…और तंगहाली की शिकायत, जिसे दुरूस्त करना जरूरी है। आमदनी अच्छी-खासी है, लेकिन पैसा समाप्त हो जाता है, जबकि बहुत से काम और अगली आमदनी के कई दिन बाकी रहते हैं। यह जेब मेे छेद होने से ही नहीं, आपकी गलत आदतों का भी परिणाम होता है। जानिए बचत के कुछ टिप्स …

-घर के खाने की होड़ नहीं। अगर बार-बार बाहर खाने की आपकी आदत हो तो कोशिश करके उससे बचें। बाहर का खाना जहां महंगा होता है, वहीं नुकसानदेह भी। आपका बजट अकसर इससे भी गड़बड़ाता है।
-हर रोज देर होने पर ऑटो या टैक्सी पकड़ने के स्थान पर बस से आने-जाने की आदत डालें।
-आजकल ज्यादातर ऑफिसों में कर्मचारियों के लिए डिस्पेंसिंग मशीन चाय-कॉफी के लिए लगी होती है। इस चाय-काफी को पीना अपनी आदत बनाएं, ऑर्डर पर ऎसी चीजों पर खर्च ना करें।
-बजाय कैंटीन या बाहर का लंच लेने के आप घर से लंच बॉक्स लेकर जाएं। आजकल ऎसे इलेक्ट्रिक टिफिन आ रहे हैं जिनमें रखा खाना आप खाने से पहले चंद मिनटों में गरम कर सकते हैं। कुछ ऑफिसों में माइक्रोवेव होते हैं या किचन में खाना गर्म करने की व्यवस्था बनी होती है।
-पैसा हाथ में आते ही आप शॉपिंग पर ना निकल पड़ें। यह फिजूलखर्ची बढ़ाने का कारण हो सकता है। बेहतर होगा कि आप आवश्यक सामान की लिस्ट बनाएं और उसके बाद ही खरीदारी करने निकलें।
-आम तौर पर समय या श्रम को बचाने के लिए बाल धोने तक के लिए आप पार्लर चल देते हैं। यदि छोटे-मोटे काम घर पर ही कर लें तो आप बहुत सा पैसा बचा पाएंगी।
-बहुत दिखावे वाले अत्यंत महंगे रेस्तरां में डिनर करने से जहां तक हो सके बचें। जरूरी नहीं कि महंगे होटलों व रेस्तरां में ही खाना अच्छा होता है, कई छोटे रेस्तरां भी सफाई व क्वालिटी का ध्यान रखते हैं।
-बहुत से लोग मोबाइल हाथों में होने पर अपने पर नियंत्रण नहीं रख पाते। उनके हाथ लगातार सक्रिय रहते हैं और इसी कारण वे अकसर जाने-अनजाने नई से नई रिंग टोन लोड कर अपना बिल बढ़ाते रहते हैं।
-यदि फिल्म देखनी हो तो सीडी लाकर फिल्म देखें। आज यदि दो लोग भी थियेटर पर फिल्म देखने जाते हैं तो तीन से चार सौ रूपए खर्च होंगे। वीडयो लाइब्रेरी से लाकर भी फिल्म देख सकते हैं।
-जब भी वीकएंड या किसी यात्रा पर जाना हो तो कॉमिक या नॉवल घर से ले जाएं। लंबी यात्रा पर रास्ते में महंगी किताब खरीदने से बचेंगे और अपना पैसा बचा पाएंगे।
-किसी भी दुकान से सामान खरीद आप बार्गेनिंग की शिकार हो फालतू पैसा दे सकती हैं। फिक्स रेट की दुकान पर क्वालिटी सही मिलती है और दुकानदार से चिकचिकबाजी से भी आप बचती हैं।





Make up Myths

29 06 2009

makeup-mythमेकअप करें पर…

मेकअप करने से पहले इस्तेमाल में आने वाली सामग्री की सही जानकारी होना बहुत जरूरी है। आइए जानें मेकअप से जुड़ी कुछ भ्रान्तियों और सच्चाई के बार में-

भ्रान्ति
सिर में मेहंदी लगाने से बालों का प्राकृतिक रंग खत्म हो जाता है तथा बाल टूटने लगते हैं।
तथ्य
मेहंदी बहुत अच्छी कंडीशनर है। हमेशा अच्छी मेहंदी उपयोग में लाएं। लगाने से पहले मेहंदी को दो-तीन घंटे भिगोएं। यह भ्रान्ति गलत है कि मेहंदी लगाने से बाल टूटते हैं और प्राकृतिक रंग समाप्त हो जाता है।

भ्रान्ति
कच्चा दूध लगाने से चेहरे पर रोए पड़ जाते हैं।
तथ्य
यह पूरी तरह गलत है। कच्चे दूध से त्वचा दाग रहित व मुलायम होती है। चेहरे में कसावट आती है। कच्चे दूध में यदि नमक मिला लिया जाए, तो यह बेहतर क्लींजिंग का काम करता है।

भ्रान्ति
नेल पॉलिश से नाखून मजबूत होते हैं।
तथ्य
यह सच नहीं है। नेल पॉलिश लगी होने से नाखून को ऑक्सीजन नहीं मिलती और उन पर पीलापन आने लगता है। इससे बचने के लिए मेनीक्योर के बाद एक दिन नाखूनों को नेल पॉलिश रिमूवर से साफ करें।

भ्रान्ति
चेहरे पर ब्लीच करने से त्वचा पर कालापन आता है।
तथ्य
ब्लीच जल्दी-जल्दी नहीं करानी चाहिए। दो ब्लीज के बीच कम से कम तीन महीने का अंतर जरूर हो। इसे कराने के बाद धूप में भी न निकलें। बीच-पच्चीच मिनट बाद ही धूप में निकलें, जिससे चेहरे पर कालेपन की भ्रान्ति दूर होगी।

भ्रान्ति
लिपस्टिक लगाने से ऊपरी होंठ के बाल बढ़ जाते हैं।
तथ्य
यह भ्रान्ति पूर्णत: गलत है। उम्र बढ़ने के साथ-साथ हॉर्मोनल परिवर्तन के कारण कभी-कभी महिलाओं के ऊपरी होंठ पर बाल बढ़ जाते हैं। लिपस्टिक से ऎसा कुछ नहीं होता।

भ्रान्ति
फेशियल से चेहरे पर झुर्रियां पड़ जाती हैं।
तथ्य
यह भ्रान्ति गलत हैं। नियमित फेशियल चेहरे पर कसाव लाता है। बशर्ते यह अनुभवी विशेषज्ञ से निश्चित अन्तराल पर कराया जाए।

भ्रान्ति
अरीठा लगाने से बाल रूखे हो जाते हैं।
तथ्य
अरीठा की सही मात्रा बालों को मुलायम बनाती है। यदि अरीठा पाउडर में एक चम्मच मेथी पाउडर मिलाया जाए, तो बाल चमकदार बन जाएंगे, रूखेपन से जुड़ी भ्रान्ति पूर्णत: निरर्थक है।





How Trustworthy You Are

26 06 2009

Trustworthiness
विश्वास आपका
क्या आपको लगता है कि आप दूसरों के राज को सबको सामने खुली किताब की तरह रख देती हैं, तो आपको अपनी विश्वसनीयता को परखने की आवश्यकता है।

1. आपकी सहेली की बेटी घर पर नहीं है। इस बात का पता लगते ही आप-
क. सभी परिचितों को इस बारे में बता देंगी।
ख. इस बात को अपने तक ही सीमित रखेंगी।

2. आपकी पड़ोसिन सास की बुराई यह कहकर करती है कि किसी से कहना नहीं। तब आप-
क. इसकी चर्चा किसी से नहीं करेंगी।
ख. सहेली की सास को फौरन सबकुछ बता देंगी।

3. किसी भी काम को करने की तिथि निश्चित करने के बाद क्या आप-
क. उस काम को करती हैं।
ख. बहाना बनाकर टाल देती हैं।

4. आपके भाई-भाभी के बीच यदि किसी बात को लेकर तनाव होता है-
क. दोनों के रिश्ते को ठीक करने का प्रयास करेंगी।
ख. दोनों से एक-दूसरे की बुराई करके तनाव को बढ़ा देंगी।

5. ऑफिस में अन्य सहकर्मी को डांट पड़ने पर-
क. चुपचाप अपना काम करती रहेंगी।
ख. दूसरे सहकर्मियों को बुलाकर मजे लेती हैं।

6. हर छोटी-छोटी बात पर क्या दूसरों से सलाह लेती हैं-
क. हमेशा ही सलाह लेती हैं।
ख. जरूरत पड़ने पर ही लेती हैं।

7. क्या सामने वाले व्यक्ति को अपने बारे में कुछ बताने के बजाय उसके बारे में ज्यादा प्रश्न पूछती हैं-
क. हां
ख. नहीं

अंकतालिका
क्रमांक —- क — ख
1. ———- 0 — 5
2. ———- 5 — 0
3. ———- 5 — 0
4. ———- 5 — 0
5. ———- 5 — 0
6. ———- 0 — 5
7. ———- 0 — 5

परिणाम
– यदि आपने 30-35 अंक प्राप्त किए हैं तो इसका मतलब है कि आप पूर्णतया भरोसेमंद हैं और इस बात को आप अपने व्यवहार से साबित करती हैं।
– आपके अंक 15-30 हैं तो इसका अर्थ यह है कि आप विश्वसनीय बनने की कोशिश तो करती हैं पर पूरी तरह सफल नहीं हो पातीं। आपको अपने व्यवहार में सुधार लाने की आवश्यकता है। ऎसी हरकत करने से बचें जिससे किसी की भावनाएं आहत हों।
– यदि आपने 0-15 अंक पाए हैं तो फिर आप कतई विश्वसनीय नहीं हैं। आप दूसरों की भावनाओं के साथ अक्सर ही खिलवाड़ करती हैं, जो कतई उचित नहीं है। यदि आप चाहती हैं कि दूसरे आप पर विश्वास करें तो आपको भी स्वयं को विश्वसनीय सिद्ध करना होगा जो कि आप अपनी आदतों में परिवर्तन करके ही कर सकती हैं।





MEDIA MONOPOLY DEMOLISHED IN MP

25 06 2009

Patrika with 5,75,000 readers (Latest IRS Interim report)
Challenges the leader in Bhopal & Indore
and leads over all the other players in the region, In just 6 months

Madhya Pradesh, the only state where monopoly existed in the Hindi belt of newspaper market has witnessed a sea change. The leader’s 50 years old monopoly has been finally demolished. Based on the latest issued figures by Indian Readership Survey Interim report for July- Dec 08, the recently launched newspaper; Patrika, which comes from Rajasthan Patrika Group has 5 lakh 75 thousand readers in Bhopal and Indore, this puts it neck to neck with the leading daily, in just six months.
Patrika enjoys a big lead over the rest of the players in Bhopal and Indore; in fact its readership is more than the numbers of both the 3rd and 4th major player in the state put together.

Elated National Head Marketing, Dr. Arvind Kalia states, “ It is truly a great moment for Patrika team. When we entered MP an year ago, we came with a commitment that we shall always maintain a high level of quality. I thank the readers and advertisers of MP who have shown their faith in the newspaper.”

Though the interim report is anyways not comparable with the full report, the indicators are very strong. The interim survey findings of Patrika are based on the readership of Bhopal on a major basis, as the Indore edition of Patrika was launched during the later part of the survey period. This signals the strong reach of Patrika in Bhopal and good results are expected in the full report.

mptable

It is interesting to compare what Bhaskar has achieved 50 in years, with what Patrika has achieved in just 6 months putting the leader in a defending position in Bhopal and Indore. Dainik Bhaskar is already witnessing a continuous decline in its readership of Bhopal and Indore editions, since IRS R2 07. From 20.85 lacs readers in R2 07, the readership has declined by 21% to 16.45 lacs, whilst the ad rates were always sky-high, because of which the CPT for the advertisers rocketed from Re.0.60 in R2 07 to Rs. 1.07 in R1 09 an increase of 78%!

The story of DB Star launch in MP seems contrary to that of Mumbai Mirror. Dainik Bhaskar adopted a similar strategy to defend its market share when Patrika’s launch in MP, but as per the interim IRS results, the readership of DB Star is 1.61 lacs, which is miniscule. Though Mumbai Mirror, which comes from TOI, is a hit, DB Star could not make it. Does it indicate towards a poor product?

Dr. Kalia says, “Bhopal and Indore together contribute to 74% of the total ad spends on the state of MP. Patrika is already on the way to capture the major share from advertisers in many sectors. To name a few, for the month of May 09 – Patrika has a 100% ad share of educational clients such as Resonance, FIT JEE, Asia Pacific, IT Bench, Gupta tutorials and many others in Indore. In Bhopal also, Patrika has ad share of more than 50% in segments like real estate, lifestyle, automobile and education.
Dr. Kalia adds, “The advertisers are getting a good response by choosing Patrika as their media vehicle.





Handwriting Analysis

22 06 2009

hand-Writingकुछ कहती है कलम

क्या आप जानते हैं कि लिखावट में थोड़ा सा बदलाव जीवन में सकारात्मक परिवर्तन ला सकता है। मुंबई की ग्रेफोलॉजिस्ट चंद्रप्रभा वी. पपला की मानें तो यह पूरी तरह संभव है। वे दे रही हैं इस काम को बखूबी अंजाम। चंद्रप्रभा मुंबई मे एक ग्रेफोलॉजिस्ट सर्विस चलाती हैं, जो अपने ग्राहकों की लिखावट का अध्ययन करती हैं और लिखावट में बदलाव के जरिए उनके व्यक्तित्व में बदलाव के सुझाव देती हैं। उनके ग्राहकों में आईबीएम और इस्पात जैसी कॉरपोरेट कंपनियां भी हैं, जो अपने कर्मचारियों की नियुक्ति से पहले उनकी लिखावट का अध्ययन चंद्रप्रभा से कराती है। फिर उनकी रिपोर्ट के आधार पर ही उनकी नियुक्ति करके व्यक्तित्व के हिसाब से काम सौंपने का फैसला करती हैं। इन दो कंपनियों के अलावा कई अन्य छोटी-बड़ी कंपनियां और फर्म उनकी सर्विस से सेवाएं ले रही हैं।

तकदीर जुड़ी लिखावट से
चंद्रप्रभा 2004 से ग्रेफोलॉजिस्ट यानी लिखावट विशेषज्ञ के रूप में काम कर रही हैं। वे मनोचिकित्सक बनना चाहती थीं, लेकिन यह सपना पूरा नहीं हो पाया। उन्होंने ग्रेफोलॉजी और मनोविज्ञान के बारे में किताबें पढ़ीं। अपनी मेहनत के दम पर अमरीका के इंटरनेशनल ग्रेफोलॉजी एसोसिएशन से उन्होंने इस क्षेत्र में विशेषज्ञता का प्रमाण-पत्र हासिल किया। इसके बाद उन्होंने कैफे कॉफी डे में लोगों की लिखावट का विश्लेषण करना शुरू किया। इसके लिए वे हर ग्राहक से 50 रूपए लेती थीं और उनकी लिखावट देख कर उनके व्यक्तित्व के बारे में उन्हें बताती थीं। साथ ही लिखावट में मामूली बदलाव से व्यक्तित्व की कमियां दूर करने के सुझाव देती थीं। उनका यह अनुभव बहुत अच्छा रहा। हालांकि लोगों को उनके हुनर पर एकाएक विश्वास नहीं होता था। लोगों को विश्वास दिलाने के लिए वे उन्हें बताती थीं कि यह कला पूरी तरह वैज्ञानिक है और सटीक बैठती है।

करिश्मा हुनर का
चंद्रप्रभा को पहला बड़ा ब्रेक मिला 2006 में दिल्ली में हुए एक एचआर कन्वेंशन में। उस वक्त वे कुछ कॉरपोरेट्स के लिए फ्रीलांस ग्रेफोलॉजिस्ट के रूप में काम कर रही थीं। इस दौरान वे इन कंपनियों के मालिकों से मिलतीं और उन्हें अपने हुनर के बारे में जानकारी देतीं। आईबीएम और इस्पात के अघिकारी उनके हुनर से बहुत प्रभवित हुए। आज वे अपनी एक कंपनी सीजीएस चलाती हैं और कई कंपनियों को सेवा देती हैं। उनकी फीस 3000 से 25000 रूपए तक है। यह फीस व्यक्तियों और कंपनियों के लिए अलग-अलग है। उनकी फर्म की सबसे अनूठी सर्विस है हस्ताक्षर डिजाइनिंग।

उनका दावा है कि यह बहुत सही और सकारात्मक परिणाम देने वाली सर्विस है, जो ग्रेफोलॉजी के मूल सिद्धांतों पर आधारित है। इसमें हस्ताक्षर मे बदलाव के जरिए व्यक्तित्व और काम में सकारात्मक परिणाम मिलते हैं। इसके अलावा उनकी कॉर्पोरेट सर्विस में स्ट्रेस मैनेजमेंट और कंपनियों के मानव संसाधन विभाग के लोगों के लिए लिखावट के विश्लेषण से संबंघित प्रशिक्षण भी शामिल हैं। मुंबई में जंबों किंग वड़ा पाव चेन चलाने वाले धीरज गुप्ता ने अपनी कंपनी कालोगो उनसे डिजाइन कराया और खुद ने भी प्रशिक्षण प्राप्त किया। आज वे न सिर्फ अपने काम बल्कि खुद मे भी काफी बदलाव महसूस कर रहे हैं।

लिखावट बदलती है व्यक्तित्व
चंद्रप्रभा बताती हैं कि लिखावट के विशलेषण का अपना विज्ञान है। जैसे अंग्रेजी वर्णमाला के अक्षर-टी- को लिखने के करीब 50 अलग-अलग तरीके हैं। हम इनमें से तीन-चार तरीके ही जानते हैं और काम में लेते हैं। कोई भी स्ट्रोक नकारात्मक या सकारात्मक नहीं होता। जब आप अपने व्यवहार में बदलाव चाहते हैं, तब हम आपको अपनी जरूरत के हिसाब से स्ट्रोक में बदलाव करने की सलाह देते हैं। इसके लिए करीब 45 दिन तक हर रोज दो-तीन पेज का अभ्यास कराया जाता है। जब आप अभ्यस्त हो जाते हैं, तो यह बदलाव आपकी लिखावट में शामिल हो जाता है। इसके लिए प्रेक्टिस बुक और पढ़ने की सामग्री भी दी जाती है। चंद्रप्रभा किसी भी भाषा में काम कर सकती हैं, पर वे रोमन लिपि में ही ज्यादा काम करती हैं क्योंकि ग्रेफोलॉजी का पूरा विकास इसी लिपी में हुआ है। ग्रेफोलॉजी में अक्षर की बनावट, आकार, स्पेस, रिदम, दो अक्षरों, शब्दों और पंक्तियों के बीच का स्पेस आदि कई आधार पर विशलेषण किया जाता है।





Bulid your decision making skill

19 06 2009

decision making

decision making

कितना है आप में डिसीजन पावर

कुछ लोग बडे कन्फ्यूज रहते हैं। निर्णय लेने में कच्चे होते हैं। समझ नहीं पाते कि क्या करें और क्या न करें। आप भी उनमें से एक हैं, अगर हां, तो गौर कीजिए इन डिसीजन मेकिंग स्किल्स पर और बन जाइए निर्णय लेने में स्मार्ट एंड फास्ट।
– शुरूआत छोटे मुद्दों पर फैसला लेने से करें।
– फैसला लेते समय अपनी आंखें बंद करें और उसके बारे में सोचें।
– आप ऎसा फैसला ले रहे हैं जिसमें दूसरे लोग शामिल हैं, तो सलाह जरूर लें।
– यदि फैसला महत्वपूर्ण है, तो उसमें समय खर्च करने से न घबराएं।
– इस बात की चिंता न करें कि आपका फैसला गलत होने के बाद लोग क्या कहेंगे।
अभ्यास करें
कोई भी फैसला लेने में कठिनाई तब आती है जब हम छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देते हैं। इसलिए छोटी-छोटी बातों पर ध्यान न दें। शुरूआत छोटे मुद्दों पर फैसला लेने से करें।
प्राथमिकमताएं तय करें
हर फैसले में यह फैक्टर जरूरी होता है। फैसला लेते समय अपनी आंखें बंद करें और उसके बारे में सोचें। इस दौरान बाकी सभी चीजों को भूल जाएं।
सलाह लें
यदि आप ऎसा फैसला ले रहे हैं जिसमें दूसरे लोग शामिल हैं, तो सलाह जरूर लें। उदाहरण के लिए आप ऎसा सोचते हैं कि आपके कॉम्पलैक्स का इंटरकॉम सिस्टम बेकार है और उसे बदलने की जरूरत है, तो आप अकेले यह फैसला नहीं कर सकते। आपके बिल्डिंग के अन्य सदस्यों से भी यह बात करनी पड़ेगी। अपनी मैनेजिंग कमेटी के समक्ष यह प्रस्ताव रखने की पहल आप करें। उन्हें कारण बताएं कि बिल्डिंग को नए इंटरकॉम की आवश्यकता क्यों है। इस तरह आप एक कॉमन डिसीजन ले सकते हैं।
विकल्प तलाशें
जितना हो सकें प्रेक्टिल विकल्प ढूंढ निकालें। यदि फैसला महत्वपूर्ण है, तो उसमें समय खर्च करने से न घबराएं। सभी विकल्पों को ध्यान से देखने के पश्यात उनमें से उत्तम को चुनें।
जिम्मेदारी लें
कभी भी इस बात की चिंता न करें कि आपका फैसला गलत होने के बाद लोग क्या कहेंगे।





Strong and long hairs

15 06 2009

long hairs

long hairs

रेशमी जुल्फें
आपके बाल आपकी खूबसूरती को देते हैं नया अंदाज। तो फिर क्यों न करें इनकी खास देखभाल। इसके लिए हम लाएं हैं आपके लिए इस बार विशेष सामग्री।
क्या आप नहीं चाहतीं कि आपके बाल घने, लंबे, चमकदार और स्वस्थ रहें। इसके लिए अपनी दिनचर्या, भोजन, व्यायाम नींद, मानसिक स्थिति आदि पर ध्यान दें।
भोजन
स्वस्थ और सुंदर बालों के लिए भीतरी पोषण बेहद जरूरी है। इसलिए आपके भोजन में विटामिन बी, बी-कॉम्पलैक्स, विटामिन सी, ड़ी, ई, कैल्शियम, आयोड़ीन, फॉस्फोरस, आयरन इत्यादि अवश्य लेने चाहिए। ये पोषक तत्व दूध, दही, पनीर, मक्खन, गाजर, टमाटर, पालक, नीबू, आंवला, खजूर, आम, संतरा, सेब आदि में भरपूर मात्रा में होते हैं।
पाचन अच्छा रहे
बालों की सुरक्षा के लिए यह भी जरूरी है कि आपका पाचन ठीक रहे और कब्ज न हो। तली हुई चीजें, मिठाई आदि का सेवन कम मात्रा में करें व हरी सब्जी, फल व सलाद खूब खाएं और अघिक से अघिक पानी पीएं।
मालिश
– खुश्क बाल देखने में पतले और निस्तेज होते हैं। इसलिए रूखे बालों में हफ्ते में दो बार सिर धोने से पहले गुनगुने तेल से मालिश करनी चाहिए। थोड़ा सा जैतून का तेल गर्म करके उंगलियों के पोरों से बालों की जड़ में लगाएं।
– तैलीय बालों में अघिक चिकनाई के कारण धूल अघिक जमती है। मैल से तेल ग्रंथियों के छिद्र बंद हो जाते हैं। अत: ऎसे बालों मे ठंड़े पानी में एक नीबू निचोड़ कर उंगलियों के पोरों से मालिश करें।
– सामान्य बालों में नारियल के तेल में थोड़ा सा जैतून का तेल और थोड़ा सा नीबू का रस मिलाकर गुनगुना करके उंगलियों के पोरों से कम से कम पंद्रह मिनट मालिश करें।
व्यायाम
शरीर के अन्य अंगों की तरह बालों के लिए व्यायाम भी बहुत जरूरी है। इसके लिए मालिश के बाद बालों की मुटी में भर कर धीरे से खींचे और लटों को उंगलियों पर लपेट कर धीरे-धीरे ऎंठें।
यूं करें कंघी
रात को सोने से पहले मुलायम ब्रश या मोटे दांत के कंघे से ऊपर से नीचे की ओर कंघी करें। इससे बालों का व्यायाम तो होगा ही साथ ही दिन भर के गंदे बाल भी साफ हो जाएंगे।
शैम्पू
– खुश्क बालों के लिए रीठा, शिकाकाई, आंवला-चूर्ण का प्रयोग बेहतर रहता है।
– तैलीय बालों के लिए नीबू युक्त शैम्पू का प्रयोग करें।
– सामान्य बालों के लिए किसी भी अच्छी कंपनी का मृदृ शैंपू प्रयोग में लाएं। शैंपू के बाद बालों को पानी से अच्छी तरह धोना न भूलें। धोने के बाद बालों को हल्के हाथ से मुलायम तौलिए से धीरे-धीरे पौंछे और उन्हें प्राकृतिक रूप से सूखने दें।





The Rejuvenating mantra

12 06 2009

tired lady

tired lady

थकान भगाएं

लगातार एक ही काम करने से ज्यादा थकान होती है। इसलिए एक ही कार्य न कर बीच-बीच में थोड़ा आराम करें चाहे वह आराम 5 से 10 मिनट तक का ही क्यों न हो।
* थकान दूर करने के लिए जरूरी है गहरी नींद। थकान तब ज्यादा अनुभव होती है जब आप पर्याप्त नींद नहीं लेते। इसलिए रात को देर तक न जागें। समय पर सो जाएं और अच्छी और गहरी नींद लें। नींद शरीर की विश्रामावस्था है। अगर शरीर को विश्राम नहीं मिलेगा तो वह पुन: काम करने के लिए कैसे तैयार होगा। इसलिए पर्याप्त नींद लें। अगर आप हॉउसवाइफ हैं, तो दिन में भी भोजन के उपरांत थकावट दूर करने के लिए एक ड़ेढ़ घंटे की नींद ले लें।
* सुबह नाश्ता अवश्य करें। कई लोग जल्दी में नाश्ता तक नहीं करते। इससे वे अधिक थकान महसूस करते हैं। सारी रात भूखे रहने के पश्चात् सुबह शरीर को एनर्जी भोजन देता है इसलिए सुबह भारी नाश्ता लें। भोजन करने के पश्चात् आपके पास सारा दिन कार्य करने की एनर्जी आएगी और आप चुस्ती से काम करेंगे। अगर आपके शरीर में एनर्जी नहीं होगी तो आप आलस्य और थकान महसूस करेंगे।
* सुबह सैर करें और नियमित व्यायाम करें। शरीर को चुस्त और मन को प्रसन्न रखने का यह सबसे आसान तरीका है। कोई भी आसान व्यायाम जैसे सुबह प्रकृति के समीप टहलना, तैराकी, जòागिंग जो भी अच्छा लगे, वह करें। इससे आपकी थकान दूर भाग जाएगी।
* थकान दूर भगाने में मालिश एक कारगर उपाय है। इससे शरीर को आराम मिलता है। रात को सोने से पूर्व हल्की मालिश करें।
* थकान दूर करने के लिए आप योग और मेडिटेशन का सहारा भी ले सकते हैं। इससे आपके तन को विश्राम और मन को शांति मिलेगी।
* अपने कार्य को जितना व्यवस्थित रखेंगे, उतना ही थकान कम महसूस करेंगे। हर वस्तु को यथास्थान रखें ताकि उसे ढ़ूंढ़ने में हुए परिश्रम से बच सकें और थकावट महसूस न करें। इस प्रकार जब आपके सभी काम व्यवस्थित होंगे तो आप आराम और सहूलियत महसूस करेंगे।
* संतुलित, पोषक तत्वों से युक्त भोजन लें। किसी पोषक तत्व की कमी आपको थकान या कोई रोग भी दे सकती है। भोजन में लौह तत्व, हरी सब्जियों, फलों, अनाज, सीफूड़ और आइरन के स्रोतों को सेवन करें।
* थकान आपको न हो, इसके लिए आप सकारात्मक भावनाओं को अपने जीवन का अंग बनाएं। नकारात्मक भावनाएं जैसे तनाव, चिंता, ड़र, ईष्र्या आदि विचार व्यक्ति की शारीरिक ऊर्जा को तो नष्ट करते ही हैं साथ ही ऎसी भावनाएं व्यक्ति के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव ड़ालती हैं। इसलिए आशावादी और हंसमुख बनिए।
* थकान दूर भगाने का एक तरीका है कि आप कोई हॉबी अपना लें। जब भी थकान महसूस करें, सब काम छोड़ उस हॉबी में एकाग्रचित हो जाएं। आपकी सारी थकान छूमंतर हो जाएगी।
* अपने आप को अगर अपने दोस्तों, परिवार के साथ व्यस्त रखेंगे तो कम थकान अनुभव करेंगे, क्योंकि उनका अपनापन और प्यार आपको ताजगी महसूस कराता रहेगा।





Mole and your Personality

9 06 2009

girl with mole

girl with mole

गोरे चेहरे पर
तिल हमारे व्यक्तित्व की भी पहचान कराते हैं। शरीर पर इनका रंग, आकार और स्थान कुछ हद तक भाग्य के बारे में भी बता देते हैं।
गोरे चहरे पर काला तिल हो तो किसी की भी सुन्दरता में चार चांद लग सकते हैं। पर सुंदरता के साथ-साथ यही तिल कहीं न कहीं हमारे व्यक्तित्व की पहचान भी कराते हैं। इनका रंग, आकार और स्थान हमारे भाग्य के बारे में भी बताते हैं। आइए जानें क्या बताते हैं ये तिल-
– गहरे रंग का तिल बाधाओं को दर्शाता है।
– ऎसा माना जाता है कि शरीर पर लाल रंग के तिल पूर्व जनम में आपको लगी चोट के निशान होते हैं।
– हल्के रंग के तिल आपकी सकारात्मक और नकारात्मक विशेषताओं को दर्शाते हैं।
– बड़े तिल शगुन को बढ़ाते हैं।
– जिस तिल पर बाल होते हैं उन्हें अच्छा नहीं माना जाता।
तिल की जगह और आपका व्यक्तित्व
ललाट- दाई तरफ का तिल विलक्षण प्रतिभाऔं को दर्शाता है। बाई तरफ का तिल फिजूलखर्ची को और मध्य का तिल प्रेमियों के लिए भाग्यशाली होता है।
गाल पर- दाएं तरफ का तिल स्वस्थ वैवाहिक जीवन की निशानी है।
होंठ- विलासिता की निशानी।
ठोड़ी- संतुष्ट और सफलता का चिह्न माना जाता है।
कान- गंभीरता और विचारशील व्यक्तित्व को दर्शाते हैं।
आंख- ऎसे व्यक्ति मितव्ययी होते हैं।
पलक- अंतर्मुखी और संवेदनशीलता की निशानी है।
आंख के अंदर- ऎसे लोग भावुक होते हैं।
भौहें- दाई तरफ का तिल खुशहाल वैवाहिक जीवन की निशानी है।
मुंह- मुंह के पास में जिसके तिल होता है शादी के बाद उनके भाग्य का उदय होता है। ऎसे लोग धनी होते हैं।
नाक- सफलता और उन्नति की निशानी है।
जबड़ा- शारीरिक रूप से कमजोर।
गर्दन- ऎसे व्यक्ति भरोसेमंद दोस्त होते हैं।
गुद्दी- परिश्रमी लोग होते हैं।
कंधा- जिन लोगों के दाई तरफ तिल होता है वह दृढ़ संकल्पी होते हैं। जिनके बाई तरफ तिल होता है उन्हें गुस्सा जल्दी आता है।
बांह- उत्सुकता इनके व्यवहार में होती है।
कलाई- ऎसे लोग बुद्धिमान और प्रतिभाशाली होते हैं।
कमर- ऎसे लोग रोमांटिक होते हैं।
पेट- सुस्त और स्वार्थीपन को दर्शाता है।
कोहनी- ऎसे लोग विद्वान होते हैं।
नाभि- मनमौजी और मूड़ी मिजाज।
कमर- जिसके दाई तरफ तिल होता है वह व्यक्ति वफादार और ईमानदार होता है।
घुटने पर- इन लोगों का वैवाहिक जीवन सुखी होता है।
पांव- लापरवाह को दर्शाता है।
टखने- ये व्यक्ति स्वतंत्र विचारों वाले होते हैं।





Healthy Diet:Warm and cool do not make a good combination

6 06 2009

junk food

junk food

ठंड़ा और गर्म

नए-नए खाद्य पदार्थो और पेय पदार्थो के आकर्षक विज्ञापन देख लोग उनसे प्रभावित होते हैं और उनका सेवन करने लगते हैं। चाहें वे स्वास्थ्य को हानि पहुंचाने वाले ही क्यों न हों। पाश्चात्य सभ्यता, फास्ट फूड़ और कोला कल्चर के प्रभाव से आजकल लोग आहार की गुणवत्ता की अपेक्षा स्वाद पर ज्यादा ध्यान देने लगे हैं। इसी वजह से लोग उन सुखादु व्यंजनों को खाना पसंद करते हैं, जो स्वादिष्ट, चटपटे और विविध प्रकार के स्वाद वाले हों। मीडिया मे नित नए-नए खाद्य पदार्थो और पेयों के आकर्षक विज्ञापन देखकर लोग उनसे प्रभावित होत हैं और उनका सेवन करने लगते हैं, चाहे वे स्वास्थ्य को हानि पहुंचाने वाले ही क्यों न हों।

समय परिवर्तन और जीवनशैली में बदलाव के कारण आजकल आहार-विहार में बहुत सी विकृतियां आ गई हैं। चाउमीन, पिज्जा, भेलपुरी, छोले भटुरे साथ में कोल्ड़ ड्रिंक और आइसक्रीम यानी गर्म के साथ ठंड़े का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि यह शरीर के लिए हानिकारक है। इस तरह गर्म पर ठंड़े के प्रयोग से आमाशय में उत्पन्न पाचक रसों मे विकार आ जाता है। इससे भोजन से जो ऊर्जा मिलनी चाहिए वह भी नहीं मिलती। अपाच्य भोजन आमाशय और आंतों में ही पड़ा रहता है, जिससे मंदागि्न, कब्जी, गैस आदि विभिन्न पाचन संबंधी रोगों की संभावना रहती है। इन सबके अतिरिक्तमोटापा भी बढ़ता है।





Healthier mind,Beautiful Skin

1 06 2009

beautifulskinमन सुंदर तो तन सुंदर

जब मन प्रसन्ना रहता है, तो त्वचा भी तनावरहित रहती है। चेहरे पर आभा दमकती है। हम जो कुछ सोचते या महसूस करते हैं, उसका त्वचा पर सीधा असर पड़ता है। रोमांच होन पर रोंगटे खड़ होने वाली बात एक छोटा सा उदाहरण है। विशेषज्ञों ने त्वचा को इंद्रियों का एंटिना कहा है। खुश होने पर त्वचा चमकने लगती है, शर्म महसूस होने पर चेहरा गुलाबी हो जाता है, किसी परेशानी में चेहरे पर दाने उभर आते हैं और रोने पर चेहरे की मांसपेशियां तन जाती हैं, रोमछिद्र सिकुड़ जाते हैं, त्वचा की सतह से रक्त निचुड़ सा जाता है और वह सफेद भी दिखने लगती है। भावनाओं और मानसिक तनाव के कारण कई त्वचा रोग जैसे दाने, चकत्ते, झांइयां, या एग्जिमा हो सकता है। चेहरे पर असमय झुर्रियां पड़ सकती हैं, बाल सफेद हो सकते हैं।

अक्सर हम त्वचा को केवल एक ऊपरी आवरण समझकर उसे चमकाने और युवा बनाए रखने के प्रयत्न में लगे रहते हैं, लेकिन यह नहीं जानते कि यह एक बेहद संवेदनशील भावनात्मक बैरोमीटर भी है। जब कभी त्वचा सूखी सी लगती है, उस पर से पपड़ी उतरने लगती है तो हम मैसम, किसी प्रसाधन या अपने हाजमे को दोष देते हैं, लेकिन इन सबके साथ-साथ जो अन्य कारण होते हैं, वे हैं तनाव, चिंता, उदासी या मायूसी। इन सबके कारण त्वचा के रोमछिद्र सिकुड़ जाते हैं। रक्त का संचार अर्थात ऑक्सीजन और पोषक तžवों का प्रवाह दूसरी ओर मुड़ जाता है, पसीना अघिक आने लगता है तथा कोशिकाएं नष्ट होन लगती हैं।

त्वचा की प्राकृतिक नमी कम होती जाती है, तेल अघिक बनने लगता है और इन सब कारणों से दाग, धब्बे, पपड़ी व धारियां पड़ने लगती हैं। त्वचा बुझी, निस्तेज और झुर्रीदार नजर आने लगती है। जब मन प्रसन्न रहता है, तो त्वचा भी तनावरहित रहती है। रोमछिद्र खुले रहते हैं। रक्तप्रवाह ठीक रहता है। चेहरे पर स्वास्थ्य की आभा दमकती है। तेल का उत्पादन सामान्य होता है व त्वचा चिकनी, जवान और जानदार लगती है, रंग भी साफ नजर आता है। भावनाओं और त्वचा का गहरा संबंध है। यदि आप कभी देखें कि शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने पर भी आपकी त्वचा बेजान सी है या विकृत हो रही है, तो संभव है कि आपका भावनात्मक संतुलन ठीक नहीं है। अपने नकारात्मक विचारों पर काबू पाकर खूबसूरत बनने के साथ आप एक बेहतर इंसान भी बन सकती हैं।
Healthier mind Beautiful skin!!!!!





Vaastu for your Kitchen

28 05 2009

modular kitchen

modular kitchen

आपका रसोईघर

किसी भी भवन में रसोईघर का स्थान महत्वपूर्ण होता है, वास्तुसम्मत रसोईघर कैसा हो, ज्योतिषीय विश्लेषण से जानें।
प्राचीनकाल में रसोईघर प्राय: घर के बाहर सुविधानुसार और वास्तु सम्मत स्थान पर होता थी। तब रसोईघर में इतने सुविधाजनक संसाधन भी नहीं होते थे, जो आधुनिक युग में रसोईघर में प्रयोग होते हैं। डाइनिंग हाल यानी भोजन कक्ष भी तब रसोईघर से जुडा हुआ नहीं होता था। ऎसा होने का प्रमुख कारण यह भी था कि भूखंड का आकार प्राचीनकाल में बहुत ही बडा होता था। लेकिन आधुनिक परिवेश में भूखंडों का आकार सीमित होने, फ्लैट सिस्टम और आधुनिक संसाधनों का प्रयोग बढने से रसोईघर के आकार में वृद्धि हो गई है। वास्तुशास्त्र के अनुसार रसोईघर और इसमें काम आने वाली वस्तुएं किस स्थान पर होना शुभ फलदायी हैं, इस जानें।

रसोईघर का महत्व : रसोईघर सम्पन्नता का प्रतीक है। इसका मुख्य कारण यह है कि इसमें खाना पकाया जाता है। खाने से शक्ति और स्फूर्ति मिलती है। भोजन स्वास्थ्य की दृष्टि से अति महत्वपूर्ण है। कहावत भी है- “जैसा अन्न वैसा मन” इसीलिए रसोईघर भवन का एक महत्वपूर्ण अंग है।
किस दिशा में हो रसोईघर : रसोईघर भवन या फ्लैट के दक्षिण-पूर्व कोने में बनाएं। उतर-पूर्व में रसोईघर मानसिक परेशानियां बढाता है। इसके दक्षिण-पश्चिम में होने से जीवन कठिन हो सकता है। रसोईघर शयनकक्ष, पूजाघर या शौचालय के पास नहीं हो, इसका ध्यान रखें।
द्वार : रसोई का दरवाजा यदि उतर या उतर-पश्चिम में हो तो उतम रहता है। दरवाजा चूल्हे के सामने नहीं हो। इससे ची (ऊर्जा) स्वतंत्र रूप से अंदर प्रवेश नहीं कर पाती है। चूल्हा रखने का स्लैब पूर्व दिशा की ओर हो, ताकि खाना पकाने वाले का मुंह पूर्व दिशा की ओर रहे।
गैस चूल्हा : चूल्हा ऎसी जगह रखें जिससे बाहर से आने-जाने वाले पर नजर रखी जा सके। चूल्हा पूर्व की दीवार के पास रखें, ताकि हवा व रोशनी पर्याप्त मात्रा में मिल सके।
माइक्रोवेव ओवन : माइक्रोवेव ओवन में लगातार बिजली का प्रवाह होता रहता है। इसलिए इसे दक्षिण पूर्व में रखें। इसको दक्षिण-पश्चिम में भी रख सकते हैं। यह क्षेत्र शक्ति और संबंधों का भी प्रतीक है। संबंधों में सुधार की दृष्टि से यह हितकर है।
फ्रिज: फ्रिज पश्चिमी क्षेत्र में रखें। यहां पर यह सम्पन्नता व संबंध मजबूत बनाने में सहायक रहता है। शांति व व्यावहारिकता में भी वृद्धि होगी।
सिंक : रसोईघर में पानी तथा चूल्हा आवश्यक तत्व हैं। जहां आग का स्थान दक्षिण-पूर्व है, वहीं पानी का स्थान उतर-पूर्व है। पानी का उतम स्थान उतर दिशा ही है, जो जल तत्व को दर्शाती है। आग व पानी को अलग-अलग रखना आवश्यक है। इसे एक लाइन में नहीं रखें। यदि ऎसा संभव न हो, तो बीच में दो फीट की दीवार लगा दें।
एग्जॉस्ट फेन : रसोईघर की प्रदूषित वायु और धुएं को बाहर निकालने के लिए एग्जॉस्ट पंखा लगाते हैं। इसे पूर्व, उतर या पश्चिम दिशा में लगवाएं।
अन्य सामान : डाइनिंग टेबल उतर-पश्चिम या पश्चिम दिशा में रखें। रसोईघर में भारी सामान भी इसी दिशा में रखा जा सकता है। उतर या पूर्व दिशा को हल्का व साफ-सुथरा रखें।





Lemon and your Personality

25 05 2009

girl with lemon

girl with lemon

नीबू और व्यक्तित्व
नीबू को देखकर मुंह में पानी आना स्वाभाविक है, लेकिन क्या आप जानती हैं कि यही पानी आपके व्यक्तित्व के बारे में बहुत कुछ बता सकता है। आप किस तरह के व्यक्तित्व की धनी हैं- नीबू की एक बूंद जीभ पर डालिए और जान लीजिए।

रैटीक्यूलर एक्टीवेटिंग सिस्टम
यही सिस्टम हमारे व्यक्तित्व का राज खोलता है। खाने को देखकर हमारे मुंह में कितना पानी आएगा यह इसी सिस्टम पर निर्भर करता है। मुंह में बनने वाली लार की मात्रा को यही सिस्टम नियंत्रित करता है। इसकी कार्यविधि पर ही हम खाना खाने के लिए और सामाजिक संबंध बनाने के लिए प्रेरित होते हैं।

अंतर्मुखी और बहिर्मुखी
वैज्ञानिकों का कहना है कि जो लोग अंतर्मुखी होते हैं उनका रैटीक्यूलर एक्टीवेटिंग सिस्टम अधिक प्रभावी होता है और इसलिए ही उनमें किसी भी खाने की चीज को देखकर विशेष रूप से नीबू को देखकर बहुत ज्यादा लार बनती है। कुछ भी खाने पर तो इसकी मात्रा और ज्यादा बढ जाती है। दूसरी तरफ जो लोग बहिर्मुखी होते हैं उनके मुंह में लार कम बनती है क्योंकि उनका आरएस सिस्टम तुलनात्मक दृष्टि से कम प्रभावी तरीके से काम करता है।

आप कैसे हैं
अंतर्मुखी या बहिर्मुखी यह ऎसे जानें-
– नीबू का रस
– किचन स्केल्स
– रूई के फाहे

ऎसे करें
– अपनी जीभ पर बूंद भर नीबू का रस टपकाएं और 10 सैकंड तक पूरे मुंह में इसका स्वाद लें।
– अब रूई के फाहों से जीभ की सारी लार समेट लें।
– इसके बाद किचन स्केल पर उन रूई के फाहों को रखें और प्रत्येक का वजन देखें।

अगर औरों की तुलना में आपका रूई का फाहा भारी है, तो आप अंतर्मुखी हैं और आपका रूई का फाहा दूसरों से हल्का है, तो आप बहिर्मुखी हैं। फाहे का हल्का या भारी होना लार की मात्रा पर निर्भर करता है। वैज्ञानिकों ने अपनी जांच के जरिए इस बात का खुलासा किया है कि बहिर्मुखी लोगों की तुलना में अंतर्मुखी लोगों में 50 प्रतिशत ज्यादा लार उत्पन्न होती है। Lemon and your personality





Gym Terminology

23 05 2009

artजिम शब्दावली
इस नए जमाने में जिम का फैशन आसमान छू रहा है। वहां आपको कई नई मशीनों और रोज काम आने वाले नए शब्द मिलेंगे। कुछ जानकारियां इस तरह हैं।
एब्स- पेट की मांसपेशियों को कहते हैं।
एरोबिक- एक लय में हाथ व पैरों से किया गया व्यायाम।
मसल्स- मांसपेशियां।
सेंट्रल नर्वस सिस्टम- केंद्रिय नाडी तंत्र।
बेंच प्रेस- लेटकर बार पर वजन उठाना।
वॉर्मअप- व्यायाम शुरू करने से पहले शरीर में गर्मी लाने के लिए किया गया हल्का-फुल्का व्यायाम।
ट्रेड मिल- एक ऎसी मशीन जिस पर एक जगह ही खडे होकर चला जाता है।
बारबेल- हाथों से लटक कर किया जाने वाला व्यायाम।
डम्बल्स- हाथों के व्यायाम का एक उपकरण।
सिट अप्स- सिर को ऊपर उठाकर पेट की तरफ ले जाना।
बाईसेप्स- बाहों की मांसपेशियों को कहते हैं।
पुलअप- वजन को कंधे के ऊपर ले जाना।
काल्व्स- कंधे और गर्दन के बीच की मांसपेशियों को कहते हैं।
डेडलिफ्ट्स- वजन को उठाकर सीने के सामने करते हुए पेट तक ले जाना।
ओवर हैड प्रेसेस- वजन को सिर से ऊपर तक ले जाना।
ग्रिप- हाथों की पकड।
मेडिसिन बॉल- उंगलियों की कसरत के लिए एक प्रकार की गेंद।
चिनअप- ठुड्डी को ऊपर करना।
पुल बॉडी वर्कआउट- शरीर को खींचने का व्यायाम।
लाइट वेट- साठ किलो से कम का वजन उठाने का व्यायाम।
हैवीवेट- 75 किलो से अधिक वेट उठाने का व्यायाम।
एक्सरसाइज- व्यायाम।
बार- वजन उठाने की छड।
वर्कआउट- जिम में व्यायाम का पूरा सत्र।
एक्सरसाइज बैण्ड्स- वजन उठाने वाला व्यायाम करते समय मांसपेशियों में खिंचाव न आए इसलिए इलास्टिक की पियां विभिन्न अंगों पर लगाई जाती हैं।its all about gym terminology n gym equipments





यम्मी फूड फैक्ट!

19 05 2009

chocolate

chocolate

बैलेंस्ड डाइट क्या है, इसका खुलासा मुश्किल है। खैर इसकी तह में जाने के बजाय क्यों न भोजन संबंधी मजेदार फैक्ट्स के बारे में जानें।
यह स्वाद है बिंदास

स्वाद की कहानी जायकेदार मसालों से शुरू होती है। मध्यकालीन यूरोप में काली मिर्च, लौंग, अदरक, जायफल जैसे गरम मसालें बहुतायत में मिलते थे। 15वीं सदी तक वेनिस का एकाधिकार इन पर बना रहा। मसालों में केसर या जाफरान सबसे महंगा है। लगभग एक पौंड केसर तैयार करने के लिए 70 हजार से लेकर ढाई लाख तक फूलों की जरूरत होती है। प्राचीन मिस्त्र और रोम में इनका प्रयोग परफ्यूम में और डाई के लिए किया जाता था। सातवीं सदी में केसर चीन पहुंचा और बाद में पूरे यूरोप में इसका प्रयोग होने लगा। आज सबसे ज्यादा केसर आयात करने वाले देश हैं ईरान और स्पेन। वैसे भारत के अलावा इसका प्रयोग मिस्त्र, मोरक्को और टर्की में किया जाता है।
सब्जियों में सबसे आम आलू, प्याज और टमाटर सब्जियों की जान हैं। विश्व में सर्वाधिक व्यापक पैमाने पर आलू और टमाटर की ही खेती होती है, लेकिन सर्वाधिक प्रयोग किया जाता है प्याज। मिस्त्र में करीब पांच हजार वर्ष पूर्व से प्याज सब्जियों में सबसे आम था। यूरोप में भी इसका प्रयोग सबसे आम था। टमाटर लगभग हर रसदार सब्जी में पडता है। लेकिन क्या आप जानते हैं किएक टमाटर से शरीर की विटमिन सी की अस्सी फीसदी तक आवश्यकता पूरी हो जाती है।

कूल-कूल नारियल पानी

नारियल पानी न सिर्फ गर्मी में राहत देता है, बल्कि इसे ब्लड प्लाज्मा के विकल्प के तौर पर भी प्रयोग किया जा सकता है। हरे नारियल में मिलने वाले पानी का पीएच स्तर बहुत आदर्श होता है। यह जीवाणुरहित होता है। इसलिए इसे इमरजेंसी में शरीर में प्लाज्मा के बतौर चढाया जाता है।

वाओ चॉकलेट!

ए गिफ्ट फॉर समवन यू लव… सचमुच चॉकलेट खाने से शरीर में वैसे ही केमिकल्स का स्त्राव होता है, जैसा कि तब होता है, जब आप रोमांटिकमूड में होते हैं। चाय, कॉफी या कोका कोला की तुलना में चॉकलेट में कैफीन कम है। एक औंस की चॉकलेट बार में करीब 6 मिलीग्राम कैफीन होता है तो 5 औंस कॉफी में 40 मिलीग्राम। चॉकलेट में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट्स कैंसर और ह्वदय संबंधी रोगों से बचाते हैं। इंग्लैंड में 1842 में कैडबरी ने विश्व की पहली चॉकलेट बार बनाई। हालांकि संसार में सर्वाधिक चॉकलेट खाते हैं स्विस लोग। चॉकलेट निर्माता पूरे विश्व की 20 फीसदी मूंगफली व 40 फीसदी बादाम का प्रयोग करते हैं।

आइसक्रीम मोल्ड

आइसक्रीम मोल्डका आविष्कार सैन फ्रांसिस्को के 11 वर्षीय लडके फ्रैंक ने गलती से किया था। 1911 में उसने एक रात स्टर स्टिक के साथ सोडा पाउडर और पानी को मिला कर पोर्च में छोड दिया। उस रात वहां तापमान में रिकॉर्ड गिरावट हुई। अगली सुबह जागने पर उसने पाया कि मिश्रण स्टिक में फ्रीज हो कर आइसक्रीम में बदल चुका था। उसने इसे एप्सिकल कहा। 18 वर्ष बाद उसने इस आविष्कार को पेटेंट कराया और पोपस्किल नाम दिया।

थोडा केचअप ट्राई करो

केचअप यानी गाढे सॉस की शुरूआत हुई थाइलैंड से। 1830 में इसकी बिक्री दवा के बतौर होती थी। इसे बनाने में विश्व में नंबर वन है स्वीडन, दूसरे नंबर पर है ऑस्ट्रेलिया।





Mr.Smart

12 05 2009
Neo
Neo

मिस्टर स्मार्ट<br/>व्यायाम व्यक्ति को चुस्त और फुर्तीला बनाता है। अत: कुछ समय निकालिए अपने शरीर को आकर्षक बनाने के लिए।<br/>शक्ल सूरत पर तो अपना जोर नहीं पर उसे आकर्षक बनाना आपके हाथ में है। बस आपको कुछ ध्यान देने की आवश्यकता है-अपने व्यवहार, पहनावे और बात करने के अंदाज पर।<br/>जॉगिंग बनाए फुर्तीला<br/>व्यायाम मनुष्य को चुस्त और फुर्तीला बनाता है। अत: कुछ समय निकालिए अपने शरीर को आकर्षक बनाने के लिए। सुबह जॉगिंग पर निकल जाइए और कुछ समय व्यायाम में लगाइए, तो आप पाएंगे कुछ ही दिनों में स्वयं को फुर्तीला।<br/>भरपूर नींद से आए चमक<br/>सुबह तरोताजा उठने के लिए नींद पूरी लें। प्रयास करें कि रात्रि में समय पर सोएं और प्रात: समय पर उठें। यदि आपकी नींद पूरी होगी तो चेहरा और शरीर फ्रेश लगेगा। 6 से 7 घंटे की नींद अवश्य लें। कोशिश करें कि रात में कम्प्यूटर पर न बैठें ना ही देर रात तक टीवी प्रोग्राम देखें क्योंकि ये दोनों चीजें आंखों को थका देती हैं और समय का कुछ पता भी नहीं लगने देती।<br/>भाषा भी जगाए आशा<br/>स्मार्ट दिखने के साथ-साथ अपनी भाषा में शालीनता लाएं। तहजीब और अच्छे संस्कार का होना भी आकर्षक व्यक्तित्व के लिए आवश्यक है। लोगों, परिवार या दोस्तों के बीच कायदे से ही रहें। कायदा खिलाफी आपको हंसी का पात्र बना सकती है, जो आपके स्मार्ट व्यक्तित्व पर धब्बे का काम कर सकता है। प्रतिदिन स्त्रान करने के बाद थोडा डियो का प्रयोग करें ताकि आपकी पसीने की दुर्गन्ध दूसरों को बोर न करे। साफ-सुथरे वस्त्र पहनें और जूते, जुराब पर भी ध्यान दें।<br/>सफाई से स्मार्टनेस<br/>अपने शरीर की सफाई के साथ-साथ अपने नाखून भी ठीक-ठाक काट कर रखें। पुरूषों के लिए प्रतिदिन दाढी बनाना भी उनके आकर्षक दिखने के लिए जरूरी है। दाढी बनाने के बाद भीनी खुशबू वाला आफ्टर शेव लोशन लगाना न भूलें।<br/>बालों का कमाल<br/>स्मार्ट दिखने के लिए अपने बालों को नजरअंदाज न करें। माह-डेढ माह के बीच बालों को अच्छे पाल्रर से कटवाएं और हैड मसाज करवाना न भूलें। पुरूषों को भी फेशियल की आवश्यकता होती है ताकि चेहरे की त्वचा ढीली न पडे। आप चाहें तो आकर्षक लगने के लिए अपनी आंखों की भौहों को सही आकार भी दिलवा सकते हैं।<br/>वस्त्र भी चमकाएं व्यक्तित्व<br/>जो भी वस्त्र पहनें, ध्यान दें, उनकी फिटिंग अच्छी हो ताकि आप वस्त्रों में चुस्त दिख सकें न कि ढीले-ढीले। जूते, सैंडिल, जूती या चप्पल किन वस्त्रों से मेल खाते हैं, ध्यान दें। कुरते, चूडीदार, पायजामे के साथ यदि आप जूते पहनेंगे तो आप हंसी का पात्र बन जाएंगे।





Smart Sofa Interior

12 05 2009
sofa
sofa

ड्रॉइंगरूम की शान<br/>आपका घर अगर छोटा है, तो बाजार से खरीदने के बजाय सोफे को जगह के अनुसार बनवाना सुविधाजनक रहता है।<br/>आज बाजार में हर तरह के बेहतरीन डिजाइन के सोफे मौजूद हैं, तो आपको ड्रॉइंग रूम की शोभा बढाते हैं। बस, जरूरत है सोफे खरीदते व सजाते समय कुछ विशेष बातों का ख्याल रखने की।<br/>जगह का चयन<br/>सोफा खरीदते या बनवाते समय उपलब्ध स्थान का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। आपका घर यदि छोटा है, तो बाजार से खरीदने की बजाय सोफे को जगह के अनुसार बनवाना सुविधाजनक रहता है। ड्रॉइंग रूम बडा है, तो डबल सोफे को उपयोग में लें जिसे अलग-अलग स्थानों पर लगाएं। बडे कमरे के लिए गहरे रंगों के और टीक की लकडी के सोफे ही बेहतरीन होते हैं। ड्रॉइंग रूम छोटा है, तो उसमें आप सोफे की व्यवस्था इस प्रकार करें कि आने-जाने में कठिनाई ना हो। इसके लिए सिंगल सोफे से मेल खाती कुर्सियों का चयन करें। <br/>सहयोगी वस्तुएं<br/>सोफोसेट के साथ सेंटर टेबल भी अवश्य रखें। उस पर फूलों के गुलदस्ते, पेपरवेट, ऎश-ट्रे, पत्र-पत्रिकाएं या अन्य कोई कलात्मक सामान रखने से कमरे की शोभा बढती है। सोफा-सेट के ठीक आगे कालीन, चटाई या अच्छे रंग की मोटी दरी बिछाएं। सोफा कवर खरीदते समय दीवारों के रंग का चयन करें। सोफा कवर को समय-समय पर बदलती रहें।<br/>साफ-सफाई<br/>सोफा-सेट की नियमित रूप से सफाई व उसकी साज-संवार जरूरी है। सोफा-सेट के बचाव और रख-रखाव के लिए सीट, बैक तथा हैंडिल का पूरा सैट कॉटन, सिल्क अथवा साटन के कपडे का सिला हुआ रेडीमेड मिलता है, जिसे प्रयोग करने से सोफा-सेट की सुरक्षा तो बढती ही है, साथ ही उसके आकर्षण में भी बढोतरी होती है। गद्दियों पर चढाए जाने वाले कुशन कवर भी सूती, साटन या सिल्क में आकर्षक रंगों और डिजाइनों में मिलते हैं, जिनका उपयोग सोफा-सेट के पीछे की ओर रखी जाने वाली गद्दियों के रख-रखाव के लिए कर सकते हैं।<br/>अगर सोफे को वास्तुशास्त्र के अनुसार रखना चाहें, तो सोफा कभी भी पूर्वी या उत्तरी दीवार की ओर न रखें। सोफा हमेशा पश्चिमी या दक्षिणी दीवार की ओर रखें।





Fashionable high heels

6 05 2009
highheels
highheels

फैशन हील्स<br/>फैशन के हिसाब से अब सैंडल्स की हील्स में भी बहुत वैरायटी आ गई है। ब्लॉक और पेन्सिल हील के अलावा अब कोनिकल और स्पाइकी शेप की हील्स भी बाजार में आने लगी हैं।<br/>साथ ही-<br/>- लुइस हील : ये हील्स पीछे और किनारों की तरफ से मुडी हुई होती हैं।<br/>- एश्ले हील्स : क्यूब्स के समान होती हैं और एश्ले शूज के नाम पर इनका नाम पडा है।<br/>- पेग्ड हील्स : इनसे हर किसी को चलने-फिरने में आसानी रहती है।<br/>- किटन हील्स : बहुत ही आरामदायक होती हैं। आप इसे सारे दिन पहने रह सकती हैं।<br/>- स्पाइरल हील्स : हर युवती की पसंद बनी हुई हैं ये हील्स।<br/>क्या पहनें<br/>अगर आप हाई हील्स पहनने जा रही हैं, तो आप स्टिलेटो पहन सकती हैं। इससे आप आधुनिक दिखेंगी और आपका पॉश्चर भी बॉडी के हिसाब से बदल जाएगा। सारा दिन घर पर आराम से रह सकें इसके लिए किटन हील्स बढिया रहेंगे। आप लंबी दिखें और चलने में भी असानी रहे इसके लिए वेज हील्स का तो कहना ही क्या। अगर आप दुल्हन बनने जा रही हैं, तो लकडी की हाथ से बनी हुई और एक्रिलिक हील्स जो कि कांच की हील का लुक देती हैं पहनें। आप पर बहुत जमेंगी। इनके साथ ही मेटल और स्टील की पतली लेयर से कवर की हुई हील्स को न भूल जाएं। ये आपके व्यक्तित्व को आकर्षक बनाने में मदद करेंगी और सबसे बढिया तो पॉलीयूरेथेन सोल वाली हील्स पहनें। ये बहुत ही टिकाऊ और मजबूत रहती हैं।<br/>कलर<br/>अब वो जमाना गया जब केवल काली और भूरे रंग की हील्स आती थीं। अब तो आप अपने आउटफिट्स से मिलते-जुलते रंग की हील्स खरीद सकती हैं। कढाई, डेनिम और ग्लिटर वाली हील इन दिनों सबसे ज्यादा पसंद की जा रही हैं।<br/>परफेक्ट लुक<br/>- अगर आपने जीन्स पहनी है, तो आप पर स्पाइकी हील्स बढिया लगेंगी।<br/>- पार्टी में केवल वेज हील्स ही पहनें।<br/>- स्कर्ट की लंबाई के हिसाब से आप सैंडल्स या बूट पहन सकती हैं।<br/>- घुटनों से नीचे तक की स्कर्ट पर स्टिलेटो हील्स ज्यादा अच्छी लगती हैं।<br/>- अगर आप लंबी हैं, तो किटन हील्स आप पर खूब फबेगी। <br/>खरीदने से पहले<br/>हाई हील खरीदने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखें-<br/>- हाई हील के सैंडल्स या जूते आपके पांव में फिट हैं। पहनकर और थोडा चलकर देख लें।<br/>- अपने पांव की शेप के हिसाब से ही हील खरीदें। अगर आपके पांव की शेप जूते की शेप से नहीं मिलती तो, आपको पीठ दर्द ही शिकायत हो सकती है।<br/>- हील की फिटिंग चेक कर लें।<br/>- अगर पतली हील है, तो उस पर मेटल की कोटिंग जरूर होनी चाहिए।

high heels always remain in fashion and their is vast range of heels namely luis heels,Aishley heels,Kitten heels,spiral heels,stiletto heels,acrylic heels and many more……….





Neha Dhupia says’ No one is perfect…..

6 05 2009
NehaDhupia
NehaDhupia

कोई परफेक्ट नहीं होता<br/>आज हर लडकी ब्यूटी क्विन बनने का सपना देखती है। मैंने भी देखा और उसे हकीकत में बदलने में कामयाब रही।<br/>छोटे परदे के धारावाहिक “राजधानी” से अपना कैरियर शुरू करने वाली नेहा धूपिया आज अपने कैरियर के ऎसे पायदान पर खडी हैं, जहां से राहें सफलता की ओर हो जाती हैं। “फेमिना मिस इंडिया-2002” का खिताब हासिल करने के साथ मॉडलिंग और कई बडी कंपनियों की एड फिल्मों में काम करना नेहा के लिए काफी फायदेमंद साबित हुआ। उन्होंने एक म्यूजिक एलबम में काम किया है और “मुसाफिर हूं यारों” धारावाहिक में एंकर की भूमिका भी निभाई है। नेहा बॉलीवुड की ऎसी अभिनेत्रियों में से हैं, जो कम समय में पहचान बनाने में कामयाब रहीं। हैरी बावेजा की फिल्म “कयामत” से नेहा ने बॉलीवुड में दस्तक दी थी। <br/>छोटू कहकर बुलाते हैं<br/>अगर दुनिया में मुझे सबसे प्यारा है, तो वो है मेरा परिवार। घर के सब लोग मुझे छोटू कहकर बुलाते हैं। मेरे पापा नेवी में ऑफिसर हैं। मम्मी जो मेरी सबसे अच्छी दोस्त भी हैं, शूटिंग या टूर पर मेरे साथ ही होती हैं। एक छोटा भाई भी है, हरदीप। हरदीप जैट एयरवेज में नौकरी कर रहा है। जितना भी हो, मैं अपना समय परिवार वालों के साथ ही बिताना पसंद करती हूं।<br/>मैं मदर टेरेसा तो नहीं<br/>कोई भी शख्स अपने जीवन में परफेक्ट नहीं होता। मैं भी नहीं हूं, लेकिन यह सही है कि सभी में कोई न कोई खास गुण जरूर होता है। इंदिरा गांधी की लीडरशिप, मदर टेरेसा की उदारता, समाज सेवा, दीन-दुखियों का दर्द बांटने का गुण और ऎश्वर्या की खूबसूरती भले ही हमारे पास नहीं हो, लेकिन हम इन्हें पाने का प्रयास तो कर ही सकते हैं और मैं अपना काम कर रही हूं।<br/>हंसते रहने वाले पसंद<br/>अपने काम को लेकर मैं पूरी तरह कॉन्फीडेंट रहती हूं। मॉडलिंग और एक्टिंग की दुनिया में कदम मैंने इतिहास में ऑनर्स की पढाई करने के बाद रखा और आज खुशी है कि यहां तक तो पहुंच गई हूं। मुझे कॉन्फीडेंट और सदा हंसने वाले लोग पसंद हैं।<br/>योगा करती हूं<br/>मिस इंडिया कॉन्टेस्ट की तैयारी के दौरान मैंने योगा और मेडीटेशन करना शुरू किया था। मानसिक रूप से स्वस्थ रहने और अपनी मेहनत को अंजाम तक पहुंचाने के लिए ये दोनों ही काम महत्वपूर्ण साबित हुए। यही कारण है कि मैं आज भी योगा करना नहीं भूलती। <br/>पूरा हुआ ख्वाब<br/>मैं अखबारों और टीवी पर सुष्मिता सेन और एश्वर्या राय के बारे में सुना और पढा करती थी। देश की हर लडकी ब्यूटी कि्वन बनने का सपना देखती है और मैंने भी वही सपना देखा था। मुझे मेरे दोस्त ने एक चांस लेने को कहा और मैं कामयाब रही।<br/>कुछ हटकर है पसंद<br/>खाने-पीने के मामले में मेरी पसंद शुरू से अलग ही रही है। मुझे सी फूड बेहद पसंद है। नारियल पानी भी मुझे पसंद है। खाने में ज्यादा से ज्यादा सब्जियां हों और फूट्स शामिल हों, तो मजा दुगना हो जाता है। <br/>फिल्में देखने का शौक<br/>मुझे शुरू से ही फिल्में देखने का शौक रहा है। टॉम हैंक्स, आमिर खान और जूलिया रॉबर्ट मेरे फेवरेट स्टार्स हैं। इनकी फिल्मों को मैंने कई-कई बार देखा है। वैसे टाइम पास करने के लिए मुझे मैग्जीन पढना पसंद है और शॉपिंग के दौरान म्यूजिक एलबम और फिल्मों के कैसेट खरीदने का मुझे बेहद शौक है। अगर कभी मौका मिला, तो आमिर और शाहरूख खान के साथ किसी फिल्म में काम जरूर करूंगी। <br/>Neha says’ no one is perfect,and mention her likes and dislikes,her favorite cuisine and many more……





Girls are better than Boys

30 04 2009
girls are the best

girls are the best

लडकियां लडकों सी नहीं होतीं
 यह जानना रोचक होगा कि पुरूषों और महिलाओं के सोच और स्वभाव में कैसे-कैसे अंतर होते हैं।
         पुरूषों के लिए महिलाओं का सौंदर्य-व्यक्तित्व महत्व रखता है, जबकि महिलाओं पुरूषों की पद-प्रतिष्ठा व संवेदनशीलता से प्रभावित होती हैं। 
          तनाव, अवसाद या कुंठा की स्थिति में पुरूष खामोश रहते हैं, महिलाओं ऎसी स्थिति में अधिक बोलती हैं। 
         महिलाओं भावनात्मक व पुरूष तर्कसंगत व व्यावहारिक होते हैं। दिमाग का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं।
 
         महिलाओं एक समय में एकाधिक कार्य कर सकती हैं। खाना बनाते हुए मोबाइल पर बातें, सहेलियों से गेट मीटिंग जैसे कार्य बखूबी कर सकती हैं, जबकि पुरूष ऎसा नहीं कर पाते।
        पुरूषों पर भरोसा किया जाए या नहीं, यह बात उनकी एक जीन तय करती है, जो 17 अलग-अलग आकारों में होती है। सबसे लंबी जीन वाले पुरूष भरोसेमंद साथी साबित होते हैं। महिलाओं में निर्भरता का भी कारण यही जीन है। वे हमेशा ऎसे पुरूष का साथ चाहती हैं, जो उनके बच्चों के लिए अच्छा पिता साबित हो।
        महिलाओंका मस्तिष्क चेहरे को पढने की अjुत क्षमता रखता है। जबकि पुरूष इसमें चूक जाते हैं। उदाहरण के लिए, जब तक वे स्त्री की आंखों में आंसू नहीं देख लेते, उन्हें समझ ही नहीं आता कि वह दुखी है। शायद इसलिए महिलाओं पुरूषों की तुलना में चार गुना ज्यादा रोती हैं, ताकि पुरूष नजरअंदाज न करें।
 
       पुरूष स्थितियों के बारे में तार्किक ढंग से सोचते हैं। दूरदर्शिता से उसका हल निकालते हैं। जबकि महिलाओं को छोटी-छोटी घटनाएं भी परेशान करती हैं, वे ज्यादा घबराती हैं। 
          जोखिम लेना व प्रयोग करना पुरूषों के जैविक गुण हैं, जबकि महिलाओं सुरक्षा के पहलू पर ध्यान देती हैं। पुरूष अधिक स्वतंत्र ढंग से कार्य कर पाते हैं, जबकि महिलाओं दूसरों की राय पर काम करना ज्यादा पसंद करती हैं। 
             दर्द झेलने और उबाऊ कार्य करने की क्षमता महिलाओं में पुरूषों से अधिक होती है। अंत में कहा जा सकता है कि तमाम जैविक भिन्नताओं के बावजूद सच्चाई यह है कि मनुष्य का मस्तिष्क सीमाओं को नहीं मानता, वह चुनौतियां लेता है
        स्थितियां ्रजरूरत के हिसाब से बदलती भी हैं। स्त्री-पुरूष के बीच भिन्नताएं भी समय आने पर खत्म होती हैं। 
         
 पुरूषों के मस्तिष्क में छोटे-छोटे कई बॉक्स होते हैं, जिनमें करियर, पत्नी, बच्चे फिट होते हैं। एक बार में वे एक बॉक्स के बारे में बात करते हैं। महिलाओं का मस्तिष्क कई तारों से मिलकर बने बडे बॉल की तरह है, जिसमें सभी बातें एक-दूसरे से जुडी होती हैं। इंटरनेट की तरह काम करता है उनका मस्तिष्क। इसलिए घटनाएं ज्यादा याद रखती हैं वे।
 
         पुरूष घंटों उबाऊ टीवी कार्यRम देख सकते हैं। खाली बैठ सकते हैं। पर महिलाओं खाली नहीं बैठतीं। उन्हें तो यह भी बुरा लगता है कि पुरूष खाली कैसे बैठते हैं। परेशान होने पर पुरूष खामोशी पसंद करते हैं, वहीं महिलाओं समस्याएं बांटना चाहती हैं। लेकिन इसका अर्थ हमेशा यह नहीं होता कि वे समाधान चाहती हैं। पुरूष से पूछें कि वह क्या महसूस करता है तो वह बताएगा कि क्या सोचता है, लेकिन स्त्री से पूछें कि वह क्या सोचती है तो वह बताएगी कि क्या महसूस करती है।
These are the some of the basic difference between Girls and Boys Which Prove
Girls are far more BETTER than the boys!!!!!
 




Get Ready to be Trendy And Fashionable

30 04 2009

 

Fashionable dresses

Fashionable dresses

हो जाएं रेडी

आजकल जितनी तेजी से फैशन और ट्रेंड बदलते हैं उतनी ही तेजी से युवाओं की पसंद भी बदल जाती है। इसी के चलते रेडीमेड गारमेंट युवाओं की पहली पसंद बन गए हैं। रेडीमेड गारमेंट पसंद करने के पीछे क्या है उनकी सोच और नजरिया। आइए देखें जरा

फैशन के साथ               फैशन के इस दौर में जहां रातों-रात ट्रेंड बदल जाता है। वहां फैशन के हिसाब से रेडीमेड गारमेंट पहनकर ही चला जा सकता है। एम. कॉम. फाइनल इयर की छात्रा सरिता कहती है कि रेडीमेड गारमेंट में फैशन का जो ट्रेंड चल रहा है वह आसानी से मिल जाता है और फैशन के साथ चलने की हसरत भी पूरी हो जाती है।

डिफरेंट लुक                       रेडीमेड गारमेंट के बढते चलन के पीछे सबसे बडी बात यह है कि इन्हें फैशन डिजाइनर डिजाइन करते हैं और इसलिए ही ये टेलर से सिलवाए हुए कपडों से हटकर डिफरेंट और मॉडर्न लुक देते हैं। रेडीमेड गारमेंट पहनने को शौकीन कृतिका इसी के चलते ऎसे कपडे पहनना पसंद करती है।

नया पैटर्न                       रेडीमेड गारमेंट्स में जितने डिफरेंट पैटर्न और डिजाइन आते हैं उस तरह का पैटर्न फेब्रिक लेकर सिलवाने में नहीं आ पाता है। यही बात है कि युवाओं में ऎसे कपडों के प्रति दीवानगी बढ रही है। कॉलेज स्टूडेंट राजेश का कहना है कि रेडीमेड गारमेंट की तो बात ही कुछ अलग हटकर होती है। इतने मनचाही डिजाइन, रंग और पैटर्न रेडीमेड में ही मिलते हैं।

पाश्चात्य रंगों में ढले                पाश्चात्य संस्कृति को अपनाने वाली आज की युवा पीढी कपडे भी वेस्टर्न टच के ही पहनना पसंद करते हैं। एलएलबी कर रहीं रूचि कहती हैं कि वेस्टर्न आउटफिट्स जैसे जीन्स, स्कर्ट, केप्री आदि का भव्य कलेक्शन सिर्फ रेडीमेड में ही मिलता है।

परेशानियों से छुटकारा                    रेडीमेड गारमेंट में फेब्रिक खरीद कर लाने और सिलवाने का कोई झंझट नहीं होता। सीधे बाजार में मनपसंद ड्रेस खरीदकर पहनी जा सकती है।

सस्ता और अच्छा                    आजकल ड्रेस मेटेरियल लेकर उसे सिलवाना बहुत महंगा पडता है और टेस्ट का व मनपसंद का रंग भी नहीं मिल पाता है। वहीं दूसरी तरफ रेडीमेड कपडे सस्ते भी और वैरायटी भी न जाने कितनी-कितनी। साथ ही ट्राइल और अल्ट्रेशन की सुविधा भी।

पर्सनेलिटी के अनुरूप                रेडीमेड गारमेंट पहनने से व्यक्तित्व में भी निखार आता है। लेटेस्ट ट्रेंड के हिसाब से बने ये रेडीमेड गारमेंट पर्सनेलिटी को कुछ अलग हटकर लुक देते हैं। ऎसे कपडों के प्रति युवाओं की पसंद को देखते हुए फैशन डिजाइनर अंजली पाटनी का ऎसा कहना है। उनका कहना है कि ये परिधान युवाओं की भीड से अलग दिखने की चाहत को पूरा करते हैं।

 

Latest trend facinates the youth,and according to latest trend the stiched dresses are out of fashion these days,and everyone want to look trendy and fashionable and for that purpose the Readymade garments are the best option.So Get Ready to be Trendy!!!!!